घर में स्वागत असीम

Kanpur Updated Mon, 17 Sep 2012 12:00 PM IST
कानपुर। रविवार दोपहर 12:58 बजे सेंट्रल स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर-5 पर नीलांचल एक्सप्रेस के रुकते ही एसी कोच का गेट आहिस्ता से खुला और काले कुर्ते में बड़े बाल और दाढ़ी में इकहरे बदन के युवक ने गेट पर आकर अभिवादन में हाथ हिलाया। इसके साथ ही प्लेटफार्म पर भीड़ में करंट दौड़ गया। ढोल-ताशे बजने लगे, तिरंगे लहराए और ‘वंदेमातरम्’, ‘असीम त्रिवेदी तुम संघर्ष करो, हम तुम्हारे साथ हैं’ नारों से सेंट्रल स्टेशन गूंज उठा। यह शख्स और कोई नहीं खुद कार्टूनिस्ट असीम त्रिवेदी थे जो मुंबई जेल से छूटने के बाद रविवार को अपने घर लौटे हैं।
रविवार दोपहर 12:30 बजे से ही असीम की अगवानी के लिए ढोल-ताशे बजाते युवकों का जत्था प्लेटफार्म पर डट गया था। तिरंगा लहराने वालों की भीड़ पर लोगों की निगाहें टिकी थीं। पीछे से भारी फोर्स भी पहुंच गई तो यात्रियों का कौतूहल और बढ़ गया। नीलांचल एक्सप्रेस से असीम जैसे ही उतरे तो उन्हें गले लगाने, माला पहनाने की होड़ मच गई, धक्कामुक्की शुरू हो गई। असीम के परिजन भी थे। स्वागत को आए अखिल भारतीय उद्योग व्यापार मंडल के पदाधिकारियों और आरपीएफ दस्ते ने असीम को सुरक्षा घेरे में ले लिया। धक्कामुक्की के चलते असीम कई बार लड़खड़ाए। फूलों की बारिश के बीच असीम को घेरे भीड़ बाहर आई। इस मौके पर असीम के पिता अशोक त्रिवेदी, मां प्रतिभा त्रिवेदी और अखिल भारतीय उद्योग व्यापार मंडल के महामंत्री ज्ञानेश मिश्र सहित बड़ी संख्या में लोग मंौजूद रहे।
स्टेशन से निकलने के बाद असीम का काफिला घंटाघर पहुंचा। यहां भारत माता की प्रतिमा पर माल्यार्पण करने के बाद वे अपने पैतृक निवास भूसाटोली पहुंचे। वहां से काफिला फूलबाग पहुंचा, जहां उन्होंने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और डा. राममनोहर लोहिया की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। बाद में वे अपने घर शुक्लागंज चले गए।


इनसेट--
भ्रष्टचार के खिलाफ
जारी रहेगी जंग:असीम
कानपुर। ‘मेरा आंदोलन भ्रष्टाचार के खिलाफ है। मेरी लड़ाई राष्ट्रद्रोह की धारा 124 ए के खत्म न होने तक जारी रहेगी। इस लड़ाई में देश की जनता मेरे साथ है। यह जनसमर्थन का ही प्रमाण है कि राष्ट्रद्रोह जैसे मामले में मेरी गिरफ्तारी के बाद सरकार झुकी क्योंकि न्यायपालिका ने भी सच्चाई का साथ दिया।’ सेंट्रल स्टेशन पर जोरदार स्वागत के बीच असीम पत्रकारों से रू-ब-रू थे। उन्होंने कहा कि जिस कार्टून पर उन्हें गिरफ्तार किया गया, उसके पीछे कोई गलत भावना नहीं थी। यह कार्टून भ्रष्टाचारियों को नसीहत देने वाला था। उन्होंने कहा कि असल में राष्ट्रद्रोही वे हैं जो अरबों-खरबों का घोटाला करते हैं और करतूतें उजागर होते देख तरह-तरह की साजिश रचते हैं। लेकिन, जनता सबकी करतूतें जान गई है। जब असीम से पूछा गया कि उनका यह आरोप कांग्रेस या यूपीए सरकार के मंत्रियों पर है तो वे थोड़ा रुककर बोले कि उनका विरोध किसी दल विशेष के लिए नहीं बल्कि भ्रष्टाचारियों के खिलाफ है। उन्होंने कहा कि वे कार्टून बनाना जारी रखेंगे और उनके कार्टून अन्याय के खिलाफ होंगे।
मां प्रतिभा त्रिवेदी ने कहा कि बेटे के जेल जाने का कोई गम नहीं क्योंकि उसने राष्ट्रहित में भ्रष्टाचार का विरोध किया। इससे तो अपने शहर और देश का नाम रोशन हुआ है।

Spotlight

Most Read

Rohtak

सीएम को भेजा पत्र

सीएम को भेजा पत्र

23 जनवरी 2018

Rohtak

एमटीएफसी

23 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: कानपुर में गंगा बैराज में जा गिरी कार और फिर...

वो कहते हैं न जाको राखे साईंया मार सके न कोई। ऐसा ही कुछ कानपुर में सोमवार देखने को मिला। कोहरे कि वजह से एक कार गंगा बैराज में जा गिरी। वहीं मौके पर मौजूद गोताखोरों ने कार सवार सभी लोगों की जान बचा ली है।

22 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper