समाजवादी गढ़ में ऐतिहासिक अंदाज में कमल खिला

Kannauj Updated Sun, 22 Jul 2012 12:00 PM IST
कन्नौज। कहते हैं कि कन्नौज की जनता इतिहास रचने की आदी है। नगर पालिका परिषद चेयरमैन पद पर के चुनाव में भी उसने एक अनोखा इतिहास रच दिया है। समाजवादी पार्टी के अभेद्य गढ़ बन चुके कन्नौज जनपद की नगर पालिका परिषद कन्नौज की सीट पर भारतीय जनता पार्टी ने ऐतिहासिक अंदाज में वापसी कर कमल खिलाया है।
मालूम हो कि नब्बे के दशक से कन्नौज में साइकिल दौड़ना शुरू हुई थी। इसके बाद उसकी रफ्तार बढ़ती ही गई। पहले तत्कालीन मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव, फिर उनके बेटे अखिलेश यादव और उसके बाद मुख्यमंत्री बने अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव ने सांसद बनकर कन्नौज को साइकिल मय कर दिया। स्थानीय चुनाव में हालात बदले। स्थानीय मुद्दों और परिस्थितियों के हिसाब से जनता ने इस बार भाजपा पर विश्वास जताया। नाक का प्रश्न बनी इस सीट पर बीजेपी प्रत्याशी सरोज पाठक के सिर पर विजयश्री का ताज सज गया।
हालांकि यदि पालिका चुनाव की बात करें तो सपा सदैव यहां कमजोर ही रही। विधानसभा और लोकसभा चुनाव में कन्नौज शहर के लोग समाजवादी पार्टी का खुलकर साथ देते हैं, लेकिन निकाय चुनाव में वे स्थानीय मसलों को आगे रखते हैं। इससे पहले भाजपा नेता बाबू केशवदास टंडन चेयरमैन रह चुके हैं। हालांकि तब वे निर्दलीय लड़े थे।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी में कोहरे का कहर जारी, ट्रक और कार की टक्कर में तीन की मौत

कन्नौज के तालग्राम में आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे पर कोहरे के चलते एक भीषण सड़क हादसा हो गया। कोहरे की वजह से पीछे से आ रही कार के चालक को सड़क पर खड़ा ट्रक  नजर नहीं आया और उनमें कार जा टकराई। हादसे में तीन की मौत हो गई।

10 जनवरी 2018