कवि दरबार में छाए रसखान, बिहारी व महादेवी

Jhansi Updated Thu, 13 Dec 2012 05:30 AM IST
झांसी। विद्यालयीय सांस्कृतिक कार्यक्रम में बच्चों की प्रतिभा का अलग ही रूप देखने को मिला। नन्हें- मुन्ने कवियों ने बिहारी सतसई से लेकर रसखान तक के दोहे पढ़े। एकल गायन व वादन में भी बच्चों ने शानदार प्रस्तुतियां दीं।
झांसी महोत्सव के अंतर्गत बुधवार को दीनदयाल सभागार में आयोजित विद्यालयीय सांस्कृतिक कार्यक्रम में एकल गायन, वादन व कवि दरबार में बच्चों ने भाग लिया। विद्यालयों के नाम के स्थान पर कवियों को पांच ग्रुप में बांटा गया। इसमें रहीम और मैथिली ग्रुप ने भाग नहीं लिया। बिहारी ग्रुप में पांच बच्चों ने प्रस्तुति दी। रीति काल के सुप्रसिद्ध कवि बिहारी के स्वरूप में आए कवि ने बिहारी सतसई से ली गई श्रृंगार रस की रचनाएं, मीराबाई ने पद, सुभद्रा कुमारी चौहान ने वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई के शौर्य पर आधारित रचनाएं और रामधारी सिंह दिनकर ने धुंधली हुई दिशाएं, छाने लगा कुहासा.. रचना सुनाई। दरबार का संचालन करते हुए अशोक चक्रधर ने ‘सफलता का सफर टेढ़ा बड़ा है, यहां हर मोड़ पर दुश्मन खड़ा है। वह दुश्मन क्या स्वयं का अहम है, वही जीता जो स्वयं से लड़ा है।’ रचना सुनाई तो हाल तालियों से गूंज उठा। महादेवी ग्रुप में प्रतिभागियों ने संत कबीर दास, गोस्वामी तुलसीदास, मीरा बाई, सुभद्रा कुमारी चौहान, राष्ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्त और रामअवतार त्यागी की रचनाओं का पाठ किया। इसी तरह रसखान ग्रुप में बच्चों ने महान कवियों व साहित्यकारों के वेश रखकर उनकी रचनाओं का पाठ किया।
इससे पहले एकल गायन की शुरूआत वरुण बबेले ने की। उन्होंने ‘ए मेरे वतन के लोगो जरा आंख में भर लो पानी, जो शहीद हुए हैं उनकी जरा याद करो कुर्बानी’ गीत के माध्यम से माहौल में देशभक्ति का संचार कर किया तो वर्तिका व्यास ने ‘मौला मौला... मौला मौला... मेरे मौला’ व अंशिका त्रिवेदी ने भजन ‘अक्षंत केशवम राम नारायणम्’ प्रस्तुत कर माहौल धर्ममय बना दिया। छोटी बच्ची महानिश ने श्रीकृष्ण भक्ति पर आधार ‘वही तो एक सर्वशक्तिमान है’ और गुंजन सर्राफ ने ‘कयामत से पहले कयामत है या रब’, सृष्टि सिंघई ने ‘तेरी आराधना करूं सरस्वती मां’ ने भक्तिगीतों की श्रृंखला को आगे बढ़ाया। इसके अलावा प्रियांशु रावत, शालू जैन, स्नेहा पाल, शुभि अग्रवाल, ध्रुवराज बुंदेला, संगम भार्गव, अभिषेक गोस्वामी, मुस्कान वाजपेयी समेत तीन दर्जन बच्चों ने प्रस्तुत दी।
एकल नृत्य में दीप्ति प्रजापति ने ‘कोयलिया मागामा बोले...’ राजस्थानी पारंपरिक गीत पर गजब का नृत्य कर दर्शकों को बांध दिया। शुगन पासी ने भी राजस्थानी गीत ‘आयो रे म्हारो ढोलना’ गीत की लय पर नृत्य किया। इसके अलावा रुनझुन सर्राफ, स्नेहा खत्री, निष्ठा जैन, ऐश्वर्या गुप्ता, आरुहि पाठक, अनुष्का अग्रवाल, जेमिनी चौरसिया का नृत्य शानदार रहा। आकाश छावड़ा ने नृत्य के जिस अंदाज में जिला विद्यालय निरीक्षक डा. आईपीएस सोलंकी को बुके भेंट किया, वह अलग छाप छोड़ गया। इसके अलावा सौम्या गुप्ता, बिंदिया सोनी, हेमंत कुमार समेत ढाई दर्जन प्रतिभागियों ने प्रस्तुतियां दीं।
कार्यक्रम की मुख्य अतिथि जिला विद्यालय निरीक्षक की पत्नी मीना सोलंकी रहीं। निर्णायक मंडल में ब्रजलता मिश्रा, वंदना अवस्थी व एस आर सेंगर शामिल रहे। संचालन अंजना सारस्वत व सैमसन सिंह ने किया।

Spotlight

Most Read

Meerut

दो सगी बहनों से साढ़े चार साल तक गैंगरेप, घर लौट आई एक बेटी ने सुनाई आपबीती

दो बहनों का अपहरण कर तीन लोगों ने साढ़े चार वर्ष तक उनके साथ गैंगरेप किया। एक पीड़िता आरोपियों की चंगुल से निकल कर घर लौट आई। उसने परिवार को आपबीती सुनाई।

21 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: यूपी के इस टोल प्लाजा पर MLA के रिश्तेदार का तांडव!

यूपी में टोल प्लाजा पर मारपीट की घटना कोई नई बात नहीं है। झांसी में टोल टैक्स मांगने पर खुद को विधायक का रिश्तेदार बताया और टोल कर्मियों की पिटाई कर दी। हालांकि ये साफ नहीं है कि ये कौन लोग हैं।

4 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper