बायो मेडिकल साइंस का सेलेबस तैयार

Jhansi Updated Sun, 30 Sep 2012 12:00 PM IST
झांसी। बुंदेलखंड विश्वविद्यालय वैद्य रामनारायण शर्मा आयुर्वेद एवं वैकल्पिक औषधि संस्थान की एडवाइजरी कमेटी की बैठक में शोध कार्यों की समीक्षा एवं सेलेबस तैयार किया गया।
परिसर स्थित प्रशासनिक भवन के सभागार में आयोजित बैठक की अध्यक्षता कुलपति प्रो. सुरेश वीर सिंह राणा ने की। मुख्य अतिथि के रूप में पूर्व कुलपति प्रो. रमेश चंद्रा एवं श्री बैद्यनाथ के एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर अनुराग शर्मा उपस्थित रहे। बैठक में सेलेबस तैयार करने के साथ ही विभाग को ज्यादा रोजगार परक बनाने के लिए हर्बल इंडस्ट्री के कोर्स शुरू किए जाने पर विचार विमर्श किया गया।
इस अवसर पर प्रो. एस के शर्मा, प्रो. वी पी प्रसाद, प्रो. जी एल शर्मा, प्रो. करण सिंह, प्रो. जी बी एस के प्रसाद, डा. सचिन जैन, कुलसचिव अशोक कुमार अरविंद, प्रो. वी के सहगल, डा. पूनम शर्मा, डा. डी के भट्ट, डा. लवकुश द्विवेदी आदि उपस्थित रहे। डा. रामवीर ने सभी के प्रति आभार प्रकट किया।

बीबीसी और आर्यकन्या का होगा नैक निरीक्षण
झांसी। शासन की सख्ती के बाद आर्य कन्या महाविद्यालय एवं बीबीसी ने नैक के पास निरीक्षण का प्रस्ताव भेज दिया है। शीघ्र ही नैक की टीम निरीक्षण को आएगी।
शिक्षा के स्तर को सुधारने के लिए विश्वविद्यालय अनुदान आयोग व उच्चशिक्षा विभाग ने कमर कसते हुए सभी कालेजों में वर्ष 2012-13 में नैक निरीक्षण अनिवार्य कर दिया है। इसी क्रम में बिपिन बिहारी महाविद्यालय एवं आर्य कन्या महाविद्यालय ने नैक निरीक्षण के मानक पूरे करते हुए अपनी रिपोर्ट इंटरनल क्वालिटी एश्योरेंस सेल के माध्यम से नैक मुख्यालय, बंगलौर भेज दी है। जवाब में नैक द्वारा भेजे पत्र में बताया गया कि शीघ्र ही निरीक्षण दल कालेजों में मानकों को परखने के लिए निरीक्षण करेगा। निरीक्षण के बाद कालेजों को रैंक मिलने के साथ ही यूजीसी से आर्थिक सहायता भी मिलने लगेगी। मालूम हो कि अभी हाल ही में बुंदेलखंड महाविद्यालय में नैक का निरीक्षण हो चुका है। कालेज को नैक ने बी ग्रेड दिया है। आईक्यूएसी सेल की इंचार्ज डा. यशोधरा शर्मा का कहना है कि नैक की टीम कभी भी कालेज का निरीक्षण करने को आ सकती है।


क्या है नैक ?
झांसी। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग की संस्था नैक (नेशनल एक्रेडेशन एंड एसेसमेंट काउंसिल - राष्ट्रीय प्रत्यायन एवं मूल्यांकन आयोग) देश के महाविद्यालयों एवं विश्वविद्यालयों को रैंक देती है। यह रैंक ए, ए प्लस, बी, बी प्लस, सी व सी प्लस होती है। रैंक देने के पूर्व नैक की टीम कालेज या विश्वविद्यालय परिसर का बारीकी से निरीक्षण करती है, जिससे यहां उपलब्ध संसाधनों को मानकों पर परखा जा सके। नैक की टीम कालेजों की शैक्षणिक स्थिति, लीडरशिप क्वालिटी, विद्यार्थी व शिक्षकों का मानसिक स्तर, संसाधन व भविष्य की योजनाएं समेत अन्य बिंदुओं पर निरीक्षण करती है। रैंक मिलने के बाद ही यूजीसी व दूसरी संस्थाओं द्वारा शैक्षणिक विकास के लिए कालेज या विश्वविद्यालय को आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है।

Spotlight

Most Read

Meerut

दो सगी बहनों से साढ़े चार साल तक गैंगरेप, घर लौट आई एक बेटी ने सुनाई आपबीती

दो बहनों का अपहरण कर तीन लोगों ने साढ़े चार वर्ष तक उनके साथ गैंगरेप किया। एक पीड़िता आरोपियों की चंगुल से निकल कर घर लौट आई। उसने परिवार को आपबीती सुनाई।

21 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: यूपी के इस टोल प्लाजा पर MLA के रिश्तेदार का तांडव!

यूपी में टोल प्लाजा पर मारपीट की घटना कोई नई बात नहीं है। झांसी में टोल टैक्स मांगने पर खुद को विधायक का रिश्तेदार बताया और टोल कर्मियों की पिटाई कर दी। हालांकि ये साफ नहीं है कि ये कौन लोग हैं।

4 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper