शॉप, पेट्रोल पंप, ठेला, हर जगह ‘डांड़ी’ का खेला

Kanpur Updated Mon, 10 Sep 2012 12:00 PM IST
आशुतोष मिश्र
कानपुर। शहर में ज्यादातर दुकानों, ठेलेवालों और सब्जी मंडियों में चल रहे बांटों पर किसी तरह की कोई मुहर नहीं लगी है। कई ठेले वाले तो बांट की जगह ईंट से तौर रहे हैं। तराजू पर सत्यापन की कोई जानकारी नहीं है। पेट्रोल पंपों में रखे नपने पर भी मुहर नहीं है। मिलावट की जांच के बंदोबस्त नहीं है। रविवार को ‘अमर उजाला’ ने इसकी पड़ताल की तो यह खुलासा हुआ जबकि जिला बांट-माप विभाग जांच की औपचारिकता ही निभा रहा है।

सीन-1
पोस्टमार्टम हाउस स्वरूप नगर के सामने स्थित अशोका पेट्रोल पंप
बाइक में पेट्रोल भरने की बात कहते हुए जांच के लिए कहा तो सेल्समैन ने बताया कि आज जांच की कोई व्यवस्था नहीं है। वैसे सोख्ता पेपर रहता है। उस पर एक बूंद पेट्रोल डालने पर अगर उड़ जाए तो सही और निशान बना रहे तो मिलावटी है। नपने पर मुहर न होने पर सेल्समैन ने कहा कि पता नहीं कैसे नहीं दिख रही है।

सीन-2
अशोक नगर स्थित कैलास मिष्ठान भंडार
काउंटर पर 1 किलो बर्फी (250 रुपये) डिब्बा हटाकर तौलने को कहा तो कहा गया कि 10 रुपये अलग से पड़ेंगे। वजन कराने पर डिब्बा 80 ग्राम का मिला। यानी 20 रुपये की बर्फी कम मिलती। इलेक्ट्रानिक तराजू पर मुहर वाली जगह पर काला टेप था। मालिक ने कहा कि वह इस साल मुहर लगवाने की रसीद दिखा सकते हैं।

सीन-3
गुमटी में ठेले पर फल बेचते दुकानदार
2 दुकानदारों के बांट देखे तो उन पर नई मुहर नहीं थी। 1 बांट पर 2010 की और दूसरे पर 2011 की मुहर लगी थी। 1 फलवाला पत्थर का बांट रखे था। पूछने पर बताया कि यह 50 ग्राम है। तुला वाली तराजू के बांट हटाए गए तो सामान रखने की तरफ थोड़ा झुका नजर आया।

बोले जिम्मेदार
सभी की चेकिंग संभव नहीं है। शिकायत करने पर तुरंत कार्रवाई होती है। चालू वित्तीय वर्ष में अब तक विभाग ने करीब 17 लाख रुपये जुर्माना वसूला है।
आरपी सिंह, जिला बांट-माप अधिकारी



ध्यान दें उपभोक्ता
बांटों पर वर्ष की मुहर अवश्य देखें। कपड़ा खरीदते समय मीटर के दोनों किनारों पर निरीक्षक की सील देखें। तराजू की भुजा पर निरीक्षक की सील होती है। सील टूटी होने पर एलपीजी सिलेंडर न लें। सिलेंडर तौलकर लें। पेट्रोल और डीजल लेते समय शून्य मीटर जरूर देखें। डिब्बा बंद वस्तुओं पर निर्माता पैकर्स और आयातकर्ता का नाम, पता होना चाहिए। इन पर भार, निर्माण व पैकिंग की तिथि और एमआरपी और कंज्यूमर केयर सेल नंबर चेक करें।

व्यापारियों के लिए यह जरूरी
हर वर्ष अपने बांट और माप विभाग से सत्यापित कराएं और प्रमाणपत्र लें। इलेक्ट्रानिक तराजू के साथ अधिकतम क्षमता के 1/10 भाग का सत्यापित बांट जरूर रखें। डिब्बा बंद वस्तु की तौल के लिए सत्यापित तौल मशीन रखें। सभी डाक्टर, नर्सिंग होम, हास्पिटल, हेल्थ क्लब और फिटनेस सेंटर सत्यापित तराजू का प्रयोग करें।

यहां करें शिकायत
-उपभोक्ता बांट-माप विभाग से संबंधित शिकायत हेल्प लाइन नंबर 18001805512 पर कर सकते हैं। इसके अलावा कार्यालय वरिष्ठ निरीक्षक विधिक माप विज्ञान मरे कंपनी गल्ला गोदाम, कार्यालय वरिष्ठ निरीक्षक विधिक माप विज्ञान रामबाग, सरोजनी नगर फजलगंज थाने के निकट, किदवई नगर साउथ माल के बगल में और घाटमपुर बस स्टैंड के बगल में कर सकते हैं।
-गारंटी अवधि में वस्तु के खराब होने पर न बदलने, वारंटी नियमों का पालन न करने, सेवा में किसी तरह की कमी पर जिला उपभोक्ता फोरम कलेक्ट्रेट भवन और स्थायी लोक अदालत महिला थाने के बगल वाली गली सिविल लाइंस में वाद दाखिल किया जा सकता है।

Spotlight

Most Read

Lucknow

शिवपाल के जन्मदिन पर अखिलेश ने उन्हें इस अंदाज में दी बधाई, जानें- क्या बोले

राजधानी ‌स्थित लोहिया ट्रस्ट में सोमवार को सपा नेता शिवपाल सिंह ने अपने समर्थकों के साथ जन्मदिन मनाया।

22 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: कानपुर में गंगा बैराज में जा गिरी कार और फिर...

वो कहते हैं न जाको राखे साईंया मार सके न कोई। ऐसा ही कुछ कानपुर में सोमवार देखने को मिला। कोहरे कि वजह से एक कार गंगा बैराज में जा गिरी। वहीं मौके पर मौजूद गोताखोरों ने कार सवार सभी लोगों की जान बचा ली है।

22 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper