10,000 छात्रों का रिजल्ट रोका

Kanpur Updated Thu, 12 Jul 2012 12:00 PM IST
कानपुर। छत्रपति शाहूजी महाराज विवि की संस्थागत परीक्षा 2011-12 में सामूहिक नकल कराने वाले संबद्ध 23 डिग्री कालेजों के 10,000 से ज्यादा छात्र-छात्राओं के परिणाम रोक दिए गए हैं। इन कालेजों को नोटिस जारी कर संबधित प्राचार्य ,प्रबंधक से जवाब मांगे गए हैं। जवाब मिलने के बाद परीक्षा निरस्त करके नए सिरे से कराने या फिर कालेजों को काली सूची में डालने का फैसला लिया जाएगा।
विवि की परीक्षा में सामूहिक नकल करने वाले छात्रों को मूल्यांकन में पकड़ लिया गया। उत्तर पुस्तिकाओं के मिलान के बाद कहा गया है कि संबद्ध कालेजों में बोल-बोल कर या फिर श्यामपट पर लिखकर नकल कराई है। ज्यादातर छात्रों की लिखावट एक जैसी है। सवालों के जवाब भी एक ही क्रम में लिखा गया है। कुलपति प्रो. अशोक कुमार ने बताया कि सामूहिक नकल में फंसने वाले सभी डिग्री कालेज से एक हफ्ते में जवाब मांगा है। फिर आगे की कार्रवाई होगी। वहीं, प्रैक्टिकल के अंक न मिल पाने के कारण स्नातक, परास्नातक के 5,000 से ज्यादा छात्र-छात्राओं के परिणाम फंसे हुए हैं। यही वजह है कि डीजी कालेज की छात्रा रिबा को अलीगढ़ मुस्लिम विवि और दीपक सिंह को बीएचयू के एमएससी बायोटेक कोर्स में दाखिला नहीं मिल सका है। यही नहीं स्नातक, परास्नातक कक्षा के करीब 528 छात्र-छात्राएं ऐसे हैं जिन्होंने उत्तर पुस्तिका पर रोल नंबर नहीं लिखा है। इन सभी का रिजल्ट रोका गया है। अब उत्तर पुस्तिका के कोड भेजकर संबद्ध कालेजों से सत्यापन रिपोर्ट मांगी गई है। रिपोर्ट आने के बाद उत्तर पुस्तिकाएं जांची जाएंगी। फिर परिणाम घोषित होंगे। कुलपति ने बताया कि उत्तर पुस्तिका पर रोल नंबर लिखना जरूरी होता है। यदि छात्र-छात्रा रोल नंबर नहीं लिखते हैं तो कक्ष निरीक्षक सुधार कराता है। इस मामले में हरस्तर पर लापरवाही सामने आई है। कुछ कालेजों ने प्रैक्टिल के परिणाम नही भेजे हैं, इस कारण उन कालेजों को रिजल्ट रुके हैं। ऐसे कालेजों को नोटिस दी गई है।
---------------------
इनसेट
--------------------
अंकपत्र की त्रुटि बनी मुसीबत
कानपुर। अंकपत्रों की त्रुटियों ने छात्रों की मुश्किल बढ़ा दी है, जिन छात्रों के अंकपत्र पर रिजल्ट इनकंप्लीट लिखे हैं, उन्हें भटकना पड़ रहा है। बुधवार को कानपुर नगर, इटावा, औरैया, फर्रुखाबाद के कई छात्र अंकपत्र लेकर विश्वविद्यालय परिसर पहुंचे, लेकिन उनकी सुनवाई करने वाला कोई नहीं मिला। इस कारण छात्र रणवीर यादव, सपना और सलोनी को बैरंग लौटना पड़ा है। मामले को लेकर कुलपति प्रोफेसर अशोक कुमार का कहना है कि जिस अंकपत्र पर इन कंप्लीट लिखे हैं, उनकी त्रुटि सूचना एवं जनसपंर्क विभाग की मदद से कराई जाएगी।

Spotlight

Most Read

Chandigarh

पंजाब: कैबिनेट मंत्री राणा गुरजीत सिंह ने दिया इस्तीफा

पंजाब के कैबिनेट मंत्री राणा गुरजीत सिंह ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। राणा गुरजीत ऊर्जा एवं सिंचाई विभाग के मंत्री थे।

16 जनवरी 2018

Related Videos

हमीरपुर में गैंगरेप के बाद जिंदा जलाया, पंचकूला में दरिंदगी

देश में आधा आबादी के खिलाफ अपराध खत्म होने का नाम नहीं ले रहे हैं। सोमवार को हरियाणा के पंचकूला और यूपी के हमीरपुर से दो नाबालिग बच्चियों के साथ यौन शोषण के मामले सामने आए हैं।

16 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper