‘बिना तौले ले जाओ, नहीं तो भाग जाओ...’

Kanpur Updated Sat, 08 Dec 2012 05:30 AM IST
कानपुर। शासन-प्रशासन के लाख निर्देशों के बावजूद गैस एजेंसी संचालक अपनी मनमानी से बाज नहीं आ रहे हैं। हाल यह है कि गैस एजेंसी वाले गोदामों की जगह पार्कों में सिलेंडर की डिलीवरी कर रहे हैं। कोई वजन मापने को कहे तो डपट कर भगा दिया जाता है। नया कनेक्शन लेना हो या डुप्लीकेट कागज बनवाना हो, उपभोक्ताओं से मनमानी रकम वसूली जा रही है। बुकिंग के बाद 4-4 दिन तक डिलीवरी नहीं दी जाती। ‘पब्लिक कॉल’ पर ‘अमर उजाला’ ने शुक्रवार को ब्रजेंद्र स्वरूप पार्क में मीरा गैस एजेंसी के ‘सिलेंडर डिलीवरी सिस्टम’ की पड़ताल की तो यही तस्वीर सामने आई।

बिना सिलेंडर दिए भगा दिया
दोपहर 12:28 बजे ब्रजेंद्र स्वरूप पार्क में मीरा गैस एजेंसी की उपभोक्ता पी रोड निवासी माया देवी लाइन में लगी थीं। डिलीवरी मैन से सिलेंडर तौलाने को कहा तो जवाब मिला कि लेना हो तो लो वर्ना घर जाओ। काफी जद्दोजहद के बाद आखिरकार डिलीवरी मैन ने उन्हें बिना सिलेंडर दिए ही लौटा दिया। वहां न तो स्प्रिंग तराजू था और न ही कंप्यूटराइज्ड तौल मशीन। बेनाझाबर कालोनी निवासी पुरुषोत्तम दास की बुक में कूपन खत्म हो गए थे। एजेंसी से नई कूपन बुक न मिलने पर वह कनेक्शन के कागज लेकर पहुंचे तो डिलीवरी मैन ने कहा कि अभी समय नहीं है, फिर आना। उन्होंने डिलीवरी मैन से फिर सिलेंडर देने को कहा तो उसने चिल्लाते हुए कहा कि एक बार में सुनाई नहीं पड़ा। घर जाओ और सोमवार को बुक इश्यू कराना।


फोन पर बताईं समस्याएं
- मनीश शुक्ल ने बताया कि उनकी पत्नी गुड़िया के नाम जयहिंद गैस एजेंसी से कनेक्शन है। केवाईसी फार्म जमा करने के बावजूद कनेक्शन निरस्त कर दिया गया।
- पारुल अख्तरी ने बताया कि उनका तपेश्वरी गैस एजेंसी से कनेक्शन है। पता बदलने से भागवत गैस एजेंसी में ट्रांसफर के लिए आवेदन किया लेकिन 3 महीने बाद भी काम नहीं हुआ।
- संजय सोनकर ने बताया कि उनका कनेक्शन इंपीरियल गैस एजेंसी से है। 2 में एक कनेक्शन सरेंडर कर दिया लेकिन दूसरे कनेक्शन पर उन्हें सिलेंडर नहीं दिया जा रहा है।
- ममता अवस्थी ने बताया कि उनका सत्य साईं गैस एजेंसी से कनेक्शन है। उन्हाेंने कहा कि सिलेंडर तौले नहीं जाते और गोदाम से डिलीवरी के बावजूद पूरे 417 रुपये लिए जाते हैं।


नहीं रिसीव की कॉल
मीरा गैस एजेंसी की संचालिका मीरा रानी सिंह के फोन नंबर - 9336626366 पर शुक्रवार शाम 4 से रात 8 बजे के बीच 7 बार संवाददाता ने फोन किया पर लेकिन उन्होंने कॉल रिसीव नहीं की।

कोट्स::::::::::
उपभोक्ताओं के उत्पीड़न और अन्य समस्याओं के लिए गैस कंपनियों के अफसर जिम्मेदार है। जिला प्रशासन ने इन समस्याओं को देखते हुए 11 दिसंबर को बैठक बुलाई है। डीएम की अध्यक्षता में होने वाली बैठक में सभी गैस एजेंसी संचालक आएंगे। बैठक में जनहित की नीति लागू कराई जाएगी।
आरएन वाजपेयी, एडीएम सप्लाई

पब्लिक ने दिए सुझाव
- पते के सत्यापन के लिए : डिलीवरीमैन तभी सिलेंडर दे जब कनेक्शनधारी का फोटो और निवास का कोई प्रमाण उसे दिखा दिया जाए।
- वसूली रोकने के लिए : पट्रोलियम कंपनियों से बात करके नए कनेक्शन के रेट फिक्स कराए जाएं। साथ ही नए कनेक्शन की तिथि भी सार्वजनिक की जाए।
- हस्तांतरण, ट्रांसफर के लिए : प्रशासन जिला स्तर पर एक नीति बनाकर उसे सार्वजनिक करे। साथ ही इन कार्यों के प्रपत्रों का भी उल्लेख किया जाए।
- सिलेंडर के वजन के लिए : हर गोदाम में लगे बांट-माप उपकरणों की आकस्मिक चेकिंग कराई जाए। मशीन खराब मिलने पर गैस एजेंसी के खिलाफ कार्रवाई हो।

(कुछ कहना है, डायल करें- 9675898231)

Spotlight

Most Read

National

2019 में कांग्रेस के साथ मिलकर चुनाव नहीं लड़ेगी CPM

महासचिव सीताराम येचुरी की ओर से पेश मसौदे में भाजपा के खिलाफ लड़ाई में कांग्रेस समेत तमाम धर्मनिरपेक्ष दलों को साथ लेकर एक वाम लोकतांत्रिक मोर्चा बनाने की बात कही गई थी।

22 जनवरी 2018

Related Videos

आत्महत्या करने से पहले युवती ने फेसबुक पर अपलोड की VIDEO, देखिए

कानपुर के पांडुनगर से एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। जिसमें एक महिला ने फेसबुक पर एक वीडियो जारी कर आत्महत्या कर ली। वजह जानने के लिए देखिए, ये रिपोर्ट।

21 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper