बच्ची के शव को लेकर छीना झपटी, पथराव

Kanpur Updated Mon, 02 Jul 2012 12:00 PM IST
कानपुर। दुराचार की शिकार 6 साल की अलसिफा की मौत के बाद परिजनों ने बाबूपुरवा के मशीपुरवा इलाके में खूब हंगामा किया। परिजन भीड़ के साथ शव लेकर टाट मिल चौराहे पर जाम लगाने जा रहे थे। पुलिस के रोकने पर भीड़ भड़क गई और पथराव कर दिया। जवाब में पुलिस ने लाठीचार्ज करते हुए भीड़ को खदेड़ा। सूचना मिलते ही एसपी सिटी कई थानों की फोर्स और पीएसी के साथ मौके पर पहुंचे। उन्होंने परिजनों को कार्रवाई का भरोसा देते हुए बच्ची के शव को सुपुर्दे खाक कराया।
करीब दो माह पहले सुजातगंज निवासी रईस की 6 साल की बच्ची अलसिफा से दुराचार हुआ था। इस मामले में पुलिस ने बच्ची को अस्पताल में दाखिल कराकर रेलवे कर्मी कैलाश के रिश्तेदार विकास को रेप के आरोप में जेल भी भेजा था। अस्पताल में कई मर्तबा अलसिफा की हालत बिगड़ी, पर सही इलाज नहीं मिलने की वजह से शनिवार को उसकी मौत हो गई। रविवार को परिजन शव ठेले में रखकर इंसाफ मांगने टाट मिल चौराहे पर जाम लगाने के लिए बढ़ने लगे। इसकी सूचना मिलते ही बाबूपुरवा पुलिस ने शहीद पार्क से आगे उन्हें रोक लिया। इस पर नाराज भीड़ ने पुलिस के खिलाफ नारेबाजी करते हुए आरोपी की मददगार महिला रिश्तेदार को भी गिरफ्तार करने की मांग की। साथ ही कहा कि सुजातगंज चौकी इंचार्ज वीके सिंह, जिन्होंने उनकी तहरीर फाड़ी थी, उसे बर्खास्त किया जाए। इस बीच शव को लेकर खींचतान शुरू होने लगी तो कुछ लोगों ने पुलिस पर जूते चप्पल फेंक दिए। इस पर पुलिस ने बल प्रयोग किया तो भीड़ ने पथराव कर दिया। इसके जवाब में पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया इससे अफरा तफरी मच गई। बाद में कई थानों की फोर्स और पीएसी के साथ एसपी सिटी मौके पर पहुंचे और परिजनों को उचित आश्वासन देते हुए रात 8 बजे के करीब अलसिफा के शव को सुपुर्दे खाक कराया।

पूरे घटनाक्रम की वीडियोग्राफी कराई गई है, बवाल करने वालों को चिह्नित कर उनके खिलाफ मामला दर्ज कराया जाएगा। -एनपी सिंह, सीओ बाबूपुरवा

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

थर्ड डिग्री से डरे युवक ने पुलिस कस्टडी में पिया तेजाब

एक लूट के मामले का जब उन्नाव पुलिस खुलासा नहीं कर पाई तो उसने एक शर्मनाक कृत्य को अंजाम दिया।

23 जनवरी 2018