नहीं सुधर रहा रवैया, जली महिला को टरकाया

Kanpur Updated Tue, 11 Dec 2012 05:30 AM IST
कानपुर। स्वास्थ्य मंत्री से लेकर जिला प्रशासन तक की सख्ती के बावजूद उर्सला के डाक्टरों का रवैया नहीं सुधर रहा है। सोमवार को घाटमपुर से उर्सला इमरजेंसी आई जली महिला को डाक्टरों ने टरकाने की कोशिश की। बाद में चिकित्सा अधीक्षक के हस्तक्षेप पर उसे भर्ती किया गया। पेट दर्द से पीडि़त एक अन्य मरीज इलाज के इंतजारर में घंटों आपरेशन थियेटर के पास बैठा रहा। इस अस्पताल और डफरिन में घूसखोरी रोकने के लिए एलआईयू को सक्रिय किया गया है।
उर्सला अस्पताल में 2 दिसंबर को स्वास्थ्य मंत्री के दौरे में आपरेशन के लिए घूस लेने का खुलासा होने के बाद सख्ती शुरू हो गई है। सभी डाक्टरों को सख्त हिदायत दी गई है कि वे न तो किसी से किसी भी मद में रुपये लें और न ही बाजार की दवाएं दिखें। अस्पताल में उपलब्ध संसाधनों से ही इलाज करें। इस सख्ती से अस्पताल में आपरेशनों की संख्या घटकर आधी से भी कम हो गई है। सोमवार को सर्जन डा. सुरेंद्र बाबू ने बच्चेदानी का एक आपरेशन किया। डा. जोगिन्दर सिंह ने 5 आपरेशन किए। डा. आरबी जायसवाल ने भी 2 आपरेशन किए। आर्थोपेडिक सर्जनों ने भी अस्पताल में भर्ती 3 मरीजों के आपरेशन किए। सर्जनों का तर्क है कि अस्पताल से जितना सामान मिल रहा है, उसी के हिसाब से आपरेशन किए जा रहे हैं। कम आपरेशन होने का खामियाजा मरीजों को भुगतना पड़ रहा है। सोमवार को तमाम मरीजों को टरकाया गया। जल्द आपरेशन के लिए जोर देने वाले कुछ मरीजों को नर्सिगिंहोम या एसजीपीजीआई जाने की भी सलाह दी गई। कम आपरेशन होने की वजह से सर्जिकल वार्डों में मरीज लगातार घटते जा रहे हैं। कुछ वार्डों में तो उंगलियों में गिनने भर के मरीज रह गए हैं।
इसी बीच घाटमपुर के ग्राम अकबरपुर झबैया की सुशीला (30) दोपहर में अपने पिता रामसजीवन के साथ उर्सला इमरजेंसी इलाज के लिए पहुंची। सुशीला का आरोप है कि जुआरी, शराबी पति ने तीन दिन पहले उस पर खौलते तेल से भरी कढ़ाई पलट दी थी। गांव के डाक्टर ने उसे इंजेक्शन, जले स्थान पर मलहम लगाया। पर घाव बढ़ने लगा। फफोले पड़ गए। घाटमपुर सीएचसी पहुंचने पर भगा दिया गया। उर्सला इमरजेंसी के डाक्टरों ने पुलिस केस होने की बात कहकर सिपाही साथ लाने के लिए कहते हुए टरका दिया। डाक्टरों के रवैये से परेशान होकर सुशीला अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डा. शैलेंद्र तिवारी के दफ्तर पहुंची। डा. तिवारी के कहने पर उसे अस्पताल में भर्ती किया गया।
कल्याणपुर के राजा ने बताया कि पेट में तकलीफ है। पर्चा बनवाकर आपरेशन थियेटर के बाहर दो घंटे से डाक्टर का इंतजार कर रहे हैं। यशोदा नगर के मुकुल ने नर्सिगिंहोम जाने की सलाह की बात कही।
एनबी-1 वार्ड के बेड 24 पर भर्ती बर्रा की शानू को शाम तक प्लाज्मा नहीं चढ़ पाया। डाक्टर का इंतजार कर रहे उसके भाई अजय ने बताया कि डाक्टर ने सुबह राउंड में प्लाज्मा चढ़वाने के लिए कहा था। वह दोपहर में ब्लड बैंक से एक यूनिट प्लाजमा भी ले आया। नर्स सेे इसे चढ़ाने के लिए कहा तो वह कहने लगी कि बीएचटी में इसे चढ़ाने के लिए नहीं लिखा है।
हालांकि वार्ड - 8 के बेड 15 पर भर्ती रुखसाना के पति मो. असलम ने अस्पताल में एक हफ्ते में बहुत सुधार होने की बात कही। बताया कि पैसा मांगना तो दूर सभी दवाएं भी अस्पताल से दी जा रही हैं।


कोट
उर्सला के निदेशक डा.(मेजर) आरके सक्सेना का कहना है कि ओटी सिस्टर के पास आपरेशन का पर्याप्त सामान उपलब्ध करा दिया गया है। व्यवस्था सुधारी जा रही है।

इनसेट
सर्जिकल वार्डों का हाल
वार्ड बेड भर्ती मरीज
7 32 13
8 33 22
3 24 4
4 42 28

Spotlight

Most Read

Lucknow

ताबड़तोड़ डकैतियों से हिली सरकार, प्रमुख सचिव ने अधिकारियों को किया तलब

राजधानी में एक हफ्ते के अंदर हुई ताबड़तोड़ डकैती की वारदातों ने सरकार की चिंता बढ़ा दी है।

23 जनवरी 2018

Related Videos

थर्ड डिग्री से डरे युवक ने पुलिस कस्टडी में पिया तेजाब

एक लूट के मामले का जब उन्नाव पुलिस खुलासा नहीं कर पाई तो उसने एक शर्मनाक कृत्य को अंजाम दिया।

23 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper