हर दर से निराश हो चुना मौत का रास्ता

Kanpur Updated Thu, 11 Oct 2012 12:00 PM IST
कानपुर। कलेक्ट्रेट स्थित डीएम ऑफिस में बेटी के साथ खुद को आग लगाने वाली तसनीम ने अपने मकान से कब्जेदारों को हटवाने के लिए पुलिस के साथ ही राष्ट्रपति, राज्यपाल और मुख्यमंत्री को कई शिकायती पत्र भी भेजे थे। इनमें तसनीम ने बताया है कि उनके पति का इंतकाल हो चुका है। उनके मकान में वर्ष 1993 से मो. यासीन जाफरी किराये पर रह रहे थे। 1998 में उनकी मौतके बाद उनकी पत्नी जुबैदा और बेटे शुएब व जावेद कमरे में अपना ताला डालकर दिल्ली चले गए। तसनीम ने कई बार मकान खाली करने को कहा, लेकिन उन्होंने नहीं सुनी। परिजनों ने बताया कि तसनीम ने थानेदार, सीओ, एसपी और डीएम-डीआईजी तक शिकायत की, लेकिन उनकी कहीं नहीं सुनी गई। परेशान तसनीम ने कुछ दिन पहले 5 अक्तूबर को मुख्यमंत्री आवास पर आत्मदाह की घोषणा की। लेकिन पुलिस ने कार्रवाई का आश्वासन देकर उन्हें शांत करा दिया। हालांकि, उन्होंने मुख्यमंत्री के पास जाकर भी प्रार्थनापत्र दिया। लेकिन कोई कार्रवाई न होने से आरोपियों के हौसले बुलंद हो गए और उन्होंने तसनीम और उनके बच्चों जफर हाशमी, कायनात, हसीन और साहिबा को धमकाना शुरू कर दिया। हर तरफ से निराश तसनीम ने बुधवार को डीएम दफ्तर में आत्मदाह की चेतावनी दी, लेकिन पुलिस-प्रशासन के अफसरों ने इसे गंभीरता से नहीं लिया।
बुधवार सुबह सवा 11 बजे तसनीम अपनी बेटी साहिबा और बेटे जफर के साथ कलेक्ट्रेट परिसर पहुंची। मां-बेटी सीएमएम कोर्ट के सामने स्थित गली में पहुंची और साथ लाई प्लास्टिक की बोतल में भरा मिट्टी का तेल शरीर पर उड़ेल लिया। इसके बाद दोनों डीएम पोर्टिको पहुंची, इससे पहले कोई कुछ समझ पाता, तसनीम ने माचिस निकालकर अपने व बेटी के शरीर पर आग लगा दी। यह देख वहां मौजूद पुलिसकर्मियों, वकीलों और फरियादियों में हड़कंप मच गया। आग का गोला बनीं मां-बेटी परिसर में स्थित मस्जिद की तरफ भागीं। वहां खड़े वकील राघवेंद्र अवस्थी राघव ने तसनीम को धक्का देकर गिरा दिया, जबकि कुछ अन्य वकील साहिबा के पीछे दौड़े। आग बुझाने की कोशिश में राघवेंद्र और कचहरी चौकी के सिपाही प्रमोद यादव झुलस गए। सीओ कलक्टरगंज ने उनके शरीरों पर कंबल डालकर आग बुझाई। दोनों को उर्सला ले जाया गया। डॉक्टरों के मुताबिक साहिबा का शरीर 70 प्रतिशत जल चुका है। उनकी हालत नाजुक है, जबकि तसनीम 30 प्रतिशत जली है। इसी बीच उर्सला पहुंचे जफर ने मां-बहन की हालत देखी तो उसका आक्रोश उबल पड़ा। जफर परेड की एकतानगर पुलिस चौकी के प्रभारी आलोक राय से भिड़ गए। खिसियाई पुलिस जफर को उठाकर कोतवाली ले गई और हवालात में बंद कर जमकर पिटाई की। जफर की हालत बिगड़ी तो पुलिस के हाथ-पैर फूल गये। उन्हें भी पुलिस ने उर्सला में भर्ती कराया। शासन ने इस मामले की रिपोर्ट डीएम से मांगी है।


बयान--
मैं चमनगंज में नाना के पुश्तैनी मकान में परिवार के साथ रहता हूं। नाना के समय से मो. यासीन हमारे किरायेदार थे। उनके इंतकाल के बाद पत्नी जुबैदा व बेटे शुएब ने मकान पर कब्जा कर लिया। कुछ दिन बाद कमरे में ताला लगाकर मां-बेटे दिल्ली चले गये। वह लौटकर आये लेकिन कमरा नहीं छोड़ा। कहने पर धमकियां दीं। मारपीट की। मैंने चमनगंज पुलिस से शिकायत की लेकिन सुनवाई नहीं हुई। पुलिस ने शुएब से पैसा लेकर तीन अक्टूबर को दीवार तुड़वाकर सामान रखवाया। मैंने राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री, डीजीपी सहित शहर के अन्य अफसरों को पत्र भेजकर पांच अक्टूबर को सीएम आवास पर आत्मदाह करने की घोषणा की। चार अक्टूबर को मैं अपने परिवार के साथ लखनऊ के हजरतगंज पहुंचा। तब अफसरों ने मुझे मेरा मकान दिलाने का झूठा वादा कर वापस भेज दिया। तीन दिन पहले शुएब और उसके साथियों ने हवाई फायरिंग की। मैं चमनगंज थाना में शिकायत की। वहां किसी ने नहीं सुना तो अफसरों से मिला। कहीं से कोई मदद न मिलने पर मैंने मंगलवार को शहर के अफसरों को सपरिवार आत्मदाह करने की जानकारी दे दी थी। मुझे लगा अब मरना ही बेहतर है। अगर पुलिस कार्रवाई करती तो ये नौबत न आती।
जफर हाशमी

Spotlight

Most Read

Lucknow

सीएम योगी आदित्यनाथ से मिले नेताजी सुभाष चंद्र बोस के परिवारीजन

नेताजी सुभाष चंद्र बोस के परिजनों ने मंगलवार को लोक भवन में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से भेंट की।

24 जनवरी 2018

Related Videos

थर्ड डिग्री से डरे युवक ने पुलिस कस्टडी में पिया तेजाब

एक लूट के मामले का जब उन्नाव पुलिस खुलासा नहीं कर पाई तो उसने एक शर्मनाक कृत्य को अंजाम दिया।

23 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper