मुक्ताकाशी मंच पर सजी गजलों की महफिल

Jhansi Updated Fri, 14 Dec 2012 05:30 AM IST
झांसी। झांसी महोत्सव की छठवीं शाम गुलाम वारिस की गजलों व इंडियन ओशन ग्रुप की संगीत सभा के नाम रही। फनकारों ने अपने - अपने फन की शानदार प्रस्तुति कर खूब समां बांधा। शाकुंतलम ग्रुप ने लोकनृत्य के जरिये बुंदेली लोक कला शैली को सुंदर अंदाज में प्रस्तुत किया।
मुक्ताकाशी मंच पर बृहस्पतिवार की शाम पहली प्रस्तुति शाकुंतलम ग्रुप के कलाकारों ने दी। उन्होंने बुंदेलखंड की नृत्य व गायन कला शैली को दर्शकों के सामने प्रस्तुत किया। बुंदेली वेशभूषा से सुसज्जित कलाकारों ने तकरीबन पौन घंटे तक मंच पर खूब रंग जमाया। इसके बाद गजल गायक दिल्ली से आए गुलाम वारिस ने मंच संभाला। उन्होंने अपनी शुरुआत मिर्जा गालिब की गजल ‘आह को चाहिए एक उम्र असर होने तक...’ से की। इसके बाद उन्होंने एक के बाद शानदार गजलों की प्रस्तुति की। ‘परखना मत, परखने से कोई अपना नहीं रहता...’, ‘सपने सोए हैं, जरा उनको जगा लूं...’, ‘होश वालों को खबर क्या, जिंदगी क्या चीज है...’, ‘हम तेरे शहर में आए हैं...’, ‘चुपके चुपके रात दिन आंसू बहाना याद है...’ आदि गजलों पर जमकर तालियां बटोरीं। मंच पर अंतिम प्रस्तुति दिल्ली के इंडियन ओशन ग्रुप की रही। ग्रुप के गायक सुष्मित सेन, राहुल राम, अमित किलम, हिमांशु जोशी व तुहीन चक्रवर्ती ने देश के विभिन्न हिस्सों की गायन शैली को एक सूत्र में पिरोकर दर्शकों के सामने प्रस्तुत किया। उन्होंने कुछ गीतों में हिंदी के साथ - साथ बांग्ला व कर्नाटकी शब्दों को भी खूबसूरत अंदाज पेश किया। ‘रुक जा रे बंदे...’, ‘मा रेवा...’, ‘देश मेरा रंग रेजा...’ आदि गीतों को खूब पसंद किया गया। जबकि, ‘हिल्लेले’ मुखड़े से गाए उनके गीत ने संस्कृत के शब्दों का उच्चारण भी सुनने को मिला। खास बात यह रही ग्रुप के ज्यादातर कलाकार अपने - अपने वाद्य यंत्रों के साथ मंच पर नजर आए। इस दौरान कार्यक्रम का संचालन कर रहीं दूरदर्शन कलाकार वंदना शुक्ला ने ‘आज जाने की जिद न करो...’ गजल सुनाकर गायकी का हुनर बिखेरा।
इससे पूर्व कार्यक्रम का शुभारंभ आर्मी के जीओसी पी एस मेहता ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि मंच पर गीत संगीत की विभिन्न विधाएं एक साथ देखने को मिल रही हैं। लोगों को देश की कला संस्कृति को जानने व समझने का मौका मिल रहा है। कलाकारों को पूर्व अपर पुलिस महानिदेशक रामेश्वर दयाल ने शॉल व स्मृति चिह्न भेंट कर सम्मानित किया। उन्होंने कहा कि झांसी महोत्सव का यह मंच देश की कला संस्कृति को एक सूत्र में पिरोने का काम कर रहा है। इस मौके पर मुख्य विकास अधिकारी अनुज कुमार झा, संयुक्त आयकर आयुक्त वृंदा दयाल, ज्वाइंट मजिस्ट्रेट अरविंद, डीआरएम नवीन चौपड़ा, अपर जिलाधिकारी यू एन पांडेय, बीएसएनएल महाप्रबंधक आर के शुक्ला, नगर मजिस्ट्रेट पी के श्रीवास्तव, एसडीएम सदर भगवान शरण, एआरटीओ प्रवर्तन संजय सिंह, एआरटीओ प्रशासन राजेश कर्दम, तहसीलदार राजेंद्र बहादुर, एसीएम रीना निरंजन आदि मौजूद रहीं।

Spotlight

Most Read

Shimla

वन भूमि से 416 पेड़ काटने के मामले में आरोपी गिरफ्तार

वन भूमि से 416 पेड़ काटने के मामले में आरोपी गिरफ्तार

20 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: यूपी के इस टोल प्लाजा पर MLA के रिश्तेदार का तांडव!

यूपी में टोल प्लाजा पर मारपीट की घटना कोई नई बात नहीं है। झांसी में टोल टैक्स मांगने पर खुद को विधायक का रिश्तेदार बताया और टोल कर्मियों की पिटाई कर दी। हालांकि ये साफ नहीं है कि ये कौन लोग हैं।

4 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper