बुंविवि- सहायक शिक्षकों का होगा मूल्यांकन

Jhansi Updated Wed, 10 Oct 2012 12:00 PM IST
झांसी। बुंदेलखंड विश्वविद्यालय परिसर में कार्यरत पांच दर्जन सहायक शिक्षकों की योग्यता, अनुशासन, उपस्थिति एवं प्रशासनिक दक्षता का मूल्यांकन होगा। इसकी जिम्मेदारी डीन को सौंपी गई है।
विश्वविद्यालय परिसर में स्थित 26 शैक्षणिक विभागों में से सात नियमित एवं 19 एसएफएस के विभाग हैं।
नियमित में तो रेगुलर शिक्षक पढ़ाते हैं, जबकि अन्य में संविदा पर शिक्षकों को तैनात किया गया है। जानकारों की मानें तो विगत कुछ सालों में बहुत से शैक्षणिक विभागों में ऐसे सहायक शिक्षक तैनात हो गए जो योग्य तो हैं, लेकिन अध्यापन के मामले में फिसड्डी हैं। इनकी नौकरी विभाग के हेड की दया पर चल रही है। इसलिए, विश्वविद्यालय प्रशासन ने अयोग्य शिक्षकों को छांटने का निर्णय लिया है। इसके लिए सभी विभागों के डीन को पत्र लिखकर सहायक शिक्षकों के कार्यों का मूल्यांकन करने का आदेश दिया है। इसमें शिक्षकों की योग्यता, अनुशासन, पढ़ाई जाने वाली कक्षाएं, उपस्थिति एवं प्रशासनिक कार्यों में दक्षता आदि शामिल हैं। चीफ प्राक्टर प्रो. एम एल मौर्या का कहना है कि सहायक शिक्षकों के अध्यापन कार्य का निरीक्षण एवं हेड से बातचीत कर उनकी योगदान आख्या तैयार की जाएगी।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाले के तीसरे केस में लालू यादव दोषी करार, पांच साल की सजा का ऐलान

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: यूपी के इस टोल प्लाजा पर MLA के रिश्तेदार का तांडव!

यूपी में टोल प्लाजा पर मारपीट की घटना कोई नई बात नहीं है। झांसी में टोल टैक्स मांगने पर खुद को विधायक का रिश्तेदार बताया और टोल कर्मियों की पिटाई कर दी। हालांकि ये साफ नहीं है कि ये कौन लोग हैं।

4 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls