मेगा लेदर क्लस्टर को पर्यावरण मंत्रालय की हरी झंडी

Kanpur Updated Wed, 23 Oct 2013 05:41 AM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
कानपुर। हरदोई के संडीला में बनने वाले मेगा लेदर क्लस्टर को पर्यावरण मंत्रालय से नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट मिल गया है। यूपीएसआईडीसी अफसरों के मुताबिक अब क्लस्टर की स्थापना का कार्य तेजी से शुरू किया जाएगा। इस संबंध में जल्द ही चर्म उद्यमियों से मुलाकात भी की जाएगी। इसकी स्थापना से कानपुर के चर्म उत्पादकों को औद्योगिक विस्तार के लिए जगह का टोटा समाप्त हो जाएगा।
विज्ञापन

चर्म उद्योग को बढ़ावे के लिए केंद्र सरकार की इस महत्वाकांक्षी परियोजना को 20 मार्च 2012 को कैबिनेट ने हरी झंडी दी थी। यूपीएसआईडीसी ने संडीला में क्लस्टर की स्थापना के लिए भूमि उपलब्ध कराई है। निगम के प्रबंध निदेशक मनोज सिंह ने बताया कि मेगा लेदर क्लस्टर की स्थापना में लगभग 400 करोड़ रुपये का खर्च आएगा। 162 एकड़ में बनने वाली इस परियोजना में केंद्र सरकार से 125 करोड़ का अनुदान दिया जाएगा। बीते दिनों प्रमुख सचिव सूर्य प्रताप सिंह ने संडीला क्षेत्र में दौरा करके क्लस्टर स्थापना की तैयारियों का जायजा लिया था। उन्होंने लेदर क्लस्टर की राह में आने वाली रुकावटों का तत्काल निस्तारण करके स्थापना कार्य सुनिश्चित करने के निर्देश दिए थे। बीते शुक्रवार को पर्यावरण मंत्रालय ने अनापत्ति प्रमाण पत्र जारी कर दिया। मनोज सिंह के मुताबिक इस परियोजना में चार हजार करोड़ का पूंजी निवेश होगा, जिससे प्रदेश के चर्म उद्योग को एक नई पहचान मिलेगी। पर्यावरण मंत्रालय ने केंद्रीय अपशिष्ट शोधक संयंत्र की स्थापना के लिए 80 एकड़ भूमि की अतिरिक्त आवश्यकता बताई थी, जिसमें से 20 एकड़ भूमि प्रथम चरण में दिए जाने पर सहमति बन चुकी है। एमडी ने यह भी बताया कि कानपुर के रमईपुर में बनने वाले मेगा लेदर क्लस्टर के लिए पर्यावरण मंत्रालय में एनओसी का आवेदन कर दिया गया है।
---------------------
कानपुर का चर्म उद्योग : एक नजर
- करीब 6000 करोड़ का चर्म उत्पादन
- करीब 4500 करोड़ का निर्यात
- पांच लाख लोगों को प्रत्यक्ष रोजगार
- दो लाख लोगों को अप्रत्यक्ष रोजगार
- करीब 700 चर्म इकाइयां स्थापित
------------------------
मेगा लेदर क्लस्टर के फायदे
- कानपुर का चर्म निर्यात पांच वर्षों में साढ़े तीन गुना बढ़ेगा
- वैश्विक स्तर पर कम दरों के उत्पाद की बिक्री
- चीन के फैलते कारोबार को टक्कर मिलेगी
- ट्रांजेक्शन कॉस्ट घटने से ज्यादा मुनाफा मिलेगा
- प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रोजगार को बढ़ाना मिलेगा
-------------------------
पर्यावरण मंत्रालय के एनओसी के बाद मेगा लेदर क्लस्टर की स्थापना में अब कोई भी रुकावट नहीं है। मेगा लेदर क्लस्टर के बनने से तमाम नए उत्पादों का निर्माण किया जा सकेगा। जल्द ही चर्म उत्पादकों के साथ बैठक करके क्लस्टर की स्थापना का कार्य आगे बढ़ाया जाएगा।
मुख्तारुल अमीन, चेयरमैन (लेदर क्लस्टर डेवलपमेंट कंपनी लि.)
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us