विज्ञापन
विज्ञापन

याद- ए- हुसैन में अंगारों पर चले अकीदतमंद

Jhansi Updated Tue, 04 Nov 2014 05:30 AM IST
ख़बर सुनें
झांसी। ‘दिन रोएगा रात रोएगी, हर मोमिन की आंख रोएगी, जब भी मोहर्रम का चांद नजर आएगा, गम- ए- हुसैन में पूरी कायनात रोएगी’। इसी जज्बे के साथ हजरत इमाम हुसैन और उनके 72 साथियों की शहादत की याद में ना ैवीं मोहर्रम पर सोमवार को अकीदतमंद आग के दहकते अंगारों पर दौड़े। जगह-जगह इमामबाड़ों को सजाकर ताजिया रखे गए। मुसलिम बहुल क्षेत्रों में रात भर कुरानख्वानी व शहादतनामा का सिलसिला चलता रहा।
विज्ञापन
इमाम बारगाह हुसैनी मेवातीपुरा में शियाओं की मजलिस हुई। फतेहपुर के मौलाना सैयद नसीमुल हसन ने मजलिस में बताया कि यजीदी फौजों के आक्रमण की सूचना पर हजरत इमाम हुसैन ने अपने भाई हजरत अब्बास को यजीदी फौज के कमांडर उमरे साद के पास भेजा और एक दिन की मोहलत मांगी। वह दिन मोहर्रम की नौ तारीख का था। इस रात को हजरत इमाम हुसैन ने अपने साथियों के साथ पूरी रात इबादत में गुजारी। अगले दिन दसवीं मोहर्रम को कर्बला में शहादत हुई। बयान सुनकर सभी की आंखों से आंसू निकल पड़े। मजलिस के बाद इमाम हुसैन के ताबूत की जियारत कराई गई। नौहा नवाब सैयद सुखनवर अली ने पढ़ा। इस दौरान अंजुमन -ए-अब्बासिया के महामंत्री जफर आलम आब्दी, सैयद नजर हैदर, मोहम्मद सलीस, अमीर हैदर, शाकिर अली, नजर हुसैन, मजहर हसनैन, मोहम्मद शाहिद, जमीर अली, रिजवान हुसैन, वीरेंद्र अग्रवाल, जफर हुसैन, सगीर मेंहदी, राजू आब्दी, फुरकान हैदर आदि मौजूद रहे।
वहीं, देर रात एक बजे बाहर ओरछा गेट, खुशीपुरा, एवट मार्केट में सुन्नियों ने आग का मातम किया। लोगों ने ‘या हुसैन, या अब्बास, या अली’ के नारे लगाए और 15 फीट लंबे गड्ढे में आग के दहकते अंगारों पर दौड़े। साथ ही हजरत इमाम हुसैन और उनके 72 साथियों को खिराज-ए-अकीदत पेश की।
देर रात को कुरैश नगर से बड़ा ताजिया निकाला गया, जो कपूर टेकरी से होते हुए एवट मार्केट, सदर बाजार से मिशन पहुंची। इस दौरान अखाड़ों में लोगों ने करतब दिखाए। अलम-पटके लिए अकीदतमंद मातमी धुन के बीच ताजिया को लेकर चल रहे थे। जगह-जगह लंगर बांटे जा रहे थे। कई हिंदू परिवारों ने भी जुलूस का स्वागत कर एकता की मिसाल पेश की। इसके अलावा प्रेम नगर, भट्टा गांव, सीपरी बाजार, खुशीपुरा, एवट मार्केट, तालपुरा समेत करीब पौने दो सौ ताजिया इमाम चौक पर रखे गए। सभी ताजिए मिशन में नंबर लगवाने के लिए पहुंचे। इसके बाद फिर से अपने स्थान पर वापस आ गए। अब इन ताजियों को मोहर्रम की दस तारीख मंगलवार को लक्ष्मीताल स्थित करबला में ठंडा किया जाएगा।

सुबह छह बजे से होगी मिसिलबंदी
झांसी। सोमवार को बुंदेलखंड ताजिया बुर्राक, अखाड़ा कमेटी की बैठक हुई, जिसमें ताजियादारों तथा अखाड़ों के उस्ताद व खलिफाओं से मिसिलबंदी के लिए मंगलवार को सुबह छह बजे गंदीगर टपरा पहुंचने की अपील की गई।
सैंयर गेट बाहर चौधरी असलम शेर के निवास पर आयोजित बैठक की अध्यक्षता मौलाना मुबारक ने की। मुख्य अतिथि काजी मोहम्मद हाशिम व विशिष्ट अतिथि रफीक खुश्तर रहे। इस दौरान मोहर्रम के जुलूस की रूपरेखा तय की गई। इस मौके पर हाजी डा. महबूब इलाही, जैनुल आब्दीन, शफीक मकरानी, इम्तियाज हुसैन, नौसेमियां, हबीबुर्रहमान, मुन्नन भाई, नसीब पठान, रईस अहमद सिद्दीकी, अतीक अहमद आदि ने विचार प्रकट किए।
विज्ञापन

Recommended

छात्रोंं के करियर को नई ऊंचाइयां देता ये खास प्रोग्राम
Invertis university

छात्रोंं के करियर को नई ऊंचाइयां देता ये खास प्रोग्राम

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Jhansi

अवैध खनन और शराब बिकने पर नपेंगे थानेदार

अवैध खनन और शराब बिकने पर नपेंगे थानेदार

17 अक्टूबर 2019

विज्ञापन

मदर टेरेसा को मिला था शांति के लिए नोबेल पुरस्कार, लेकिन कुछ लोगों ने दिया था नकार

17 अक्टूबर 1979 को मदर टेरेसा को शांति का नोबेल मिला था। नोबेल पुरस्कारों का इतिहास काफी रोचक रहा है। साथ ही विवादास्पद भी। ऐसा भी हुआ है जब विश्व का यह सर्वोच्च सम्मान लेने से लोगों ने मना कर दिया।

17 अक्टूबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree