डिग्री, मेडल पाकर चहके आईआईटियन

Kanpur Updated Sun, 03 Jun 2012 12:00 PM IST
कानपुर। आईआईटी का 44वां दीक्षांत समारोह शनिवार को धूमधाम से मनाया गया। आडिटोरियम में स्नातक, परास्नातक और शोध के 1135 मेधावियों को डिग्री और मेडल दिए गए, जिसे पाकर आईआईटीयन के चेहरे खिल उठे। सभी ने हवा में टोपी उछालकर जश्न मनाया। बच्चों की खुशी में शामिल होने पहुंचे माता-पिता भी उनके साथ झूम उठे।
दीक्षांत समारोह का उद्घाटन मेट्रो मैन और मेट्रो रेल के प्रमुख सलाहकार डा. ई. श्रीधरन, आईआईटी बोर्ड आफ गवर्नर (बीओजी) चेयरमैन डा. एम आनंद कृष्णन और निदेशक प्रो. संजय गोविंद धांडे ने किया। फिर मेडल, डिग्री देने का सिलसिला शुरू हुआ। सबसे पहले शुभायु चटर्जी, अंकित कुमार और आशीष गुप्ता को मेट्रोमैन ने प्रेसिडेंट गोल्ड मेडल देकर सम्मानित किया। फिर इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग के तेज प्रताप को डायरेक्टर्स गोल्ड मेडल और मेकेनिकल इंजीनियरिंग के अभिनव प्रतीक को रतन स्वरूप मेमोरियल अवार्ड दिया गया। बीटेक, एमटेक, पांच वर्षीय इंटीग्रेटेड एमएससी, दो वर्षीय एमएससी, बीटेक एमटेक डुअल डिग्री प्रोग्राम, वीएलएफएम, पीएचडी और एमबीए के टॉपरों को डिग्री, मेडल दिए गए। सभी छात्रों ने अपने पद, कर्तव्य और डिग्री के सही इस्तेमाल की शपथ भी ली। समारोह का पहला सत्र दोपहर करीब बजे तक चला। दूसरा चरण दोपहर तीन बजे से शुरू हुआ, जो देर रात तक चलता रहा। इस दौरान प्रायोजित मेडल बांटे गए। सभी 101 शोधार्थियों को पीएचडी की उपाधि दी गई। इस मौके पर प्रो. मणींद्र अग्रवाल, प्रो. एके घोष, प्रो. अजीत चतुर्वेदी, प्रो. वी. चंद्रशेखर, प्रो. एनएस व्यास, प्रो. धीरज सांघी आदि मौजूद रहे।

किसे, कौन से मेडल मिला

प्रेसीडेंट गोल्ड मेडल : शुभायु चटर्जी, अंकित कुमार, आशीष गुप्ता
डायरेक्टर्स गोल्ड मेडल : तेज प्रताप
रतन स्वरूप मेमोरियल प्राइज : अभिनव प्रतीक
डा. शंकर दयाल शर्मा मेडल : शौर्यदीप भट्टाचार्य

ये हैं बीटेक के टॉपर
एयरोस्पेस इंजीनियरिंग से कार्तिकेय अस्थाना, बायोलॉजिकल साइंस से वैभव अग्रवाल, सिविल इंजीनियरिंग से शाह हर्ष लक्ष्मीकांत और विश्वास शर्मा, केमिकल इंजीनियरिंग से तुषार अग्रवाल और विजेश जगदीश बुटे, कंप्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग से अंकित कुमार और आशीष गुप्ता, इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग से तरुण कुमार बरनवाल, मेकेनिकल इंजीनियरिंग से प्रतीक मयूर पारिख, मैटीरियल्स एंड मेटलर्जिकल इंजीनियरिंग से पर्णिका अग्रवाल।

फेसबुक ने दिया 72 लाख का पैकेज
कंप्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग से बीटेक करने वाले अनुराग अवस्थी को फेसबुक ने 72 लाख रुपये का सालाना वेतन पैकेज दिया है। उनकी ज्वाइनिंग अगस्त 2012 में होनी है। कंप्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग की छात्रा अवनि नंदनी को 60 लाख रुपये का पैकेज मिला है। मैटेरियल साइंस के संचित सिंघल सहित पांच मेधावी ऐसे हैं, जिन्हें 30-30 लाख रुपये का पैकेज मिला है। संस्थान में सामान्य वेतन पैकेज 10 लाख रुपये का गया है जबकि न्यूनतम सालाना वेतन पैकेज 4.50 लाख रुपये का रहा है।

100 मेधावियों ने छोड़ा नौकरी का मोह
आईआईटी कानपुर के करीब 100 मेधावियों ने उच्च शिक्षा के लिए नौकरी ठुकरा दी है। उनका इरादा रिसर्च या एकेडमिक्स में जाने का है। प्रेसिडेंट गोल्ड मेडल हासिल करने वाले शुभायु चटर्जी और आशीष गुप्ता ने भी पीएचडी करने का फैसला किया है।

फैमिली फोटो-- शैलेंद्र जी
शहर की टॉपर पर्णिका ने भी किया कमाल
कानपुर। हाईस्कूल, इंटरमीडिएट में शहर की टॉपर रहीं पर्णिका अग्रवाल ने आईआईटी में भी कमाल किया है। वह मैटेरियल्स एंड मेटलर्जिकल इंजीनियरिंग की टॉपर बनी हैं। 2008 में जेईई क्रैक करने वाली पर्णिका अब एमआईटी यूनिवर्सिटी अमेरिका से मास्टर आफ साइंस (एमएस) और पीएचडी करेंगी। फिर देश में आकर रिसर्च, एकेडमिक्स से जुड़ेंगी। उन्हें तीन यूनिवर्सिटी से पीएचडी का आफर मिला था। 13.77 लाख रुपये वेतन पैकेज की नौकरी भी मिली था। पर्णिका के पिता डा. पीके अग्रवाल कैंसर स्पेशलिस्ट हैं जबकि मां नीरजा अग्रवाल भी डाक्टर हैं। उनकी बड़ी बहन शिल्पी साफ्टवेयर इंजीनियर हैं जबकि छोटा भाई पार्थ कक्षा सात में पढ़ते हैं।

Spotlight

Most Read

Jharkhand

चारा घोटाला: चाईबासा कोषागार मामले में कोर्ट ने सुनाया फैसला, तीसरे केस में लालू दोषी करार

रांची स्थित विशेष सीबीआई अदालत ने चारा घोटाले के तीसरे मामले में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और आरजेडी के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव को दोषी करार दिया है। साथ ही पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्रा को भी दोषी ठहराया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

थर्ड डिग्री से डरे युवक ने पुलिस कस्टडी में पिया तेजाब

एक लूट के मामले का जब उन्नाव पुलिस खुलासा नहीं कर पाई तो उसने एक शर्मनाक कृत्य को अंजाम दिया।

23 जनवरी 2018