विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
कराएं दिवाली की रात लक्ष्मी कुबेर यज्ञ, होगी अपार धन, समृद्धि  व्  सर्वांगीण कल्याण  की प्राप्ति : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

कराएं दिवाली की रात लक्ष्मी कुबेर यज्ञ, होगी अपार धन, समृद्धि व् सर्वांगीण कल्याण की प्राप्ति : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

कमलेश तिवारी हत्याकांड: लखनऊ जाने के लिए हत्यारों ने कानपुर सेंट्रल से बदली थी ट्रेन

लखनऊ के चर्चित कमलेश तिवारी हत्याकांड के तार अब कानपुर से भी जुड़ते हुए नजर आ रहे हैं। लखनऊ एसटीएफ ने पहले कानपुर देहात से शनिवार रात को एक युवक काे उठाया फिर जानकारी लगी कि हत्यारे उद्योग नगरी एक्सप्रेस से कानपुर सेंट्रल रेलवे स्टेशन पर उतरे थे।

20 अक्टूबर 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

झांसी

रविवार, 20 अक्टूबर 2019

‘उज्जवल’ बदलेगा किसानों की किस्मत

बुंदेलखंड के किसानों की किस्मत बदलेगा ‘उज्ज्वल’
झांसी। रानी लक्ष्मीबाई केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय ने काबुली चना का उन्नत बीज ‘उज्ज्वल’ तैयार किया है। यह बीज बुंदेलखंड के किसानों की किस्मत बदल सकता है। इसकी बुवाई करने से किसान प्रति हेक्टेयर 18 से बीस क्विंटल उपज प्राप्त कर सकते हैं। यह सामान्य बीजों से 10 से पंद्रह प्रतिशत अधिक है। फसल भी 130 दिन में तैयार हो जाती है। इसके अलावा विश्वविद्यालय ने देसी चना (आरवीजी-202, जेजी-14, जेएकेआई-9218) की तीन किस्में भी तैयार की हैं।
रानी लक्ष्मीबाई केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय किसानों के सहयोग से प्रयोगशाला में अलग-अलग फसलों की नई-नई उन्नत किस्में के बीज तैयार कर रहा है। इसी क्रम में विश्वविद्यालय ने उज्ज्वल नाम से काबुली चना का एक बीज तैयार किया है। कुलपति प्रो. अरविंद कुमार ने बताया कि इस बीज की बुवाई करने से उख्टा रोग नहीं होता है। प्रति हेक्टेयर 18 से 20 क्विंटल उपज होती है, जबकि अन्य बीजों की बुवाई करने से प्रति हेक्टेयर 15 से 16 क्विंटल ही उपज प्राप्त होती है।
उन्होंने बताया कि मौजूदा समय चना की बुवाई के लिए उपयुक्त है। किसान नमी का उपयोग कर बुवाई कर सकते हैं। ‘उज्ज्वल’ बीज विश्वविद्यालय से प्राप्त किया जा सकता है।
क्या है काबुली
चने की एक किस्म को काबुली चना या प्रचलित भाषा में छोले भी कहा जाता है। यह अफगानिस्तान, दक्षिण यूरोप, उत्तरी अफ्रीका और चिली में पाए जाते रहे हैं। भारतीय उपमहाद्वीप में यह चना अठारहवीं शताब्दी में लाए गए। इसके बाद इनका यहां प्रयोग हो रहा है।
अन्य फसलों के बीज भी उपलब्ध
कृषि विश्वविद्यालय में अन्य फसलों के बीज भी उपलब्ध हैं। सरसों की तीन प्रजातियां डीआरएमआर आईजे 31, एनआरसीएचबी 101, आरएच 406, मटर की दो प्रजातियां आईपीएफडी 10-12 (हरी मटर) अमन (सफेद मटर), मसूर की आईपीएल 316, गेहूं की एचआई 1544, एचआई 1605 नाम से प्रमाणित प्रजातियां उपलब्ध हैं। पहले आएं, पहले पाएं की तर्ज पर क्षेत्र के किसान किसी भी कार्य दिवस में विश्वविद्यालय परिसर से बीजों को प्राप्त कर सकते हैं। इन फसलों को उगाने की उन्नत तकनीक की नवीनतम जानकारी विश्वविद्यालय से नि:शुल्क प्राप्त की जा सकती है।
... और पढ़ें

आज से जानें अंतरिक्ष विज्ञान की बारीकियां

आज से जानें अंतरिक्ष विज्ञान की बारीकियां
झांसी। बुंदेलखंड विश्वविद्यालय और भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान की ओर से 18 से 20 अक्तूबर तक तीन दिवसीय विक्रम साराभाई अंतरिक्ष प्रदर्शन का आयोजन किया जा रहा है। बीयू के राजीव गांधी इंडोर स्टेडियम में होने वाली प्रदर्शनी में छात्र-छात्राओं को अंतरिक्ष विज्ञान के संबंध में काफी कुछ जानने व सीखने को मिलेगा।
प्रदर्शनी के संयोजक डॉ. ऋषि कुमार सक्सेना ने बताया कि प्रदर्शनी का प्राथमिक उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले विद्यार्थियों को अंतरिक्ष विज्ञान के प्रति शिक्षित एवं जागरूक करना है, जिससे वे इस विषय में रुचि लें। इसरो का उद्देश्य है कि अधिक से अधिक छात्र अंतरिक्ष विज्ञान के प्रति आकर्षित हों ओर भविष्य में इसरो को अधिक से अधिक संख्या में सुयोग्य इंजीनियर तथा वैज्ञानिक मिल सकें। प्रदर्शनी में लगाए गए मॉडल ऑडियो विजुअल उपकरणों, स्टैटिक पैनल, डिस्प्ले बोर्ड आदि की सहायता से अधिक से अधिक श्रोताओं तक पहुंचने का प्रयास किया जाएगा। इस प्रदर्शनी में 16 मॉडल प्रदर्शित किए जाएंगे। प्रदर्शनी में आर्यभट्ट, भास्कर-1, एप्पल, रीसेट प्रथम, ओसीयन सेटेलाइट आईआरएस व आईएच-4, ओसीयन सेटेलाइट 2 व अन्य कई उपकरण और मॉडल प्रदर्शित किए जाएंगे। उन्होंने बताया कि प्रदर्शनी में उन सेटेलाइट की जानकारी भी दी जाएगी, जो फसल और तूफान की सूचना देने में कारगर हैं। इसरो द्वारा अंतरिक्ष विज्ञान से संबंधित चार लघु फिल्में भी छात्रों को दिखाई जाएंगी। प्रदर्शनी सभी छात्र-छात्राओं तथा आम जनता के लिए खुली रहेगी।
वहीं, बृहस्पतिवार की शाम कुलपति प्रो. जेवी वैशम्पायन ने प्रदर्शनी की तैयारियों का अवलोकन किया। इसरो से आए वैज्ञानिक सतीश राव से प्रदर्शित होने वाले विभिन्न उपकरणों एवं मॉडलों व उनकी उपयोगिता के बारे में जानकारी ली। इस दौरान इं. राहुल शुक्ला, डॉ. संजीव श्रीवास्तव, डॉ. मो. नईम, डॉ. इकबाल खान, इं. बृजेश लोधी, डॉ. धीरेंद्र यादव, डॉ. पीयूष भारद्वाज, डॉ. लवकुश द्विवेदी, अनिल झरबड़े, डॉ. विनीत कुमार मौजूद रहे।
... और पढ़ें

कड़े मुकाबले में बनारस की टीम ने खिताब पर कब्जा किया

कड़े मुकाबले में बनारस की टीम ने खिताब पर कब्जा किया
झांसी। मेजर ध्यानचंद स्टेडियम में बृहस्पतिवार को आयोजित प्रदेश स्तरीय सब जूनियर बालक हैंडबॉल प्रतियोगिता का खिताब बनारस ने अयोध्या को हराकर हासिल किया। विजेता टीम के रजनीश यादव, दीपक भारती ने शानदार प्रदर्शन किया। समापन कार्यक्रम में विजेता एवं उप विजेता टीमों को ट्राफियां प्रदान की गईं।
स्टेडियम में खेला गया फाइनल मैच बेहद रोमांचक रहा। वाराणसी ने अयोध्या क ो 28 - 25 से हराया। कडे़ मुकाबले में बनारस के रजनीश यादव ने 15, दीपक भारती ने 13, आदित्य सरोज ने 11 और अभिषेक ने चार गोल किए। जबकि उपविजेता टीम की ओर से निहाल ने 8, सुखदेव ने पांच और शुभम ने 4 गोल किए। इससे पहले सेमीफाइनल मैच खेले गए। इनमें अयोध्या ने अमेठी छात्रावास को 31 - 22 से हराया। अयोध्या के मलकीत और निहाल ने 8 व 7 गोल किए। दूसरे सेमीफाइनल में वाराणसी ने मेरठ को 19 - 18 से हराया। इसमें दीपक भारती ने 5, रजनीश व आदित्य ने 4 - 4 गोल किए।
निर्णायकों में सूरज भान, गोविंद निषाद, विकास उपाध्याय, अमित पांडेय, विजय सिंह, सुरिंदर कौर रहीं। समापन कार्यक्रम में नगर विधायक रवि शर्मा ने विजेता एवं उप विजेता टीमों को ट्राफी प्रदान की। इस मौके पर उन्होंने कहा कि आज प्रत्येक व्यक्ति को अपने शरीर के प्रति सजग रहना चाहिए। वह अपने बच्चों को खेल मैदानों में भेजे। इससे शारीरिक और मानसिक विकास होता है। इस अवसर पर प्रभारी क्षेत्रीय क्रीड़ा अधिकारी सुरेश बोनकर, जिला हैंडबॉल संघ के सचिव राजीव सरावगी, जिला फुटबाल संघ के सचिव अब्दुल सगीर, क्रीड़ा अधिकारी एमएच चौधरी, संजीव सरावगी, मंजू शर्मा, धर्मेंद्र कुमार, चौधरी फिरोज आदि मौजूद रहे।
... और पढ़ें

सुभाषगंज में छापा, आठ लाख का घी पकड़ा

खाद्य सुरक्षा विभाग की टीमों ने सुभाषगंज स्थित दुकान पर छापा मारकर घी के नमूने लिए। नमूनों को जांच के लिए प्रयोगशाला भेज दिया गया है। इसके अलावा आठ लाख रुपये का लगभग 1700 किलो घी सीज कर दिया गया है। टीम ने नमकीन की दुकान से नमकीन के दो नमूने लेकर जांच के लिए खाद्य विश्लेषक प्रयोगशाला भेजे हैं।

खाद्य सुरक्षा विभाग की टीम ने सुभाषगंज स्थित घी की दुकान पर छापा मारा। मौके पर पाए गए घी के दो नमूने लेकर जांच के लिए खाद्य विश्लेषक प्रयोगशाला भेज दिए। मौके पर अन्य ब्रांड के टीनों में आठ लाख रुपये मूल्य का लगभग 1700 किलो घी सीज कर दुकानदार की अभिरक्षा में सुरक्षित रखवा दिया गया।

इसके बाद टीम ने एक नमकीन की दुकान पर छापा मारा। नमकीन के दो नमूने लेकर जांच के लिए प्रयोगशाला भेज दिए। अभिहित अधिकारी राजेश द्विवेदी के नेतृत्व में मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी नरेंद्र कुमार सिंह व खाद्य सुरक्षा अधिकारी रविंद्र सिंह परमार, विनोद यादव, विजय बहादुर, जितेंद्र सिंह, आजाद कुमार, कपिल गुप्ता एवं दीपक कुमार छापेमारी टीम में मौजूद रहे।

इसके अलावा खाद्य सुरक्षा विभाग की टीम ने बिजौली स्थित औद्योगिक क्षेत्र में एक गोदाम पर छापा मारा। बिजौली में मिस ब्रांडेड टोस्ट का नमूना लेकर लगभग 13 हजार रुपये का माल सीज कर दिया। वैध लाइसेंस न होने के कारण सीज किए गए गोदाम में लगभग तीन लाख का पफ भी रखा हुआ मिला। वहीं, बस स्टैंड पर बाहर से आने वाली बसों की भी जांच पड़ताल की गई।

विभाग को दें सूचना
दीपावली पर खाद्य सुरक्षा विभाग ने ’एक युद्ध मिलावट के विरुद्ध’ टैगलाइन के साथ मिलावटखोरों के खिलाफ विशेष अभियान चला रखा है। इसमें मिलावटखोरों को चिह्नित कर या सटीक सूचना के आधार पर कार्रवाई की जा रही है।

अभिहित अधिकारी ने त्योहारों पर आमजन से मिलावट करने वालों के विषय में सूचना देने की अपील की है। मिलावट करने वालों की सही सूचना देने वालों के नाम गुप्त रखे जाएंगे। मगर गलत या भ्रामक सूचना देने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें
प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर

प्रदर्शनी देखी, शंकाओं का भी हुआ समाधान

प्रदर्शनी देखी, शंकाओं का भी हुआ समाधान
झांसी। बुंदेलखंड विश्वविद्यालय का राजीव गांधी इंडोर स्टेडियम शुक्रवार को विभिन्न स्कूलों और संस्थानों के विद्यार्थियों के आवागमन से गुलजार रहा। छात्र-छात्राओं ने अंतरिक्ष प्रदर्शनी में रुचि दिखाते हुए इसरो के वैज्ञानिकों से सवाल-जवाब भी किए।
प्रदर्शनी को देखने के लिए शनिवार को झांसी के 21 विद्यालयों के लगभग 1500 से अधिक छात्र-छात्राएं राजीव गांधी इंडोर स्टेडियम पहुंचे। विद्यार्थियों ने प्रदर्शनी में दिखाए गए मॉडलों एवं चित्रों से संबंधित अपनी शंकाओं का समाधान भी किया। संयोजक डॉ. ऋषि कुमार सक्सेना ने बताया कि यह प्रदर्शनी रविवार को भी छात्र-छात्राओं और आमजन के लिए खुली रहेगी।
इस दौरान छात्र कल्याण अधिष्ठाता प्रो. देवेश निगम, प्रो. एसपी सिंह, प्रो. एमएम सिंह, प्रो. सुनील काबिया, प्रो. प्रतीक अग्रवाल, प्रो. एसके कटियार, इंजी. राहुल शुक्ला, डॉ. सुनील त्रिवेदी, डॉ. धीरेंद्र सिंह यादव, डॉ. राजीव बबेले, डॉ. संजय निबोरिया, डॉ. सौरभ श्रीवास्तव, डॉ. जाकिर अली, इं. सादिक खान मौजूद रहे।
क्विज में पीयूष अव्वल
इसरो की ओर से शनिवार को अभियांत्रिकी विभाग में क्विज प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। इसमें प्रतिभागियों से सामान्य ज्ञान से लेकर तकनीकी से जुड़े सवाल पूछे गए। प्रतियोगिता में कंप्यूटर साइंस विभाग के पीयूष मिश्रा प्रथम, बायोटेक के किश्ले चतुर्वेदी द्वितीय और मेकेनिकल इंजीनियरिंग के सूर्यांश जिंदल, कंप्यूटर साइंस के रिषभ कटियार व कौशांक वर्मा तृतीय और कंप्यूटर साइंस के गौरव भास्कर व मणि त्रिपाठी चतुर्थ रहे। विजेता प्रतिभागियों को कुलपति प्रो. जेवी वैशम्पायन व इसरो के वैज्ञानिकों ने पुरस्कृत किया।
... और पढ़ें

सड़क दुर्घटनाओं में दो लोगों की मौत

सड़क हादसे में दो लोगों की मौत
झांसी। अलग - अलग स्थानों पर हुुईं सड़क दुर्घटनाओं में दो लोगों की मौत हो गई। साथ ही अन्य घटनाओं में तीन लोग घायल हो गए। घायलों को उपचार के लिए मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है।
पहली घटना में टीकमगढ़ के झिरियानाका धनवाहा निवासी लखन रायकवार (22) अपने भतीजे शिवकुमार (06) के साथ बम्हौरी में रहने वाली बहन के घर गए थे। शुक्रवार की शाम को वह बाइक से घर वापस लौट रहे थे। तभी अगौरा तिगैला पर सरकारी बस ने उनको टक्कर मार दी। टक्कर लगने से दोनों घायल हो गए। सूचना पर पहुंचे परिजन उनको लेकर मेडिकल कॉलेज आ गए। यहां चिकित्सकों ने लखन को मृत घोषित कर दिया। पोस्टमार्टम हाउस पर मृतक के भाई दयाराम ने बताया कि लखन की साढ़े तीन साल की बेटी और तीन महीने का बेटा है। लखन और उसकी पत्नी दिल्ली में मजदूरी करते थे। वह 15 दिन पहले ही दिल्ली से गांव लौटे थे।
इधर, विगत 16 अक्तूबर को निवाड़ी के सेंदरी थाना क्षेत्र के बिजौर गांव निवासी सुनील यादव (40) पुत्र करण सिंह चिरगांव से अपने गांव अपने एक साथी के साथ बाइक पर जा रहे थे। पहाड़ी के पास उनको अज्ञात वाहन ने टक्कर मारकर घायल कर दिया था। पुलिस ने दोनों को उपचार के लिए मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया। 18 अक्तूबर की शाम सुनील की उपचार के दौरान मौत हो गई। सुनील की दो बेटी व एक बेटा है।
उधर, ग्वालियर मार्ग औद्योगिक क्षेत्र में रहने वाले शिवनारायण यादव (50) शनिवार की सुबह नौ बजे साइकिल से घरेलू सामान लेकर घर लौट रहे थे। पॉलीटेक्निक चौकी के पास मोड़ पर एक ट्रक ने उनको टक्कर मारकर घायल कर दिया। हादसे के बाद वह काफी देर तक सड़क पर ही पड़े रहे। मौके पर लोगों भीड़ लग गई। सूचना पर पहुंची उनकी पत्नी सुनीता उनको ऑटो से मेडिकल कॉलेज ले गई। चौकी पुलिस ने ट्रक को कब्जे में ले लिया है। इसी तरह गुरसराय के सेहगुवां गांव निवासी विनोद (31) पुत्र हरनारायण बाइक से जा रहे थे। रास्ते में उनको दूसरे बाइक सवार ने टक्कर मारकर घायल कर दिया। एक अन्य घटना नवाबाद थाना क्षेत्र के कोछाभांवर के निकट इंजीनियरिंग कॉलेज पर हुई। शुक्रवार की शाम इंजीनियरिंग कॉलेज परिसर में रहने वाले कर्मचारी रमेश परिहार बेटी सुभि (16) को बाइक पर बिठाकर दूध लेकर घर लौट रहे थे। रास्ते में तेज गति से दौड़कर आई नील गाय ने उनको घायल कर दिया।
... और पढ़ें

पति ने मोबाइल चलाने पर टोका तो पत्नी ने खाया जहर, मौत

पति ने मोबाइल चलाने पर टोका तो पत्नी ने खाया जहर, मौत
झांसी। ललितपुर के बिरारी में रहने वाली महिला ने पति द्वारा मोबाइल के ज्यादा उपयोग किए जाने पर टोकाटाकी करने से नाराज होकर जहर खा लिया। मेडिकल कॉलेज में उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई। महिला शिक्षिका बनने के लिए कॉलेज में पढ़ाई कर रही थी।
ललितपुर के बिरारी गांव निवासी राजेंद्र कुमार कुशवाहा की शादी महरौनी क्षेत्र के बूढ़ी सौजना निवासी गीता (25) के साथ छह साल पहले हुई थी। उनकी साढ़े तीन साल और पांच महीने की बेटियां हैं। राजेंद्र पहलवान गुरुदीन महाविद्यालय में बी फार्मेसी की पढ़ाई कर रहे हैं। जबकि गीता शिक्षिका बनने के लिए उसी कॉलेज में बीएड की पढ़ाई कर रही थी। पति ने बताया कि गीता मोबाइल पर ज्यादा बातें करती थी। वह पढ़ाई पर ज्यादा ध्यान देने के लिए कहते थे। इस बात को लेकर उन्होंने टोकाटाकी की। इससे गीता नाराज हो गई। शुक्रवार को दोनों ने साथ खाना खाया और सोने चले गए। रात 11 बजे पत्नी ने तबीयत बिगड़ने की शिकायत की। वह गीता को ललितपुर के अस्पताल ले आए। वहां से चिकित्सकों ने झांसी मेडिकल कॉलेज के लिए रेफर कर दिया। मेडिकल कॉलेज में पता लगा कि गीता ने जहर खाया है। शनिवार की सुबह पांच बजे गीता की उपचार के दौरान मौत हो गई।
... और पढ़ें

झांसी: खाद्य सुरक्षा विभाग की टीम का बाजार में छापा, साढ़े आठ लाख का घी किया सीज

woman socid cese
झांसी में खाद्य सुरक्षा विभाग की दो टीमों ने संयुक्त रूप से सुभाषगंज बाजार स्थित एक दुकान पर छापा मारा। टीम ने मौके पर पाए गए घी के दो नमूने लेकर जांच के लिए खाद्य विश्लेषक प्रयोगशाला भेज दिए हैं। इस दौरान जांच टीम ने मौके पर लगभग 1700 किलो घी सीज कर दिया।

इसके अलावा टीम ने एक नमकीन भण्डार से मिस्ब्रांडेड नमकीन के दो नमूने लेकर जांच के लिए प्रयोगशाला भेज दिए हैं। बता दें कि इस दीपावली पर खाद्य सुरक्षा विभाग मिलावटखोरों के विरुद्ध विशेष अभियान चला रहा है। खाद्य सुरक्षा विभाग टीम ने कार्रवाई करते हुए बस अड्डे से 9 क्विंटल खोया, 2.50 क्विंटल बूंदी और 70 किलो छेने की मिठाई पकड़ी भी पकड़ी है।

अभियान के तहत मिलावटखोरों को चिन्हित कर या सटीक सूचना के आधार पर ठोस कार्रवाई की जा रही है। वहीं अभिहीत अधिकारी राजेश द्विवेदी ने दीपावली के मद्देनजर लोगों से मिलावटखोरों के बारे में सूचना देने की अपील की है।

 
... और पढ़ें

दीपावली पर गुलजार हुआ इलेक्ट्रानिक आइटम का बाजार

दीपावली पर गुलजार हुआ इलेक्ट्रानिक आइटम का बाजार
झांसी। दीपावली पर ऑनलाइन कंपनियों को टक्कर देने शहर के रिटेल कारोबारियों ने भी तैयारी की हुई है। उनके मुकाबले के लिए दुकानदारों ने लोकल मार्केट में इलेक्ट्रानिक आइटमों के दाम ऑनलाइन बाजार के मुकाबले रखने की कोशिश की है। इसके अलावा ग्राहकों को कई आकर्षक उपहारों की भी पेशकश की जा रही है। व्यवसायियों को उम्मीद है कि इनके जरिये उनका दीपावली पर कारोबार अच्छा चलेगा।
सदर बाजार, शहर, सीपरी बाजार समेत अन्य इलाकों में इलेक्ट्रानिक उत्पादों की दुकानें दीपावली के रंग में रंगनी शुरू हो गई हैं। दिवाली में इलेक्ट्रानिक्स आइटमों की खासी मांग रहती है। इसको देखते हुए कर्व एलईडी टीवी, अल्ट्रा फोर-के एचडी एलईडी खास तौर से उतारी गई है। फ्रिज, वाशिंग मशीन, लैपटॉप, कम्प्यूटर, मोबाइल फोन भी कई नए रेंज में पेश किए गए हैं। ब्रांडेड टीवी दस हजार रुपये से लेकर 80 हजार रुपये कीमत तक मौजूद है। मोबाइल फोन की भी सैकड़ों श्रेणियों में बाजार में भरे पड़े हैं।
फ्रिज, एसी जैसे आइटमों में ऑफ सीजन होने के नाते पहले से छूट दी जा रही, लेकिन दीपावली को देखते हुए दाम और घटाए गए हैं। सदर बाजार स्थित प्रतिष्ठित प्रतिष्ठान संचालक संजय अरोड़ा बताते हैं ऑनलाइन बाजार सबसे बड़ी चुनौती है। उससे निपटने के लिए उतने ही दाम पर उपकरण उपलब्ध कराए जा रहे हैं। ऑनलाइन मार्केट में जिस दाम में ब्रांडेड एलईडी टीवी है, उतने दाम में यहां के बाजार भी उपलब्ध करा रहे हैं। उनका दावा है सर्विस के मामले में भी रिटेल कारोबारी ऑनलाइन कंपनियों के मुकाबले बेहतर हैं। कारोबारी ओमप्रकाश मिश्रा बताते हैं दीपावली के मौके पर ब्रांडेड उपकरणों पर करीब बीस फीसदी तक छूट दी गई है। कई सारे दूसरे ऑफरों के जरिए भी ग्राहकों को लुभाने की कोशिश की जा रही।
बता दें, ऑनलाइन कंपनियों ने पिछले कई सालों से इलेक्ट्रानिक के स्थानीय कारोबारियों के होश उड़ा रखे हैं। ऑनलाइन कंपनियों करीब इलेक्ट्रानिक आइटमों पर करीब तीस से पचास फीसद तक छूट दे रही हैं। कारोबारी भी मानते हैं कि इस वजह से पचास फीसद मार्केट पर ऑनलाइन कंपनियों का कब्जा है। कारोबारी पुखराज जैन का मानना है दाम में काफी अंतर होने की वजह से ऑनलाइन कंपनियों का मुकाबला करने में काफी कठिनाई हो रही है। उनका कहना है ग्राहक मौके पर ही ऑनलाइन कंपनियों की साइट खोलकर उसी दाम पर उपकरण की मांग करते हैं लेकिन उनका कहना है दीपावली पर भी लोकल मार्केट में भरपूर बिक्री होगी।
... और पढ़ें

छात्र-छात्राओं को मिला अंतरिक्ष विज्ञान का ज्ञान

छात्र-छात्राओं को मिला अंतरिक्ष विज्ञान का ज्ञान
झांसी। बुंदेलखंड विश्वविद्यालय के राजीव गांधी इंडोर स्टेडियम में इसरो की ओर से लगाई गई विक्रम साराभाई अंतरिक्ष प्रदर्शनी में शुक्रवार को विभिन्न स्कूलों, कॉलेजों के छात्र-छात्राओं की भीड़ उमड़ी। इस दौरान कई मॉडलों के जरिये अंतरिक्ष अनुसंधान की महत्वाकांक्षी परियोजनाओं से रूबरू कराया गया। इसके अलावा उन्हें इसरो की गतिविधियों, उपलब्धियों के बारे में जानकारी दी गई। प्रदर्शनी 20 अक्तूबर तक चलेगी।
प्रदर्शनी में लगाए गए मॉडल ऑडियो विजुअल उपकरणों, स्टेटिक पैनल, डिस्प्ले बोर्ड की कार्यविधि को समझने में विद्यार्थियों ने गहरी रुचि दिखाई। प्रदर्शनी में 16 से अधिक मॉडल रखे गए हैं। इनमें आर्य भट्ट, भास्कर-1, एप्पल, रीसेट प्रथम, आईआरएसए समेत कई माडल और उपकरण शामिल हैं। इसरो की ओर से उसके उद्भव व विकास से संबंधित चार लघु फिल्में भी छात्र-छात्राओं को दिखाई गई। प्रदर्शनी के संयोजक डॉ. ऋषि कुमार सक्सेना ने बताया कि झांसी के 21 स्कूलों, कॉलेजों के दो हजार से अधिक छात्र-छात्राएं प्रदर्शनी को देखने के लिए पहुंचे। यह प्रदर्शनी 20 अक्तूबर तक चलेगी। छात्र-छात्राओं से लेकर आम जनता तक प्रदर्शनी में आकर अंतरिक्ष विज्ञान की बारीकियां जान सकता है।
इससे पूर्व सुबह चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय, मेरठ के पूर्व कुलपति प्रो. एसपी ओझा, इसरो के वैज्ञानिक डॉ. सतीश राव और बुंदेलखंड विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. जेवी वैशम्पायन ने प्रदर्शनी का शुभारंभ किया। इस दौरान कुलपति ने कहा कि विज्ञान के क्षेत्र मेें निरंतर प्रगति हो रही है लेकिन अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में भारत की प्रगति भी एक मील का पत्थर मानी जा सकती है। उन्हाेेंने कहा कि इस प्रकार की प्रदर्शनियों का आयोजन लगातार और विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में होना चाहिए। ताकि, ग्रामीण क्षेत्रों के विद्यार्थी भी विज्ञान के इस क्षेत्र के प्रति आकर्षित हों।
इस मौके पर डीन एकेडमिक प्रो. एसपी सिंह, डीन साइंस प्रो. एमएम सिंह, डीन आर्ट्स प्रो. सीबी सिंह, डीन इंजीनियरिंग प्रो. एसके कटियार, प्रो. सुनील काबिया, इंजी. राहुल शुक्ला, प्रो. प्रतीक अग्रवाल, प्रो. आरके सैनी, आर्मी स्कूल बबीना कैंट के विज्ञान समन्वयक देवेंद्र दीक्षित, डॉ. धीरेंद्र यादव, डॉ. जेपी यादव, डॉ. मो. नईम, डॉ. इकबाल खान, डॉ. नेहा मिश्रा, डॉ. लवकुश द्विवेदी, डॉ. राजीव बबेले, डॉ. अनिल झरबड़े व अनिल बोहरे आदि मौजूद रहे।
चंद्रयान-2 रहा आकर्षण का केंद्र
इसरो की प्रदर्शनी में छात्र-छात्राओं के लिए जानने के लिए बहुत कुछ है। यहां एसएलवी-3 से लेकर चंद्रयान-2 तक के मॉडल हैं। उपग्रह प्रक्षेपण यान या एसएलवी परियोजना इसरो की ओर से 1970 के दशक में शुरू की गई, जो उपग्रहों को प्रक्षेपित करने के लिए जरूरी प्रौद्योगिकी विकसित करने के लिए की गई थी। उपग्रह प्रक्षेपण यान का उद्देश्य चार सौर किलोमीटर की ऊंचाई तक पहुंचना और 40 किलो के पेलोड को कक्षा में स्थापित करना था। अगस्त 1979 में इसकी पहली प्रायोगिक उड़ान हुई लेकिन यह विफल रही। वहीं, एसएलवी-3 मिशनों से प्राप्त अनुभवों के आधार पर बने एएसएलवी के मॉडल भी उपलब्ध हैं। यहां उपलब्ध पीएसएलवी के मॉडल भी हैं, जो भारत की तृतीय पीढ़ी का रॉकेट है। इस रॉकेट ने सफलतापूर्वक दो अंतरिक्षयान वर्ष 2008 में चंद्रयान-1 और 2013 में मंगल कक्षित्र अंतरिक्षयान का प्रमोचन किया। इन्होंने क्रमश: चंद्र और मंगल तक यात्रा की। इसके अलावा यहां पर जीएसएलवी मार्क तीन का मॉडल भी है, जिसे चंद्रयान-2 में उपयोग किया गया। लाइटिंग होने के कारण यह विद्यार्थियों के आकर्षण का केंद्र बना हुआ है।
मौसम की जानकारी देने वाले सेटेलाइट भी
प्रदर्शनी में मौसम का पूर्वानुमान से लेकर आतंकी गतिविधि तक की जानकारी कैसे होती है, इसके उपकरणों के मॉडलों का भी प्रदर्शन किया गया है। यहां रडार इमेजिंग सेटेलाइट है, जो कि मौसम की संभावना बताती है। कब तूफान आएगा, बारिश होगी या सूखा पड़ेगा आदि के बारे में इससे पता लगाते हैं। वहीं, 2005 में लांच किया गया कार्टोसा सेटेलाइट का मॉडल भी है। इसकी अब तक आठ सीरीज लांच हो चुकी हैं। इससे आतंकी ठिकानों तक का पता लगाया जाता है। इसमें पैन्क्रोमेटिक लेंस का उपयोग किया जाता है, जिसके जरिए मानव आंख की तरह सेटेलाइट से आतंकी ठिकानों की जानकारी मिलती है। नवंबर तक कार्टोसा-3 लांच होने जा रही है।
... और पढ़ें

डिफेंस कॉरिडोर में विदेशी कंपनियां लगाएंगी इकाई

डिफेंस कॉरिडोर में विदेशी कंपनियां लगाएंगी इकाई
एरच(झांसी)। डिफेंस कॉरिडोर की स्थापना की दिशा में तेजी से काम जारी है। जमीन अधिग्रहण के बाद अब यहां इकाइयां स्थापित करने वाली कंपनियों के प्रतिनिधियों का भी आना शुरू हो गया है। विदेशी कंपनियां भी यहां इकाई लगाएंगी। बृहस्पतिवार को ब्रिटेन और दक्षिण कोरिया की कंपनियों के प्रतिनिधि एरच पहुंचे और विभिन्न जानकारियां जुटाईं।
डिफेंस कॉरिडोर के लिए गरौठा तहसील के एरच क्षेत्र में किसानों की 870 हेक्टेयर जमीन अधिग्रहण करने का काम अंतिम दौर में है। दूसरे चरण में जमीन का अधिग्रहण करने के बाद जमीन का बैनामा कराने का काम किया जा रहा है। किसानों को मुआवजा भी दिया जा रहा है। उत्तर प्रदेश डेवलपमेंट अथॉरिटी (यूपीडा) ने जमीन का अधिग्रहण किया है। स्थापना की दिशा में काम तेजी से जारी है। बृहस्पतिवार को ब्रिटेन और दक्षिण कोरिया की कंपनियों के प्रतिनिधियों ने जमीन का मुआयना किया। इस दौरान उन्होंने बताया कि यहां पर हवाई जहाज के पुर्जे तैयार किए जाएंगे। इसका युवाओं को प्रशिक्षण भी दिया जाएगा। साथ ही फौज के लिए शस्त्र भी तैयार किए जाएंगे।
कंपनियों के प्रतिनिधियों के साथ तहसीलदार गरौठा मनोज कुमार, यूपीडा के विशेष सलाहकार कर्नल कुलदीप सिंह त्यागी व एसडीएम यूपीडा संजय चावला रहे। यूपीडा के अधिकारियों ने बताया कि अभी दो चरणों में जमीन अधिग्रहण की गई है। कई गांवों की सोलह सौ हेक्टेयर जमीन अधिग्रहीत की जानी है। इस दौरान नगर पंचायत अध्यक्ष महेश यादव , अधिशासी अधिकारी कमाल अहमद, लेखपाल देश पाल व जितेंद्र सिंह मौजूद रहे।
डिफेंस कॉरिडोर की शासन स्तर पर डीपीआर तैयार हो गई है। जमीन अधिग्रहण का काम अंतिम दौर में है। एक साल बाद इकाइयों की स्थापना का काम शुरू हो जाएगा। इस दिशा में तेजी से काम जारी है।
- शिवसहाय अवस्थी, जिलाधिकारी
... और पढ़ें

निधि, प्रियंका, संजय और अनिकेत दौड़ में अव्वल

निधि, प्रियंका, संजय और अनिकेत दौड़ में अव्वल
झांसी। माध्यमिक शिक्षा विभाग की ओर से ध्यानचंद स्टेडियम में जिला एथलेटिक्स प्रतियोगिताएं शुरू हुईं। इसमें संजय अहिरवार, निधि राजावत, प्रियंका अहिरवार, अनिकेत ने दौड़ में अव्वल स्थान पाया। इसके साथ ही गोला फेंक के भी मुकाबले हुए। जिनमें पलक परिहार, निधि राय, अमित यादव व विशाल ने शानदार प्रदर्शन किया।
स्टेडियम में हुई तीन हजार मीटर की दौड़ में बालिका सीनियर वर्ग में निधि राजावत ने पहला, राम देवी ने दूसरा, श्वेता ने तीसरा, जूनियर बालिका वर्ग की तीन हजार मीटर दौड़ में प्रियंका अहिरवार ने पहला, वर्षा भारतीय ने दूसरा और अंजलि सिंह ने तीसरा स्थान पाया। बालकों के सीनियर वर्ग में तीन हजार मीटर की दौड़ में संजय अहिरवार ने पहला, जितेंद्र कुमार ने दूसरा, ऋषभ नायक ने तीसरा, जूनियर वर्ग की तीन हजार मीटर दौड़ में अनिकेत ने पहला, अनुराग यादव ने दूसरा और ऋकेंद्र ने तीसरा स्थान हासिल किया। गोला फेंक के सीनियर बालिका वर्ग में निधि राय ने पहला, कामिनी शाक्या ने दूसरा, निदा खान ने तीसरा, जूनियर बालिका वर्ग की गोला फेंक में पलक परिहार ने पहला, प्रभा प्रजापति ने दूसरा और साक्षी दुबे ने तीसरा, बालकों के सीनियर वर्ग में अमित यादव ने पहला, पवन श्रीवास ने दूसरा, विक्रम कुशवाहा ने तीसरा, जूनियर वर्ग में विशाल ने पहला, आकाश श्रीवास ने दूसरा और आकाश ने तीसरा स्थान पाया।
इससे पहले प्रतियोगिता का शुभारंभ मुख्य अतिथि जिलाधिकारी शिव सहाय अवस्थी ने किया। उन्होंने कहा कि जीवन में खेल आवश्यक है। बच्चे हारजीत पर ध्यान न देकर अपनी प्रतिभा का शानदार प्रदर्शन करें। इस अवसर पर उपशिक्षा निदेशक मंशाराम, जिला विद्यालय निरीक्षक कोमल यादव, जीआईसी प्राचार्य पीके मौर्य ने भी विद्यार्थियों का उत्साह बढ़ाया। इस अवसर पर जीजीआईसी प्राचार्या संध्या चतुर्वेदी, क्रीड़ा समिति सचिव अखिलेश ब्रह्मचारी, सुदर्शन शिवहरे, जेएस भोगल, अजय सिंह, दिनकर सक्सेना, मनोज मिश्रा, योगेंद्र मिश्रा, सुमन श्रीवास्तव, अर्चना गौतम, सुशीला अहिरवार, इकबाल खनूजा, मनमोहन मनु आदि मौजूद रहे। संचालन आशमा खान ने किया और आभार जिला क्रीड़ा समिति के सदस्य अजय रजक ने जताया।
... और पढ़ें

सउदी अरब हादसे में झांसी के चिकित्सक की मौत

सऊदी अरब में सड़क हादसे में झांसी के चिकित्सक की मौत
झांसी। सऊदी अरब के रियाद शहर में हुए बस हादसे में झांसी के एक चिकित्सक की मौत हो गई। वह वर्तमान में रियाद शहर के एक आर्मी हास्पिटल में कार्यरत थे। वह मदीना से मक्का उमरा करने जा रहे थे, रास्ते में सड़क हादसे का शिकार हो गए। इस दुखद खबर से परिजनों में मातम पसर गया है।
शिवाजी नगर क्षेत्र के आरटीओ ऑफिस के पास रहने वाले डॉ. फिरोज अली (37) फरवरी 2019 से सऊदी अरब के आर्मी हास्पिटल में कार्य कर रहे थे। शिवाजी नगर में उनकी मां महमूदा, पत्नी शिवाली, बेटी इगाना व शमा रहती हैं। सऊदी अरब जाने से पहले वह मेडिकल कॉलेज क्षेत्र में स्थित एक हास्पिटल में कार्यरत थे। 16 अक्तूबर को वह बस से मदीना से मक्का उमरा करने जा रहे थे, तभी उनकी बस सड़क दुर्घटना का शिकार हो गई। इस हादसे में 35 विदेशियों की मौत हो गई। इसमें डॉ. फिरोज अली भी शामिल थे। शुक्रवार को परिजनों ने रियाद के अधिकारियों से बातचीत की, तब उनको घटना की जानकारी हुई। यह जानकारी डॉ. फिरोज अली के ममेरे भाई इरशाद ने दी है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree