आनलाइन प्रवेश पर अब भी हिचकिचाहट

Jhansi Updated Sat, 18 Aug 2012 12:00 PM IST

झांसी। बुंदेलखंड विश्वविद्यालय द्वारा इसी सत्र से आनलाइन प्रवेश प्रक्रिया लागू करने का फैसला विश्वविद्यालय से संबद्ध आधे से अधिक कालेजों को हजम नहीं हो पा रहा है। यही वजह है कि आनलाइन प्रवेश प्रक्रिया शुरू होने के एक माह बाद भी इन कालेजों ने विश्वविद्यालय प्रशासन को पंजीकरण के लिए आवेदन नहीं भेजे हैं। इन कालेजों में पढ़ने वाले छात्रों की एक बड़ी संख्या को देखते हुए लाचार विश्वविद्यालय ने एक बार फिर से आवेदन की अंतिम तिथि बढ़ा कर 24 अगस्त कर दी है।
गौरतलब है कि विश्वविद्यालय से संबद्ध 144 महाविद्यालयों में स्नातक व परास्नातक प्रथम वर्ष में करीब 50 हजार विद्यार्थियों के प्रवेश होने हैं। इसके मद्देनजर बीते 18 जुलाई से आनलाइन प्रवेश की प्रक्रिया शुरू कर दी गई थी। लेकिन, आनन- फानन में शुरू की गई आनलाइन प्रणाली को लेकर कई महाविद्यालय प्रशासन शुरू से ही इसे लागू करने को लेकर हीलाहवाली कर रहे थे। दरअसल, आनलाइन प्रक्रिया शुरू होने पर कालेजों में प्रवेश पर पूरा नियंत्रण विश्वविद्यालय का रहेगा। हालांकि, कड़े शासनादेश व विश्वविद्यालय के भारी दबाव के आगे अधिकतर कालेज धीरे- धीरे आनलाइन प्रवेश प्रक्रिया में शामिल हो रहे हैं, लेकिन अब भी बुंदेलखंड क्षेत्र के आधे से अधिक कालेज इससे दूर हैं। इनमें न सिर्फ प्राइवेट कालेज हैं, बल्कि सरकारी व अर्द्ध सरकारी कालेज भी शामिल हैं।
जानकारी के मुताबिक, अब तक विश्वविद्यालय में 70 से ज्यादा कालेजों ने आनलाइन प्रवेश के लिए पंजीकरण नहीं कराया है। जबकि, इन कालेजों में बड़ी संख्या में छात्र पढ़ते हैं। इसे देखते हुए विश्वविद्यालय ने एक फिर आनलाइन पंजीकरण की तिथि बढ़ाकर 24 अगस्त कर दी है, जबकि पहले 16 अगस्त तक हर हाल में पंजीकरण कराने थे। गौरतलब है कि रजिस्ट्रेशन की तिथि दूसरी बार बढ़ाई गई है। पहले 31 जुलाई पंजीकरण की अंतिम तिथि निर्धारित की गई थी।
उधर, अब तक पंजीकरण नहीं कराने वाले कालेज प्रशासन के मुताबिक उन्होंने आनलाइन पंजीकरण के लिए विश्वविद्यालय के पास आवेदन जमा कर दिया है। हालांकि, देरी से पंजीकरण कराने के सवाल पर उन्होंने कुछ भी कहने से इंकार कर दिया।

जो कालेज पंजीकरण नहीं कराएंगे, उन पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। इस सत्र में आनलाइन प्रवेश प्रक्रिया में शामिल छात्रों को ही प्रवेश दिया जाएगा।
- अखिलेश पाल, उप कुलसचिव


क्या है आनलाइन पंजीकरण
झांसी। साफ्टवेयर कंपनी श्रीटॉन द्वारा विकसित वेबसाइट पर एक आप्शन कालेजों का आनलाइन पंजीकरण का है। इस पंजीकरण के तहत कालेजों को एक यूजर आईडी व पासवर्ड अलाट किया जाता है। इसकी मदद से ही कालेज प्रवेश लेने वाले छात्राें की संख्या या दूसरी सभी जानकारी प्राप्त करता है। अगर कालेज पंजीकरण नहीं कराएगा तो उसे आनलाइन प्रवेश से बाहर माना जाएगा।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Dehradun

पीएम मोदी की राह पर उत्तराखंड के शिक्षा मंत्री, जारी किया नया फरमान

उत्तराखंड के शिक्षा मंत्री अरविंद पांडेय भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की राह पर चल पड़े हैं।

19 फरवरी 2018

Related Videos

आचरण के हिसाब से सीनियर नेता नहीं यशवंत सिन्हा: डॉ महेंद्र नाथ पांडेय

झांसी पहुंचे बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ महेंद्र नाथ पांडेय ने कहा कि यशवंत सिन्हा अब आचरण के हिसाब से पार्टी के सीनियर नेता नहीं रहे। यह बात उन्होंने यशवंत सिन्हा के गैर राजनैतिक पार्टी बनाने की घोषणा पर किए सवाल पर कहीं।

16 फरवरी 2018

Switch to Amarujala.com App

Get Lightning Fast Experience

Click On Add to Home Screen