मंधना-भौती बाइपास का खाका तैयार

Kanpur Updated Wed, 29 Aug 2012 12:00 PM IST
कानपुर। केडीए ने मुख्यमंत्री की प्राथमिकता में शामिल मंधना-भौती बाइपास का खाका तैयार कर लिया है। बाइपास की विस्तृत रिपोर्ट बनाकर औद्योगिक विकास आयुक्त को भेज दी गई है। केडीए ने बाइपास निर्माण के लिए नोडल एजेंसी नियुक्त करने का निवेदन किया है। औद्योगिक विकास आयुक्त जल्द रिपोर्ट शासन के समक्ष रखेंगे। पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप (पीपीपी मॉडल) पर बनने वाला यह फोरलेन बाइपास साढ़े 8 किलोमीटर लंबा होगा। इसकी वर्तमान अनुमानित लागत करीब 320 करोड़ रुपए है जिसमें दो रेलवे ओवर ब्रिज और छोटी-बड़ी नहर पर दो पुल का निर्माण शामिल है। मंधना-भौती बाइपास नेशनल हाइवे-91 पर आईआईटी से मंधना की ओर चलने पर करीब ढाई से तीन किलोमीटर की दूरी पर होरा कछार व बगदौधी कछार गांव की सीमा के पास से शुरू होगा। बाइपास के दोनों और साढ़े 12 मीटर चौड़ी ग्रीनबेल्ट बनेगी। मंधना से कानपुर-फर्रुखाबाद रेलवे लाइन पड़ेगी जहां पहला पुल बनेगा। इसके बाद पुरवा नानकारी गांव में छोटी व एक बड़ी नहर (लोअर गंगा कैनाल) है जहां पुल बनाए जाएंगे। इसके बाद यह बाइपास शिवली रोड से निकलकर बहेड़ा गांव होते हुए कपली गांव के पास निकलेगा। बाइपास के एलाइनमेंट में कानपुर-दिल्ली रेलवे लाइन पर भी एक पुल प्रस्तावित है। रेलवे पुलों के निर्माण में 80 करोड़ की लागत आएगी जबकि कैनाल पर पुल व पुलिया के लिए 50 करोड़ का बजट तय किया गया है। बाइपास के रास्ते में पड़ने वाले गांव के लोगों के आवागमन और कपली गांव के नाले पर निर्माण कार्य 5 करोड़ से कराया जाएगा। सड़क निर्माण का अनुमानित व्यय 67 करोड़ रुपए है।

बाइपास में यह 13 गांव आएंगे
पनकी गंगागंज, मकसूदाबाद, बगदौधी कछार, परगही बांगर, पनकी भऊसिंह, होरा बांगर, होरा कछार, चकरतनपुर, कपली, बहेड़ा, लौहधर, बारासिरोही और पुरवा नानकारी।


शहर में नहीं घुसेंगे लखनऊ-इलाहाबाद जाने वाले वाहन
मंधना-भौती बाइपास से शहर में ट्रैफिक की समस्या काफी हद तक हल हो जाएगी। दिल्ली से नेशनल हाइवे-91 पर आने वाले वो ट्रक, बसें व कारें जिन्हें हमीरपुर, लखनऊ अथवा इलाहाबाद जाना है, वह इस बाइपास से रामादेवी होते हुए शहर से बाहर निकल जाएंगे। इससे शहर की सड़कों पर यातायात लगभग आधा रह जाएगा।

आसमान पर पहुंचे जमीन के दाम
बाइपास के निर्माण की चर्चा से आसपास की जमीन के दाम आसमान पर पहुंच गए हैं। मंधना-भौती बाइपास केडीए के मास्टर प्लान में स्वीकृत आंतरिक रिंग रोड का एक हिस्सा है। इसके निर्माण से अब तक उपेक्षित पड़े साढ़े 8 किलोमीटर क्षेत्र में अभूतपूर्व विकास होगा। जिन गांवों के नजदीक से बाइपास गुजरेगा वहां की जमीन खरीदने की होड़ लगी है। शहर के बिल्डरों में यहां की जमीन पर नजर है।

सड़क में आएगी यह जमीन
ग्राम समाज की जमीन-41.72 हेक्टेयर
केडीए की अर्जित भूमि-13.17 हेक्टेयर
अधिग्रहण की जाने वाली निजी भूमि-47.28 हेक्टेयर

Spotlight

Most Read

National

इलाहाबाद HC का निर्देश- CBI जांच में सहयोग करे लोक सेवा आयोग

कोर्ट ने लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष को जवाब दाखिल करने के लिए छह फरवरी तक की मोहलत दी है।

19 जनवरी 2018

Related Videos

जिन्होंने मथुरा और गोरखपुर में काम रोक दिए वो हज सब्सिडी क्या देंगे: अखिलेश यादव

गुरुवार को औरैया पहुंचे पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव केंद्र और राज्य की बीजेपी सरकार पर जमकर बरसे। पूर्व सीएम पार्टी कार्यकर्ता की मृत्यु पर शोक संवेदना व्यक्त करने आये थे।

19 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper