बीएनडी में रामजी अध्यक्ष, रोहित महामंत्री

Kanpur Updated Mon, 27 Aug 2012 12:00 PM IST
कानपुर। हुड़दंग, मारपीट, बमबाजी और हवाई फायरिंग के बीच रविवार को बीएनडी कालेज में छात्रसंघ चुनाव हो गया। रामजी तिवारी अध्यक्ष और रोहित सोनकर महामंत्री बने हैं। खास बात यह कि पूरा बवाल पुलिस के सामने हुआ। बीएनडी के 27.54 फीसदी स्टूडेंट ने वोट डाले। इससे पहले बीएनडी के छात्रसंघ चुनाव में 15-20 फीसदी से ज्यादा की वोटिंग नहीं हुई थी।
बीएनडी कालेज में सुबह वोटिंग और काउंटिंग के दौरान मालरोड पर खूब हुड़दंग हुआ। नरौना चौराहा के आसपास हवा में गोलियां दागी गईं और बम फोड़े गए। अपने पक्ष में वोटिंग कराने के लिए अध्यक्ष, महामंत्री पद के उम्मीदवारों के गुट आपस में भिड़ गए। जमकर हाथापाई हुई। आचार संहिता की धज्जियां उड़ती रहीं। सपना पैलेस के आसपास खुलेआम स्टिकर बांटे गए। पुलिस ने बवालियों को लाठी पटककर खदेड़ा। नरौना चौराहा, सपना पैलेस के आसपास भीड़ लगाकर खड़े होने पर रोक लगा दी गई। पुलिस, पीएसी के जवानों ने फ्लैग मार्च किया। इसके बाद चुनाव प्रक्रिया सामान्य तरीके से चली। दोपहर 12 बजे तक वोट डाले गए। 4200 में से 1175 स्टूडेंट ने अपने मताधिकार का प्रयोग करके अध्यक्ष, महामंत्री पद के उम्मीदवारों के भाग्य को बैलेट बाक्स में कैद कर दिया। दोपहर बाद काउंटिंग शुरू हुई। अध्यक्ष पद के उम्मीदवार रामजी तिवारी ने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी नवनीत अवस्थी को 356 वोटों के बड़े अंतर से हरा दिया। महामंत्री पद के उम्मीदवार रोहित सोनकर ने 72 मतों के अंतर से चुनाव जीता। उन्होंने राघवेंद्र दुबे को हराया। विजयी प्रत्याशियों को प्रिंसिपल डा. विवेक द्विवेदी और चुनाव अधिकारी डा. वीके कटियार ने शपथ दिलायी। साथ ही जीत का प्रमाण पत्र देकर पुलिस सुरक्षा में घर भेज दिया। चुनाव निपटाने में डा. नवनीत मिश्रा, चीफ प्राक्टर डा. एनएनसी अवस्थी और डा. एसएस तोमर ने महत्वपूर्ण भूमिका निभायी।



एलएलबी का शैक्षिक सत्र विलंबित चल रहा है। इसे नियमित कराने की कोशिश होगी। प्रिंसिपल से बातचीत करने के बाद कुलपति से मुलाकात की जाएगी। स्टूडेंट्स की समस्याओं को लेकर संघर्ष करता रहूंगा।
रामजी तिवारी, छात्रसंघ अध्यक्ष बीएनडी कालेज

स्टूडेंट के सहयोग से चुनाव जीता है। उनकी समस्याओं को उचित फोरम पर उठाएंगे। रणनीति बनाकर समाधान कराने की कोशिश करेंगे। बीएससी, बीकॉम, एलएलबी और एमएससी के स्टूडेंट को एक साथ लेकर चलेंगे।
रोहित सोनकर, छात्रसंघ महामंत्री बीएनडी कालेज

यूं चढ़ा वोटों का ग्राफ
समय पड़े वोट
सुबह 8 बजे 97
सुबह 9 बजे 327
सुबह 10 बजे 586
सुबह 11 बजे 949
सुबह 11 बजे 1086
दोपहर 12 बजे 1175


दिखा अन्ना फैक्टर, 23 ने लिखा ‘राइट टू रिजेक्ट’
कानपुर (स्टाफ रिपोर्टर) बीएनडी कालेज के छात्रसंघ चुनाव में अन्ना फैक्टर दिखा। बीएससी, बीकॉम, एलएलबी और एमएससी के 23 स्टूडेंट ने अध्यक्ष, महामंत्री पद के प्रत्याशियों को नकार दिया। वोट डालने की जगह को खाली छोड़ दिया और वहां लिखा कि उन्होंने ‘राइट टू रिजेक्ट’ का प्रयोग किया है।
चुनाव में अध्यक्ष पद के लिए 1166 वोट वैध पाए गए। 9 वोट अवैध मिले। अवैध मतों का सत्यापन कराया गया तो पता चला कि 3 स्टूडेंट ने राइट टू रिजेक्ट का प्रयोग किया। 6 स्टूडेंट ने दोनों प्रत्याशियों को वोट दिए, जो अवैध ठहरा दिए गए। इसी तरह महामंत्री पद के लिए 1152 वोट वैध पाए गए। 23 वोट अवैध मिले। महामंत्री पद पर 20 स्टूडेंट ने राइट टू रिजेक्ट का प्रयोग किया। 3 स्टूडेंट ने दोनों प्रत्याशियों को वोट दिया। इसलिए इन मतों को अवैध ठहरा दिया गया है। प्रिंसिपल डा. विवेक द्विवेदी का कहना है कि कालेज चुनाव में पहली बार राइट टू रिजेक्ट का मामला सामने आया है।


बीएनडी में दो दिन की छुट्टी
कानपुर। छात्रसंघ चुनाव खत्म होने के बाद बीएनडी कालेज बंद कर दिया गया है। प्रिंसिपल डा. विवेक द्विवेदी ने बताया कि सोमवार और मंगलवार को कालेज बंद रहेगा। बुधवार से कालेज खुलेगा।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Sonipat

नाबालिग को भगाने के बाद किया था दुष्कर्म, पांच दोषियों को सजा

नाबालिग को भगाने के बाद किया था दुष्कर्म, पांच दोषियों को सजा

24 फरवरी 2018

Related Videos

VIDEO: गाड़ी चलाना सीखने वाले मानव बम से कम नहीं!

भीड़-भाड़ वाले इलाके और सड़क पर कार या मोटरसाइकल चलाना सीखने वाले लोग कितने खतरनाक हो सकते हैं उसका सबसे बड़ा उदाहरण हम आपको दिखाने वाले हैं। कन्नौज में एक शख्स ने कार सीखते सीखते पेट्रोल पंप में ही कार घुसा दी और उसके बाद क्या हुआ आप खुद देखिए।

23 फरवरी 2018

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen