मलेरिया : पांच साल में आधे हुए रोगी

Jhansi Updated Fri, 24 Jan 2014 05:51 AM IST
झांसी। जनपदवासियों के लिए खुशखबरी है। सामान्य मौसम के कारण मच्छरों की संख्या कम होने से मलेरिया रोगियों का ग्राफ लगातार नीचे जा रहा है। पांच साल में मलेरिया के रोगी आधे हो गए हैं।
विगत कुछ सालों में जनपद में मलेरिया का प्रकोप कम हुआ है। जिला मलेरिया विभाग के आंकड़ों के अनुसार विगत पांच साल में रोगियों की संख्या कम हुई है। सन 2008 में 70 हजार बुखार के संदिग्ध मरीज की जांच के बाद 1,434 मलेरिया रोगी चिह्नित किए गए थे। जबकि, सन 2013 में रोगियों की संख्या 719 रह गई है।
अधिकारियों की मानें तो रोगियों की संख्या कम होने का सीधा कारण मच्छरों के पैदा होने की दर कम होना है। विगत कुछ सालों से बारिश, सर्दी व गर्मी का मौसम चक्र समय पर आ रहा है। सूखा भी समाप्त हो चुका है। पठारी क्षेत्र होने के कारण जल जमाव की समस्या भी कम है। सारी परिस्थितियां मच्छरों को मार रही हैं।

‘‘ अनुकूल मौसम मच्छर रोधी दवा का काम करता है। ऐसे मौसम में मच्छरों को पनपने का मौका ही नहीं मिलता है। ’’
आर के गुप्ता
जिला मलेरिया अधिकारी


सन --- जांच --- रोगी
2008 --- 70,277 --- 1,434
2009 --- 66,537 --- 1,298
2010 --- 59,322 --- 974
2011 --- 56,858 --- 739
2012 --- 46,846 --- 853
2013 --- 75828 --- 719

Spotlight

Most Read

National

पाकिस्तान की तबाही के दो वीडियो जारी, तेल डिपो समेत हथियार भंडार नेस्तनाबूद

सीमा सुरक्षा बल के जवानों ने पाकिस्तानी गोलाबारी का मुंहतोड़ जवाब दिया है। भारत के जवाबी हमले में पाकिस्तान की कई फायरिंग पोजिशन, आयुध भंडार और फ्यूल डिपो को बीएसएफ ने उड़ा दिया है।

23 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: यूपी के इस टोल प्लाजा पर MLA के रिश्तेदार का तांडव!

यूपी में टोल प्लाजा पर मारपीट की घटना कोई नई बात नहीं है। झांसी में टोल टैक्स मांगने पर खुद को विधायक का रिश्तेदार बताया और टोल कर्मियों की पिटाई कर दी। हालांकि ये साफ नहीं है कि ये कौन लोग हैं।

4 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper