लाभार्थियों को लाने 128 बसें आरक्षित

Jhansi Updated Mon, 24 Sep 2012 12:00 PM IST
झांसी। अगर आप 26 और 27 सितंबर को बस से यात्रा करने की सोच रहे हैं तो टाल दीजिए। इसकी मुख्य वजह इन दोनों दिन 128 बसें आम जनता के लिए बिलकुल नहीं चलेंगी। उन्हें मुख्यमंत्री द्वारा बांटे जाने वाले कन्या विद्या धन एवं बेरोजगारी भत्ता के लाभार्थियों को लाने - ले जाने के लिए आरक्षित कर लिया गया है।
मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का 27 सितंबर को झांसी दौरा प्रस्तावित है। वह यहां राजकीय इंटर कालेज में कन्या विद्या धन एवं बेरोजगारी भत्ता का वितरण करेंगे। इन योजनाओं के पात्र महिला व पुरुषों को वीआईपी का दर्जा दिया गया है। उनके खाने पीने से लेकर ब्लाक मुख्यालय से झांसी तक लाने और वापस ब्लाक मुख्यालय तक छोड़ने की व्यवस्था की गई है। लाभार्थियों की सुविधा के लिए 128 बसें आरक्षित की गई हैं। झांसी के लिए 16, बबीना के लिए एक, बड़ागांव के लिए चार, मऊरानीपुर के लिए 25, बंगरा के लिए 18, चिरगांव के लिए आठ, मोंठ के लिए 12, गुरसरांय के लिए 18 एवं बामौर के लिए 12 बसें आरक्षित की गई हैं। यह बसें लाभार्थियों को पूर्व निर्धारित विश्राम स्थल तक लाने व वापस ले जाने का काम करेंगी। इसके अलावा अन्य बसों को रिजर्व रखा गया है, जो किसी बस के खराब होने की दशा में उनका स्थान लेंगी।
आरक्षित बसें 26 सितंबर को अपराह्न तीन बजे तक अपने - अपने लिए आवंटित ब्लाक मुख्यालय पर पहुंच जाएंगी तथा वहां से लाभार्थियों को लेकर शाम तक झांसी आ जाएंगी। अगले दिन कार्यक्रम समाप्त होने के बाद बसें लाभार्थियों को लेकर वापस ब्लाक मुख्यालय जाएंगी।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: यूपी के इस टोल प्लाजा पर MLA के रिश्तेदार का तांडव!

यूपी में टोल प्लाजा पर मारपीट की घटना कोई नई बात नहीं है। झांसी में टोल टैक्स मांगने पर खुद को विधायक का रिश्तेदार बताया और टोल कर्मियों की पिटाई कर दी। हालांकि ये साफ नहीं है कि ये कौन लोग हैं।

4 जनवरी 2018