‘पुलिस मुफ्तखोर है साहब’

Kanpur Updated Mon, 18 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
कानपुर। ‘साहब, कोई गैराज वाला पुलिस के वाहनों की मरम्मत करने को राजी नहीं होता है, उन्हें पुलिस पर विश्वास नहीं है कि वह मरम्मत के पैसे देगी। इससे बड़ी मुश्किल पेश आ रही है’। अपराध की मासिक समीक्षा बैठक में रविवार को डीआईजी अपने मातहतों की यह शिकायत सुनकर भौंचक रह गए। उन्होंने सभी थानेदारों को बताया कि वाहनों की मरम्मत के लिए पर्याप्त बजट एएसपी के पास है। वे प्रस्ताव बनाकर अपने-अपने वाहन दुरुस्त करा लें। सबसे रद्दी वाहन होने पर घाटमपुर थाने को फटकार और अच्छे काम के लिए 5 थानेदारों को 500 रुपए का पुरस्कार दिया गया।
विज्ञापन

पुलिस लाइन में हुई इस समीक्षा बैठक में सभी थानेदार, सीओ और एसपी बुलाए गए थे। डीआईजी अमिताभ यश ने बताया कि बहुत ताज्जुब है कि पुलिस पर पब्लिक का भरोसा कम होता जा रहा है। कोई पुलिस के वाहनों की मरम्मत करने को तैयार नहीं है। यह अच्छी बात नहीं है। उन्होंने मातहतों से कहा कि जनता का भरोसा जीतने की कोशिश हर हाल में करें। कोई काम मुफ्त में कतई न कराया जाए। उन्होंने बताया कि अपराधी सत्यापन, हिस्ट्रीशीट खोलने में कल्याणपुर थाना कमजोर निकला। वहीं शहर के कई थानेदार ऐसे थे जो हिस्ट्रीशीट ही नहीं खोल सके। इन्हें हिदायत दी गई। मामले निस्तारित करने में ग्रामीण क्षेत्र में कल्याणपुर, पूर्वी में कैंट और पश्चिमी में गोविंदनगर की प्रगति ठीक नहीं है। मुकदमों की पैरवी में अधिकतर थानेदार फिसड्डी पाए गए। डीआईजी ने बताया कि शासन ने शरीर संबंधी अपराध की मुख्यालय और ग्रामवार रजिस्टर बनाने के लिए कहा है। ऐसे में सभी थानेदारों को इस पर अमल के निर्देश दिए गए। हत्या और बलवा का रजिस्टर छह साल से अपडेट नहीं है। डीआईजी ने माना कि हत्या जैसे अपराध बढ़े हैं लेकिन चोरी, लूट और नकबजनी घटी है। बैठक में निष्पक्ष चुनाव का टारगेट थानेदारों को दिया गया। जुआ, सट्टा और नशीले पदार्थ की बिक्री सख्ती से बंद कराएं। यदि उनकी टीम ने औचक निरीक्षण में पकड़ा तो सीओ से लेकर चौकी इंचार्ज तक निपटेंगे।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us