फौजी पड़ाव से नगरपालिका का नाम खारिज

Kannauj Updated Fri, 30 Nov 2012 12:00 PM IST
छिबरामऊ (कन्नौज)। स्थानीय प्रशासन ने नगर में फौजी पड़ाव की करोड़ों की जमीन से नगरपालिका का नाम खारिज कर दिया । यही नहीं फर्जी शपथपत्र देकर जमीन पर हक जताने वालों के नाम खतौनी में अमलदरामद करने के आदेश जारी कर दिए। एसडीएम के इस आदेश के बाद पालिका ने उच्चाधिकारियों समेत राजपूत रेजीमेंट फतेहगढ़ को भी सूचना भेज कर पूरे मामले से अवगत करा दिया है। उधर नाम दर्ज होते ही उन लोगों ने जमीन का बैनामा भी कर करा लिया। हालांकि फर्जी शपथपत्र देने के मामले में रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए पालिका के ईओ ने मंगलवार को कोतवाली में तहरीर भी दी थी लेकिन अभी तक रिपोर्ट दर्ज नहीं हो सकी है।
ज्ञात हो कि नगर में हाइवे किनारे ग्राम देव वरमपुर में जोकि अब टाउनएरिया के आधीन है गाटा सं.387 रकबा 3.31 फौजी पड़ाव के नाम से नगरपालिका के संपत्ति रजिस्टर में दर्ज हैं। नगरपालिका के नजूल संपत्ति रजिस्टर में इस भूखंड को तत्कालीन तहसीलदार ने 16 जनवरी 1988 को सत्यापित भी किया था। इसका वर्ष 1991 में प्रभारी अधिकारी नजूल ने भी अवलोकन किया । इसके खिलाफ बाबूराम आदि ने नगरपालिका के खिलाफ वाद दाखिल कर दिया। इस मुकदमे का निर्णय 22 दिसंबर 87 को नगरपालिका के खिलाफ हुआ। इसके बाद नगरपालिका ने एक बार फिर विशेष न्यायाधीश के न्यायालय में अपील दायर की। नगरपालिका की दूसरी अपील 2002 में उच्च न्यायालय इलाहाबाद में दाखिल की जो अभी विचाराधीन है। एक वाद न्यायालय सिविल जज सीनियर डिवीजन कन्नौज की कोर्ट में भी विचाराधीन है।
भूखंड सं.387 क्षेत्रफल 3.31 एकड़ भारत सरकार की भूमि है जो फौजी पड़ाव के नाम से राजस्व अभिलेखों में दर्ज है जिसका प्रबंध व देखरेख नगरपालिका परिषद कर रहा है। सरकार हित में निकाय इन सभी वादों की पैरवी कर रहा है। उक्त प्रकरण में एसडीएम राजेंद्र सिंह सेंगर ने सिविल जज फर्रूखाबाद के वाद सं.27/1985 में पारित आदेश के क्रम में 20 नवंबर को देववरमपुर स्थित गाटा सं.387 रकबा 3.31 पर फौजी पड़ाव प्रबंधक नगरपालिका का नाम खारिज करके फर्म बाबूराम शिवशंकर लाल रजिस्टर्ड पार्टनर शिप द्वारा शिवशंकर लाल, उमाशंकर व रामशंकर गुप्ता के नाम खतौनी में अमलदरामद करने के आदेश जारी कर दिए।
नगरपालिका के अधिशासी अधिकारी ने बताया कि उमाशंकर व रमाशंकर ने जिलाधिकारी को 11 सितंबर को अपना तथा अपने मृतक भाई शिवशंकर लाल के नाम गाटा सं.387 रकबा 3.31 मौजा देववरमपुर अंडर टाउन एरिया फौजी पड़ाव का नाम निरस्त करके अपना नाम दर्ज कराने के लिए हलफ नामा दिया था । जिलाधिकारी को दिए गए प्रार्थनापत्र में शिवशंकर लाल के फर्जी हस्ताक्षर बनाए गए एवं नोटरी शपथ पत्र भी प्रस्तुत किया गया जबकि शिवशंकर लाल की मृत्यु 19 अक्टूबर 2006 को ही हो चुकी है जबकि शपथ पत्र 11 सितंबर 12 को प्रस्तुत किया गया और उसी दिन नोटरी द्वारा तस्दीक किया गया है। इन लोगों ने भारत सरकार की संपत्ति हड़पने के लिए गलत शपथ पत्र प्रस्तुत किया जो कि अपराध है। उन्होंने बताया कि इस संबंध में उच्चाधिकारियों को अवगत कराते हुए राजपूत रेजीमेंट फतेहगढ़ को भी व्यक्तिगत रूप से सूचना भेज दी गई है और रिपोर्ट लिखाने के लिए कोतवाली में तहरीर भी दे दी गई।
उप जिलाधिकारी राजेंद्रसिंह सेंगर का इस बारे में कहना है कि वाद संख्या 27/1985 में सिविल जज फर्रूखाबाद द्वारा पारित आदेश के आधार पर उन्होंने फौजी पड़ाव प्रबंधक नगरपालिका का नाम खारिज करके शिवशंकर लाल, उमाशंकर व रामशंकर का नाम खतौनी में अंकित कर अमलदरामद करने के आदेश किए हैं।

Spotlight

Most Read

National

मौजूदा हवा सेहत के लिए सही है या नहीं, जान सकेंगे आप

दिल्ली के फिलहाल 50 ट्रैफिक सिग्नल पर वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) डिस्पले वाले एलईडी पैनल पर यह जानकारी प्रदर्शित किए जाने की कवायद हो रही है।

19 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी में कोहरे का कहर जारी, ट्रक और कार की टक्कर में तीन की मौत

कन्नौज के तालग्राम में आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे पर कोहरे के चलते एक भीषण सड़क हादसा हो गया। कोहरे की वजह से पीछे से आ रही कार के चालक को सड़क पर खड़ा ट्रक  नजर नहीं आया और उनमें कार जा टकराई। हादसे में तीन की मौत हो गई।

10 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper