लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Kanpur ›   after womens complaining man hanged against

महिला ने दुष्कर्म के झूठे मुकदमे में फंसाया तो दो बेटियों के पिता ने लगा ली फांसी

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, हमीरपुर Published by: प्रभापुंज मिश्रा Updated Fri, 20 Dec 2019 03:13 PM IST
संतोष (फाइल फोटो)
संतोष (फाइल फोटो) - फोटो : amarujala
विज्ञापन
ख़बर सुनें
हमीरपुर के राठ में दुष्कर्म के झूठे मुकदमे के डर से रिहुंटा गांव के प्रधान रूप सिंह के बड़े भाई व दो बेटियों के पिता ने खुदकुशी कर ली। मृतक पर दुष्कर्म के आरोप की शिकायत पुलिस ने जांच में झूठी पाई थी। इसके बाद महिला ने जिला मुख्यालय जाकर एफआईआर दर्ज कराने की धमकी दी। महिला के अफसरों से मिलने हमीरपुर जाने की जानकारी से बढ़े तनाव के बीच उसने घर में ही फांसी लगाकर जान दे दी। 


बुधवार देर रात अपने ही घर में छत के कुंडे से फंदा बांधकर खुदकुशी करने वाले संतोष कुमार राजपूत (40) पुत्र जगदीश चिंकासी के एक विद्यालय में चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी थे। मृतक के बड़े भाई दयाशंकर ने बताया कि चार दिन पहले एक महिला ने संतोष पर दुष्कर्म का आरोप लगाया था। जांच में पुलिस ने शिकायत फर्जी पाई थी। महिला की शिकायत खारिज होने के बावजूद संतोष ने दुष्कर्म के आरोप से घर की प्रतिष्ठा पर असर पड़ने की बात कही।

उसे निराशा से निकाल पाते इससे पहले बुधवार दिन में महिला ने जिला मुख्यालय पर अफसरों से मिलकर एफआईआर कराने की बात कही और हमीरपुर चली गई। इससे दबाव में आए संतोष ने रात में सबके सो जाने के बाद फांसी लगा ली। बृहस्पतिवार सुबह उसे फंदे से झूलता देख आनन-फानन उतारा। गोहांड सीएचसी से लेकर गए, जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया।

चिकासी थाने के एसओ आरके पटेल ने बताया कि संतोष पर लगे आरोप की शिकायत सही नहीं पाई गई थी लेकिन वह आरोप से दबाव में थे। इसी दबाव के चलते आत्महत्या कर ली। संतोष कुमार राजपूत की खुदकुशी के मामले की चर्चा के दौरान ग्रामीणों और पुलिस ने बताया कि संतोष पर आरोप लगाने वाली महिला पूर्व में गांव के तीन और लोगों पर भी दुष्कर्म का आरोप लगा चुकी है।

 

पति से अलग होकर मायके में रह रही महिला ने 21 अक्तूबर को तीन लोगों पर दुष्कर्म व शिकायत करने पर तेजाब से जलाने की धमकी का आरोप लगाया था। पुलिस ने मामला दर्ज किया था। आरोप में घिरे से लोगों ने भी महिला के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई थी। बाद में दोनों के बीच सुलह-समझौते की बातें होने लगी थीं।

प्रधान के परिवार का कहना है कि आरोप लगाने वाली महिला सोमवार को उनके खेत में बकरी चरा रही थी। संतोष ने फसल को नुकसान होने की बात कहते हुए बकरी चराने का विरोध किया था। इस पर संतोष से झगड़ते हुए दुष्कर्म का आरोप लगाया था।

संतोष कुमार राजपूत के फांसी लगाकर जान देने से घर में कोहराम मच गया। मृतक के तीनों भाई किस्मत को कोस रहे थे। बदहवास हुई मृतक की पत्नी रामकुमारी आरोप लगाने वाली महिला पर सवाल उठा रही थीं। संतोष की पुत्रियां मोहनी, नीतू व पुत्र छोटू, अनुज का रो-रो कर बुरा हाल था।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00