विज्ञापन
विज्ञापन

इंजीनियरिंग कॉलेजों में अगले सत्र से छात्रों को रोजगार देने वाले कोर्स ही पढ़ाए जाएंगे

एजुकेशन डेस्क, अमर उजाला, कानपुर Updated Wed, 17 Jul 2019 05:57 PM IST
फाइल फोटो
फाइल फोटो - फोटो : अमर उजाला
ख़बर सुनें
देशभर के इंजीनियरिंग कॉलेजों में अब उन्हीं कोर्स को चलाने की अनुमति मिलेगी जिनकी डिमांड इंडस्ट्री में होगी और जिन कोर्स को करने के बाद छात्रों को बेरोजगार नहीं घूमना पड़ेगा। ऑल इंडिया काउंसिल फॉर टेक्निकल एजुकेशन (एआईसीटीई) ने यह फैसला लिया है। 
विज्ञापन
काउंसिल ने यह भी तय किया है कि अगले सत्र यानी 2020-21 से देशभर के इंजीनियरिंग कॉलेजों में आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (एआई), मशीन लर्निंग, ब्लॉक चेन, साइबर सिक्योरिटी, रोबोटिक, इंटरनेट ऑफ थिंग्स (आईओटी), क्वांटम कंप्यूटिंग, डेटा साइंस, थ्रीडी प्रिंटिंग और डिजाइन जैसे कोर्स को ही चलाने की अनुमति दी जाएगी।

काउंसिल के क्षेत्रीय अधिकारी मनोज तिवारी ने बताया कि अगले सत्र से नए कॉलेजों को भी मान्यता नहीं प्रदान की जाएगी। इससे इंजीनियरिंग की शिक्षा में सुधार आएगा और छात्रों की स्थिति भी बेहतर होगी।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन

Recommended

फैशन इंडस्ट्री दे रही है खास मौके, इन्वर्टिस संग करें खुद को तैयार
Invertis university

फैशन इंडस्ट्री दे रही है खास मौके, इन्वर्टिस संग करें खुद को तैयार

अपनी संतान की लंबी आयु के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में संतान गोपाल पाठ और हवन करवाएं - 24 अगस्त 2019
Astrology Services

अपनी संतान की लंबी आयु के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में संतान गोपाल पाठ और हवन करवाएं - 24 अगस्त 2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Shimla

छात्रों की बढ़ीं मुश्किलें, बीएड के बाद भी नहीं दे पा रहे हैं टेट

रूसा में ग्रेजुएशन करने वाले सैकड़ों छात्रों का भविष्य अधर में लटक गया है। सैकड़ों छात्र बीएड नहीं कर पा रहे हैं, तो कई ऐसे हैं जिन्हें बीएड पास करने के बावजूद टेट के लिए पात्र नहीं माना जा रहा।

17 अगस्त 2019

विज्ञापन

उत्तराखंड में बारिश का कहर, नदिया बनीं सैलाब, हर तरफ तबाही का मंजर

बारिश से उत्तराखंड में तबाही का आलम है। बारिश की वजह से सड़कें टूट चुकी हैं। पुल के ऊपर से पानी बह रहा है। कई पहाड़ दरक गए हैं। मकान के अंदर घुसकर पानी ने तबाही मचाई है।

18 अगस्त 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree