बुंदेलखंड के किसान उगाएंगे ईरान का स्टीविया-DHT

Jhansi Bureau Updated Sat, 03 Jun 2017 07:44 PM IST
ख़बर सुनें
बुंदेलखंड के किसान उगाएंगे ईरान का स्टीविया
झांसी।
ईरान की स्टीविया की फसल को अब बुंदेलखंड के किसान अपने खेतों में उगाएंगे। स्टीविया में ग्वारपाठा (एलोवेरा) और तुलसी का अर्क मिलाकर ‘टी बैग’ तैयार होगा, जो डायबिटीज रोधी दवा के रूप में इस्तेमाल किया जाएगा। इसके लिए मऊरानीपुर और बंगरा ब्लाक का चयन किया गया है। जहां किसानों का समूह बनाकर इसकी पैदावार की जाएगी। इससे न किसानों की आय तो दोगुनी होगी ही, साथ ही क्षेत्र को नई पहचान भी मिलेगी।
जिला उद्योग एवं उद्यम प्रोत्साहन केंद्र ने बंगरा और मऊरानीपुर ब्लाक के किसानों की आय बढ़ाने के लिए योजना बनाई है। डायबिटीज को नियंत्रित करने के लिए ईरान में पैदा होने वाला पौधा ‘स्टीविया’ का बुंदेलखंड में व्यावसायिक तौर पर उत्पादन किया जाएगा। बंगरा और मऊरानीपुर ब्लाक की जलवायु काफी कुछ स्टीविया पौधा के अनुकूल पाई गई है। इसलिए उद्योग केंद्र ने भारत सरकार और उत्तर प्रदेश सरकार की क्लस्टर योजना के अंतर्गत किसानों के समूह बनाने का निर्णय लिया है। इसके अंतर्गत सौ से दो सौ किसानों के समूह बनाए जाएंगे, जो स्टीविया की खेती करेंगे।
स्टीविया के अलावा किसान एलोवेरा और तुलसी की खेती करेंगे। प्रोसेसिंग प्लांट लगाकर एलोवेरा, तुलसी और स्टीविया का अर्क निकालकर इसकी पैकिंग ‘टी बैग’ के आकार में होगी। यह पैकिंग मार्केट में बिकेगी।

जानिए स्टीविया को
ईरान में उगने वाले स्टीविया पौधे का फल डायबिटीज के रोगियों को लाभकारी है। एक बार फसल तैयार होने पर यह पौधा पांच साल तक फल देता है। यह 1,600 रुपये से लेकर 2,000 रुपये तक बिकता है। इसका स्वाद मीठा होता है, लेकिन नियमित सेवन से यह पैंक्रियाज का सक्रिय कर देता है जो इंसुलिन बनाने में शरीर की मदद करता है।

मेगा फूड प्लेस बनेंगे
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुंदेलखंड, पूर्वांचल, मध्यांचल, पश्चिमांचल, दक्षिणांचल और अवध क्षेत्र को मेगा फूड प्लेस बनाने के लिए चयनित किया है। इसमें कम पानी में पैदा होने वाली फसलों और वनस्पतियों का कैसे उपयोग किया जाएगा, इसको लेकर योजनाएं तैयार की जा रही हैं। इसी के अंतर्गत क्लस्टर डेवलपमेंट योजना के अंतर्गत मेगा फूड प्लेस तैयार होंगे। इसी क्रम में बंगरा और मऊरानीपुर का चयन किया गया है।

किसानों को होगा फायदा
किसानों का समूह तैयार किया जाएगा। इसमें सौ से दो सौ तक किसान शामिल होंगे। किसानों को जागरूक किया जाएगा कि वह स्टीविया की खेती करें। किसानों को परंपरागत खेेती के साथ खेती का व्यवसायीकरण समझ में आ जाएगा तो उनकी आय में दोगुनी से अधिक वृद्धि हो जाएगी। स्टीविया की खेती से किसानों को बहुत फायदा होगा।
- सुधीर कुमार श्रीवास्तव
उपायुक्त, जिला उद्योग एवं उद्यम प्रोत्साहन केंद्र

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Lucknow

अब नई नीति के तहत होगा शिक्षकों का तबादला, हाईकोर्ट ने निरस्त की याचिकाएं

सूबे के प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों में कार्यरत शिक्षकों का तबादला और समायोजन अब नई स्थानांतरण नीति के तहत होगा।

24 मई 2018

Related Videos

पारीछा थर्मल पावर स्टेशन में हादसा, दो मजदूरों की मौत

यूपी के झांसी से एक दर्दनाक खबर है। यहां के पारीछा पावर प्लांट के कोल यार्ड में मंगलवार को दो मजदुरों के शव कोयले के ढेर के नीचे दबे मिले। ये दोनों ही मजदूर रात 10 से सुबह 6 की ड्यूटी पर थे। देखिए ये रिपोर्ट।

22 मई 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen