बैंक हड़ताल से साढ़े 7 अरब का लेन-देन ठप

Kanpur Updated Fri, 21 Dec 2012 05:31 AM IST
कानपुर। बैंकिंग एक्ट में संशोधन के विरोध में ऑल इंडिया बैंक इम्प्लाईज एसोसिएशन के आह्वान पर आयोजित हड़ताल का व्यापक असर शहर में देखने को मिला। शाखाएं बंद होने से अरबों रुपए का लेनदेन प्रभावित हुआ। हड़ताल में विभिन्न राष्ट्रीयकृत बैंकों के हजारों कर्मचारियों ने हिस्सा लिया। इस दौरान कुछ जगहों पर हंगामा भी हुआ। वहीं स्टेट बैंक के कर्मचारियों ने हड़ताल के समर्थन में काली पट्टी बांधकर काम किया।
शेयरधारकों के वोटिंग राइट बढ़ाने और निजी बैंको को लाइसेंस देने समेत बैंकिंग एक्ट में हुए संशोधन को लेकर हुई हड़ताल से शहर में बैंकिंग तंत्र ठप पड़ गया। पंजाब नेशनल बैंक के बिरहाना रोड स्थित सर्किल ऑफिस पर एक सभा को संबोधित करते हुए यूपी बैंक इम्प्लाईज एसोसिएशन के मंत्री अशोक शुक्ला ने कहा कि इन संशोधनों से केवल कॉरपोरेट एवं विदेशी कंपनियों को ही लाभ होगा। वहीं वर्तमान बैंकिंग ढाचा ध्वस्त होने से आम जनता, किसान, लघु उद्यमी और छोटे व्यापारी बैंकिंग लाभ से वंचित होंगे। बैंक ऑफ बड़ौदा के कर्मचारी नेता रजनीश गुप्ता ने कहा कि संशोधनों से विभिन्न बैंकों में 62 लाख करोड़ रुपए पूंजीपतियों के हाथ में चले जाएंगे। वहीं इलाहाबाद बैंक स्टाफ एसोसिएशन के मंत्री पीएन सिंह ने दावा किया कि हड़ताल पूरी तरह सफल रही। हड़ताल के चलते करेंसी चेस्ट बंद होने से रुपए की निकासी व जमा नहीं हुआ। कर्मचारियों ने एटीएम में भी रुपए नहीं जमा करने दिए। हड़तालियों ने कई सचल दस्ते बनाए, जिन्होंने विभिन्न शाखाओं में हड़ताल का जायजा लिया। केनरा बैंक की सिविल लाइंस स्थित ओवरसीज शाखा के प्रबंधक पीके सक्सेना ने शाखा खोल ली, जिस पर कर्मचारियों ने जमकर हंगामा किया और शाखा बंद कराई। इसी तरह पीएनबी के ब्लॉक किदवई नगर तथा जल संस्थान शाखा खुल जाने पर हड़तालियों ने नारेबाजी व हंगामा करते हुए शाखाएं बंद कराई। हड़ताल में पब्लिक सेक्टर के बैंक एवं निजी क्षेत्र के फेडरल बैंक और नैनीताल बैंक भी शामिल रहे। उधर एसबीआई, कोआपरेटिव बैंक व ग्रामीण बैंक के कर्मचारियों ने हड़ताल के समर्थन में काले फीते बांधकर कार्य किया। प्रमुख रूप से एसके मिश्रा, बीके मिश्रा, रजनीश गुप्ता, राकेश तिवारी, रामेंद्र सहाय, रमाकांत पांडेय, अनिल सोनकर, सुधीर सोनकर, अशोक दीक्षित, मनोज तिवारी, रमाशंकर दीक्षित, अनुराग शुक्ला, परविंदर सिंह, अजय मेहरोत्रा, अनिल मिश्र, गोरखनाथ मेहरोत्रा, आरके शुक्ला, एसएन तिवारी, एचएन अग्रवाल, केएस त्रिपाठी, केके दुबे, अरुण बाजपेई, अशोक श्रीवास्तव आदि मौजूद रहे।


ये रहा प्रभावित
- 300 करोड़ का नकद लेनदेन ठप रहा
- 250 करोड़ के 33000 चेक नहीं हुए पास
- 130 करोड़ इंटरनलट्रांसफर नहीं हो सके
- 70 करोड़ के एनईएफटी-आरटीजीएस रुके
- 20 करोड़ डीडी-बैंकर्स चेक नहीं हुए जारी

ये हैं प्रमुख मांगे :-
- बैंकिंग रेगुलेशन एक्ट में फेरबदल को रोका जाए
- बैंकों में आउटसोर्सिंग सेवाओं पर रोक लगाई जाए
- निजी क्षेत्र के लोगों को बैंकिंग लाइसेंस देने से रोका जाए
- मृतक आश्रितों के परिजनों को नौकरी दी जाए
- बैंक कर्मचारी की मृत्यु पर परिवार को मुआवजा दिया जाए
- कर्मचारियों-अधिकारियों की पेंशन रिवीजन की जाए
- बैंकों में विदेशी निवेश को अनुमति न दी जाए

Spotlight

Most Read

Kanpur

बाइकवालाें काे भी देना हाेगा टोल टैक्स, सरकार वसूलेगी 285 रुपये

अगर अाप बाइक पर बैठकर आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर फर्राटा भरने की साेच रहे हैं ताे सरकार ने अापकी जेब काे भारी चपत लगाने की तैयारी कर ली है। आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर चलने के लिए सभी वाहनों को टोल टैक्स अदा करना होगा।

17 जनवरी 2018

Related Videos

कानपुर में इतने ज्यादा मिले पुराने नोट, गिनते गिनते हो गया सवेरा

कानपुर में 80 करोड़ रुपये की पुरानी करेंसी बरामद हुई है। एक पुलिस अधिकारी ने जानकारी दी कि कानपुर पुलिस को एक बंद घर में बड़ी मात्रा में पुराने नोटों के होने के बारे में जानकारी मिली थी।

17 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper