1930 में कई गांवों में फहराया था तिरंगा

Kannauj Updated Sun, 26 Jan 2014 05:48 AM IST
कन्नौज। देश को फिरंगियों के चुंगल से मुक्त कराने और गणतंत्र का सपने को हकीकत में बदलने के लिए स्वतंत्रता सेनानियों ने संघर्ष किया। 1930 में वामन राव पितरे के नेतृत्व में आजादी की शपथ लेकर जनपद के कई गांवों और मुख्य स्थानों पर तिरंगा लहराया गया। कई क्षेत्रों में सरोजनी नायडू के नेतृत्व को जानने के लिए महिलाओं ने एकजुट होकर फर्रुखाबाद छावनी में जोरदार प्रदर्शन कर अपना विरोध जताया था।
सदर के अतर कारोबारी सेठ चंद्र गुप्त ने 1929 में स्वतंत्रता आंदोलन को धार देने के लिए स्वयं राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को आमंत्रित किया और उन्हें 1000 भेंट किए। अमोलर-तालग्राम के हरदयाल, रामेश्वर दयाल, सियाराम जाटव उर्फ सिंगा, गिरधारी लाल पांडे, जालिम सिंह, सूबेदार, जदुनाथ सिंह आदि ने तन-मन-धन से भारत माता के लिए संघर्ष किया। स्वतंत्रता संग्राम से संबंध रखने वाले कई परिवारों ने बताया कि आजादी के आंदोलन से खिसियाए अंग्रेज गांव में लाव-लश्कर के साथ आकर तांडव करते थे। विरोध करने पर मारपीटकर जेलों में ठूस दिया करते थे। पं. सुंदर लाल मेमोरियल महाविद्यालय के रीडर डा. एल.सी. शर्मा का कहना है कि कन्नौज की एतिहासिकता अंग्रेजों के लिए खासी महत्व रखती थी। यहां अंग्रेज और उनकी बटालियन का अकसर आना जाना रहता था। इसके बाद ही 1930 में वामन राव पितरे के नेतृत्व में आजादी की शपथ लेकर जनपद के कई गांवों और मुख्य स्थानों पर तिरंगा लहराया गया।
1939 में नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने कन्नौज आकर यहां के लोगों से आजाद हिंद फौज में शामिल होने की अपील की इसके बाद पूरे जनपद से स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के जुड़ने का सिलसिला आरंभ हो गया। यही कारण है कि मानीमऊ, ठठिया, तालग्राम, तिर्वा, विशुनगढ़, अमोलर सहित दर्जनों इलाकों में आज भी देश के लिए संघर्ष करने वाले स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों की यादें ताजा हैं।
डा. बीआर अंबेडकर राजकीय महाविद्यालय अनौगी के इतिहासकार डा. संजय सिंह के अनुसार फर्रुखाबाद के फतेहगढ़ से संचालित अंग्रेजी प्रशासन को धूल चटाने के लिए तिर्वा के तमोली मंदिर में गुपचुप ढंग से स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों की बैठकें होती होती थी। 13 अगस्त 1942 को अंग्रेजों के विरुद्ध इसी मंदिर में बड़ी संख्या में आजादी के नायक जुटें थे। जिसकी जानकारी जब अंग्रेजी प्रशासन को हुई तो फिरंगियों ने मंदिर परिसर में जमकर खून-खराबा किया। पकड़े गए 22 सेनानियां को काले पानी की सजा दी गई थी।

Spotlight

Most Read

National

अयोग्य घोषित 8 विधायक फिर पहुंचे हाईकोर्ट, बोले- हमारा पक्ष नहीं सुना गया 

लाभ के पद के मुद्दे पर सदस्यता गंवाने वाले आम आदमी पार्टी के 20 में से आठ विधायकों ने मंगलवार को हाईकोर्ट में पुन: याचिका दायर कर सदस्यता रद्द करने के निर्णय को गैर कानूनी बताया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी में कोहरे का कहर जारी, ट्रक और कार की टक्कर में तीन की मौत

कन्नौज के तालग्राम में आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे पर कोहरे के चलते एक भीषण सड़क हादसा हो गया। कोहरे की वजह से पीछे से आ रही कार के चालक को सड़क पर खड़ा ट्रक  नजर नहीं आया और उनमें कार जा टकराई। हादसे में तीन की मौत हो गई।

10 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper