बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

दिगारा गढ़ी के पास अवैध निर्माण ध्वस्त

Jhansi Updated Sun, 10 Feb 2013 05:31 AM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें

विज्ञापन

झांसी। पहाड़ियां काटकर अवैध खनन किए जाने व सरकारी जमीन पर कब्जा करने वालों पर प्रशासन ने शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। मंडलायुक्त के निर्देश पर शनिवार को दिन भर सरकारी अमला दौड़ता रहा। इस दौरान दिगारा की ऐतिहासिक गढ़ी के आसपास बने मकानों को ध्वस्त कर दिया गया। खेतों की तार फेंसिंग उखाड़ दी गई। सीपरी बाजार से लेकर नारायण बाग तक भी अवैध कब्जे चिह्नित कर लिए गए।
शनिवार को मंडलायुक्त सत्यजीत ठाकुर ने जिला प्रशासन के अलावा तहसील प्रशासन, वन विभाग, खनिज विभाग, परिवहन, पुरातत्व विभाग, नगर निगम व झांसी विकास प्राधिकरण के अफसरों को तलब कर अवैध खनन और अवैध कब्जा करने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने के निर्देश दिए। इसके लिए शहर सीमा के अंदर और बाहर के लिए दो टीमों का गठन किया गया।

पहली टीम ने अपर आयुक्त डा. पिंकी जोवल के नेतृत्व में सीपरी बाजार स्थित लहरगिर्द क्षेत्र में जांच की। इस दौरान लहरगिर्द में सरकारी जमीन पर अवैध कब्जा पाया गया। एक जगह बिल्डिंग मैटेरियल पड़ा पाया गया, लेकिन कोई सामने नहीं आया। खालसा स्कूल के आगे खोड़न की पहाड़ी काटकर मकान बना लिए गए हैं। अवैध कब्जे चिह्नित करने के बाद टीम आगे बढ़ गई। मिशन कंपाउंड स्थित जार पहाड़ के आसपास भी अवैध कालोनी पाई गई। पहाड़ काटने से बनी खाई में मिट्टी भरी थी। कुछ लोग काम भी कर रहे थे, लेकिन टीम को देखकर भाग खड़े हुए। इसी तरह नारायण बाग के आसपास एक पहाड़ी की जमीन पर अवैध कब्जे पाए गए। लक्ष्मी तालाब के पास भी अवैध निर्माण चिह्नित किए गए। टीम जल्द ही रिपोर्ट तैयार कर मंडलायुक्त को सौंपेगी।
वहीं दूसरी टीम अपर आयुक्त रामअवतार के नेतृत्व में दिगारा पहुंची। यहां स्थित ऐतिहासिक गढ़ी पुरातत्व विभाग का संरक्षित स्मारक है। नियमत: स्मारक के आसपास दो सौ मीटर के दायरे में निर्माण कराना अवैध है। टीम ने निरीक्षण के दौरान पक्के मकान, बाउंड्रीवाल, भूसा रखने के कमरे, खेतों की तार फेंसिंग चिह्नित कर अवैध कब्जों को तोड़ने के लिए मशीन बुलवाई। जब तक मशीन आती, टीम यहां से कुछ दूर आगे पहुंच गई। यहां 15 एकड़ की जमीन पर खनन का पट्टा है। शिकायत थी कि अवैध खनन किया जा रहा है। इस पर टीम ने मौके से एक एलएंडटी मशीन जब्त कर ली। बाद में उसे छोड़ दिया गया। जांच कर पता लगाया जा रहा है कि कितना अवैध खनन हुआ है। यहां से टीम पुन: दिगारा पहुंची और गढ़ी के आसपास के अवैध कब्जे हटवा दिए।
दोनों टीमों में नगर मजिस्ट्रेट पी के श्रीवास्तव, जेडीए सचिव आनंद कुमार, नगर निगम के अधिशासी अभियंता सतीश चंद्रा, सहायक परिवहन अधिकारी आर के सिंह, खनिज विभाग के सर्वेयर रमेश चंद्र के अलावा पुरातत्व व वन विभाग के अधिकारी मौजूद रहे।

बिना ले- आउट प्लाटिंग करने वाले बाजीगर फंसेंगे
झांसी। झांसी विकास प्राधिकरण से ले- आउट पास कराए बिना कालोनी विकसित करने वाले कालोनाइजर निशाने पर आ गए हैं। ऐसी सभी कालोनियां चिह्नित कर कार्रवाई की जाएगी।
जेडीए के दस्तावेजों में महानगर क्षेत्र की 34 कालोनियां अवैध हैं। इनके नियमितीकरण की प्रक्रिया चल रही है। और भी कालोनियां विकसित हो रही हैं, जिनमें से अधिकांश जेडीए से एप्रूव्ड नहीं हैं। मंडलायुक्त के निर्देश पर शनिवार को की गई जांच के दौरान जार पहाड़ के आसपास व लक्ष्मी तालाब के पास कुछ ऐसी कालोनियां चिह्नित की गईं, जिनमें न तो पार्क के लिए जमीन छोड़ी गई है और न ही सड़कें मानक के अनुरूप हैं। इनके ले- आउट भी जेडीए से पास नहीं हैं।
उच्च अधिकारियों ने इन कालोनियों में पार्क बनाने के निर्देश दिए हैं, लेकिन दिक्कत यह है कि पार्क बनेगा कहां। सूत्रों के अनुसार कालोनाइजर प्लाट बेचते समय ग्राहक को आश्वासन देते हैं कि कालोनी का ले- आउट पास है। बातों में आकर ग्राहक प्लाट खरीद लेते हैं। जमीन के कारोबारी जानते हैं कि अगर कालोनी का ले- आउट पास कराया तो काफी पैसा खर्च करना पड़ेगा, इसलिए सीधे प्लाट स्वामी को जेडीए भेजकर एक- एक कर नक्शा पास कराए जाते हैं। ऐसे में जेडीए को पता ही नहीं चल पाता है कि कालोनाइजर ने एक प्लाट बेचा या पूरी कालोनी। लेकिन, अब कालोनाइजर बच नहीं पाएंगे। जांच के दौरान चिह्नित की गईं कालोनियों के खिलाफ कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us