विज्ञापन
विज्ञापन
ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक
Astrology Services

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

सीएए के खिलाफ प्रदर्शन प्रियंका की साजिश, भीड़ जुटाने के लिए बांटे 500-500 रुपये : भाजपा नेता

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता एवं एमएलसी दिनेश प्रताप सिंह ने शुक्रवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी पर तीखा हमला बोला।

24 जनवरी 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

जौनपुर

शनिवार, 25 जनवरी 2020

बालिका शिक्षा का दावा, रह गया सिर्फ छलावा

जौनपुर। सरकारी अमला भले ही पढ़े बेटियां-बढ़े बेटियां का राग अलापने में जुटा हुआ है, मगर जिले में बेटियों की पढ़ाई के लिए अनुकूल माहौल अब तक मयस्सर नहीं हो पाया है। प्राथमिक से लेकर उच्च शिक्षा तक बालिका शिक्षा की तस्वीर बेहद स्याह है। संसाधनों से जूझते विद्यालयों में पर्याप्त स्टाफ भी नहीं है। कई जरुरी विषयों के शिक्षक नदारद हैं। भवन जर्जर हैं तो रास्ते बदहाल। कहीं एक कमरे में दो-दो कक्षाओं का संचालन हो रहा है तो कहीं बेटियों को स्कूल तक पहुंचने में कच्चे मार्ग पर कीचड़ की बाधा पार करनी पड़ रही है। पेयजल, शौचालय की व्यवस्था बदहाल है। ऐसे माहौल में बेटियां कैसे पढ़ें, इस पर जिम्मेदार पूरी तरह मौन हैं।
बालिका शिक्षा के लिए जिले में चार राजकीय बालिका इंटर कॉलेज संचालित हैं। जौनपुर और मछलीशहर में छह से 12 तो मड़ियाहूं में कक्षा-9 से 12 तक की पढ़ाई होती है। जफराबाद में 1 से 12 तक की कक्षाएं चलती हैं। राजकीय इंटर कॉलेजों में छात्राओं की संख्या पर नजर डालें तो कुल 862 छात्राएं ही इसमें शिक्षा ले रही हैं। इसमें भी मड़ियाहूं में सिर्फ 76 छात्राएं हैं। जौनपुर में 306, मछलीशहर में 242 और जफराबाद में 238 छात्राएं हैं। प्राथमिक शिक्षा की स्थिति इससे भी खराब है। जिले के कुल 21 ब्लाकों के सापेक्ष 19 में कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालयों का संचालन हो रहा है। इन आवासीय विद्यालयों में गरीब परिवार की छात्राओें को रहने, खाने-पीने सहित पढ़ाई की सारी व्यवस्था निशुल्क है, मगर अंदर का हाल काफी बुरा है। अधिकांश विद्यालयों के भवन क्षतिग्रस्त हैं। फर्नीचर, बेड, शौचालय, पेयजल सहित अन्य जरुरी सुविधाएं नाकाफी हैं। भोजन की खराब गुणवत्ता और साफ-सफाई के अभाव के चलते अक्सर छात्राएं आवासीय परिसर में रहना नहीं चाहती। विद्यालय स्टाफ खुद बाहर रहता है। परिषदीय प्राथमिक और पूर्व माध्यमिक विद्यालयों में मॉडल स्कूलों को छोड़ दें तो कहीं भी शौचालय की व्यवस्था ठीक नहीं है।
निष्प्रयोज्य घोषित कमरों में हो रही पढ़ाई
जफराबाद राजकीय बालिका इंटर कॉलेज में कक्षा-1 से पढ़ाई होती है। प्राथमिक वर्ग मेें सौ छात्राएं हैं, मगर यहां किसी भी शिक्षक की तैनाती नहीं है। जूनियर हाईस्कूल व इंटर के शिक्षकों के भरोसे ही प्राथमिक की कक्षाएं चलाई जा रही है। पुराने जर्जर भवन को निष्प्रयोज्य घोषित किए जाने के बाद सिर्फ पांच कमरे ही पढ़ाई के उपयोग में लाए जा रहे हैं। इन्हीं पांच कमरों में 1 से 12 तक की कक्षाएं चलाई जा रही है। कई कमरों में एक साथ दो-दो कक्षाएं चल रही हैं तो कुछ कक्षाओं का संचालन बरामदा या खुले आसमान के नीचे होता है। इससे पढ़ाई बुरी तरह प्रभावित है। लड़कियों के इस कॉलेज में कोई दाई नहीं है। विद्यालय परिसर में गंदगी का अंबार लगा है। शौचालय बने एक वर्ष हो गए, लेकिन अब तक हैंडओवर ही नहीं हुआ है। ऐसे में छात्राओं को खुले में जाना मजबूरी है। वैसे तो विद्यालय को बस की सुविधा भी उपलब्ध कराई, मगर ड्राइवर नहीं दिया। नतीजा वर्षों से यह बस खड़ी-खड़ी ही खराब हो गई। प्रभारी प्रधानाचार्य प्रतिभा यादव का कहना है कि समस्याओं के बारे में उच्चाधिकारियों को लगातार अवगत कराया जा रहा है। उपलब्ध संसाधनों में बेहतर पढाई की पूरी कोशिश रहती है।
गिरते-पड़ते स्कूल पहुंचती हैं बेटियां
वर्षों से किराए के भवन में संचालित राजकीय बालिका इंटर कॉलेज मछलीशहर को दो वर्ष पूर्व ही खुद का भवन मिला है। नया भवन तो बना, लेकिन रास्ता नहीं बन सका। उबड़-खाबड़ पगडंडीनुमा कच्चे मार्ग पर गिरती-पड़ती छात्राएं स्कूल पहुंचती हैं। कक्षा-6 से 12 तक के इस विद्यालय में शिक्षक-कर्मचारियों के कुल 29 पद स्वीकृत हैं। इसके सापेक्ष 15की ही तैनाती है। विज्ञान वर्ग की पढ़ाई के लिए कोई अध्यापक ही नहीं है। गृह विज्ञान, उर्दू, अंग्रेजी, नागरिक शास्त्र विषय के प्रवक्ता का पद खाली है। यहां प्रधानाचार्य का भी पद रिक्त है। विद्यालय में 242 छात्राएं अध्ययन करतीस्त्रत्त् हैं। प्रभारी प्रधानाचार्य रेखा मौर्य का कहना है कि अगर विज्ञान की अध्यापिकाओ की तैनाती हो जाती तो विद्यार्थियों की संख्या बढ़ जाती। नए भवन में स्थानांतरण के दो वर्ष बाद भी आवागमन के लिए कच्चा रास्ता है।
बालिका शिक्षा के लिए बेहतर माहौल बनाने का प्रयास निरंतर जारीऊहै। कस्तूरबा विदष्वालयों में स्थिति अच्छी है। अन्य स्कूलों में जहां जो भी कमियां है, उसे शीघ्र पूरा करा दिया जाएगा। अगर कहीं लापरवाही बरती जा रही है तो जांच कर कार्रवाई होगी। -डॉ.राजेंद्र सिंह, बीएसए और प्रभारी डीआईओएस।
... और पढ़ें

डीसीएम और टैंकर की भिड़ंत में एक की मौत, दो घायल

- जलालपुर-थानागद्दी मार्ग पर पुरवा गांव के समीप हुआ हादसा
सवाद न्यूज एजेंसी
जलालपुर। क्षेत्र के पुरवा गांव के समीप मंगलवार को सुबह थानागद्दी-जलालपुर मार्ग पर डीसीएम व टैंकर में आमने-सामने की भिड़ंत में एक युवक की मौत हो गई। दो लोग गंभीर रुप से घायल हो गए। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। घायलों को जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया।
मंगलवार को सुबह डीसीएम थानागद्दी से जलालपुर की तरफ जा रहा था। पुरवा गांव के समीप विपरीत दिशा से जा रहे टैंकर से आमने-सामने टक्कर हो गई। टक्कर से टैंकर दाहिनी तरफ गड्ढे में पलट गया। टक्कर की आवाज सुनकर आसपास के लोग मौके पर पहुंचे तो देखा कि दोनों वाहनों का अगला हिस्सा पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया। दोनों वाहनों के चालक फंसे हुए थे, जिन्हें बाहर निकाल रहे थे। मौके पर पहुंची पुलिस ने डीसीएम चालक दिलीप यादव पुत्र गंगाधर निवासी भुड़की देवगांव आजमगढ़, खलासी रंजीत यादव पुत्र कैलाश निवासी खरिहानी तरवा आजमगढ़ और टैंकर चालक राजन यादव पुत्र रामजीत निवासी गुरगी हलिया मिर्जापुर ोो सीएचसी रेहटी पहुंचाया। वहां प्राथमिक उपचार के बाद तीनों को जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया। जिला अस्पताल से डीसीएम चालक दिलीप यादव को ट्रामा सेंटर वाराणसी रेफर कर दिया गया, जिसकी रास्ते में मौत हो गई। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। दोनों अन्य घायलों का जिला अस्पताल में इलाज चल रहा है।
... और पढ़ें

प्रेम में नाकाम युवक ने जहर खाकर दी जान

मीरगंज। प्रेम में नाकाम युवक ने रविवार को जहर खाकर जान दे दी। मामला मीरगंज थाना क्षेत्र के एक गांव का है। पुलिस को सूचना दिए बगैर परिजनों ने उसका अंतिम संस्कार कर दिया।
क्षेत्र के एक गांव निवासी युवक (18) पड़ोस के गांव की युवती से प्रेम करता था। बताते हैं कि युवती भी उसे प्रेम का हवाला देती रही। पिछले दिनों किसी बात को लेकर उनमें विवाद हो गया, जिसके बाद युवती ने उससे संबंध तोड़ दिए। इसके बाद से युवक सदमे में था। रविवार को उसने घर में रखा सल्फास खा लिया। तबीयत बिगड़ने पर परिजन प्रयागराज के निजी अस्पताल ले गए। सोमवार की देर रात उसकी मौत हो गई। परिजनों ने वहीं उसका अंतिम संस्कार कर दिया।
... और पढ़ें

आजादी आंदोलन के महानायक थे सुभाष चंद बोस

जौनपुर। स्वतंत्रता संग्राम और आजादी के महानायक नेताजी सुभाष चंद बोस की 123वीं जयंती पर गुरुवार को जिले भर में विविध कार्यक्रम का आयोजन किया गया। गोष्ठियों में उनके आदर्शों पर चर्चा हुई। रैली के माध्यम से उनका संदेश जन-जन तक पहुंचाया गया। गोष्ठी और रैली के माध्यम से उनके आदर्शों पर चर्चा की। उनके सपनों का भारत बनाने का संकल्प दोहराया गया।
पूर्वांचल विश्वविद्यालय के रोवर्स-रेंजर्स परिसर में कुलसचिव सुजीत कुमार जायसवाल, वित्त अधिकारी एमके सिंह, रोवर्स-रेंजर्स के समन्वयक डॉ. जगदेव, डॉ. अंशुमाली शर्मा, एनएसएस समन्वयक राकेश यादव की मौजूदगी में सुभाष चंद्र बोस की जयंती मनाई गई। सुजीत कुमार जायसवाल ने कहा कि नेताजी का व्यक्तित्व युवाओं के लिए आज भी प्रेरणा का स्त्रोत है। डॉ. जगदेव ने कहा कि नेताजी ने सीमित संसाधनों के बावजूद अपनी दृढ़ इच्छा शक्ति से आजाद हिंद फौज का गठन किया। देश की आजादी में उनके योगदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता। इस अवसर पर डॉ.मनोज मिश्र, डॉ.केके सिंह, डॉ.बाला लखेंदु, डॉ.विनय वर्मा आदि मौजूद रहे। विवि के एनएसएस भवन में एबीवीपी की ओर से हुए कार्यक्रम में डॉ.देवेंदु मिश्र, आयुष दुबे,आर्यन सिंह, धीरेंद्र कौशिक, प्रियांशु मिश्रा, भक्ति पाठक, आकर्षक, अर्पित तिवारी आदि मौजूद रहे। कांग्रेस कार्यालय में जिलाध्यक्ष फैसल हसन तबरेज की अध्यक्षता में हुए कार्यक्रम में वक्ताओं ने कहा कि नेताजी के काम को देश हमारा याद रखेगा। इस अवसर पर धर्मेंद्र निषाद, राकेश सिंह, आजम जैदी, नीरज राय, शिव मिश्रा, शैलेंद्र सिंह, नेसार इलाही, राणा विश्व प्रताप सिंह, अनिल सोनकर, सतीश निषाद, प्रवीण सिंह, पिंटू, ज्ञानेश सिंह, विनय तिवारी, इकबाल, प्रदीप यादव आदि मौजूद रहे। संचालन विशाल सिंह हुकुम ने किया। कायस्थ महासभा की ओर से कैंप कार्यालय मियांपुर में सुभाष जयंती मनाई गई। जिलाध्यक्ष राकेश श्रीवास्तव, श्याम रतन, जय आनंद, सुधीर, इंद्रसेन श्रीवास्तव, रवि, राजन श्रीवास्तव, डॉ.अशोक कुमार, सुरेश आदि मौजूद थे। होली चाइल्ड परिसर में नेताजी सुभाष बोस की जयंती पर उनके चित्र पर पुष्प अपिरध़त शिक्षक और छात्रों ने नमन किया। संस्थापक डॉ. अशोक सिंह रघुवंशी ने विचार व्यक्त किया। जेसीआई जौनपुर की ओर से धर्मेंद्र सेठ की अध्यक्षता में शहर के नखास स्थित शिशु मंदिर में जयंती मनाई गई। बच्चों में बिस्कुट और मिठाई बा्ंट कर सुभाष चंद बोस के जीवन से परिचित कराया। चंद्रशेखर जायसवाल, सत्य प्रकाश, राजकुमार, संजीव जायसवाल, अमित निगम, रमेश श्रीवास्तव, आशीष सेठ आदि मौजूद थे। संचालन हाफिज शाह ने किया। पूर्व सैनिकों ने गुरूवार को सिविल लाइंस के पास स्थित सैनिक कल्याण कार्यालय पर हुए कार्यक्रम में कर्नल तारकेश्वर राय, समिति के अध्यक्ष अनिल यादव, आरके मिश्रा, ओमप्रकाश राजभर, केके सिंह, कमलेश यादव, त्रिभुवन यादव, अनिल सिंह आदि मौजूद रहे।
सुईथाकला: श्रीगांधी स्मारक इंटर कॉलेज समोधपुर सुभाष चंद्र बोस की 123वीं जयंती मनाई गई। प्रधानाचार्य डॉ.रणजीतसिंह, विनोद सिंह, पं.शीतला प्रसाद उपाध्याय, सुभाष चंद्र तिवारी, रामबक्स सिंह आदि ने श्रद्धासुमन अर्पित किया। मछलीशहर: खेतिहर मजदूर किसान यूनियन के सदस्यों ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती पर भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की। करनौली गांव के आंबेडकर पार्क में आयोजित श्रद्धांजलि सभा में बलिकरन राम, जयलाल सरोज मौजूद रहे। जलालपुर: बयालसी इंटर कॉलेज परिसर में प्रधानाचार्य डॉ.शैलेंद्र कुमार सिंह के द्वारा नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती मनाई गई।
सांप्रदायिकता विरोध दिवस के रूप में मनाई जयंती
बदलापुर: आल इंडिया डेमोक्रेटिक स्टूडेंट आर्गेनाइजेशन कमेटी की आजादी आंदोलन में गैर समझौता वादी धारा के महानायक नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 123 वी जयंती को सांप्रदायिकता विरोध दिवस के रूप में मनाया। छात्र संगठनों में एआईडीएसओ युवा संगठन एवं किसान संगठन और जन संघर्ष समिति कमेटियों की तरफ संयुक्त रूप से निकला जुलूस फत्तूपुर रेलवे क्रॉसिंग से शुरू होकर सिंगरामऊ, रतासी, कुशहां होते हुए बदलापुर इंदिरा चौक पर पहुंचा। बदलापुर में श्रद्धांजलि सभा की गई। जुलूस में रविशंकर मौर्य, मिथिलेश मोर्य, दिलीप कुमार खरवार, इंद्र कुमार शुक्ला, राजेंद्र प्रसाद तिवारी, दिनेश मौर्य, संतोष प्रजापति, राजबहादुर विश्वकर्मा, डाक्टर धर्मेन्द्र शुक्ला, हीरालाल गुप्ता, अंजली, अनीता आदि उपस्थित रहे।
महराजगंज: क्षेत्र के दुगौली स्थित चिल्ड्रेन स्कूल ऑफ आर्ट में प्रबंधक प्रदीप के सिंह की मौजूदगी में जयंती मनाई गई। हयिंुवा महराजगंज के कार्यकर्ताओं ने क्षेत्र के सवंसा मंदिर में संयोजक महेश नारायण उपाध्याय की अध्यक्षता में सुभाष चंद्र बोस की जयंती मनाई गई। थानागद्दी: जनता इंटर कॉलेज रतनूपुर परिसर में जयंती पर नेता जी को याद किया। इस मौके पर मदनगोपाल, जयशंकर सिंह, सुनील कुमार सिंह, डा. डीपीएन सिंह, मुरली पाल एवं राजेश सिंह आदि उपस्थित रहे। सुजानगंज: रघुवीर महाविद्यालय थलोई भिखारीपुर कला में नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती के पर व्याख्यान हुआ। महाविद्यालय के निदेशक डॉ.विनय कुमार त्रिपाठी प्राचार्य डा. अवधेश कुमार श्रीवास्तव बालवारगंज बाजार स्थित हनुमानजी मंदिर पर धीरज गुप्ता के नेतृत्व में आयोजित कार्यक्रम में राहुल सोनी, नीरज सिंह, सौरभ उमर, शिवम मिश्रा, नित्यानंद दुबे, हिंमाशू सोनी, कपिल कुमार, गनेश मिश्रा आदि मौजूद रहे।
... और पढ़ें
महराजगंज क्षेत्र के चिल्ड्रेन स्कूल ऑफ आर्ट दुगौली में नेता जी के चित्र पर माल्यार्पण करते विद्? महराजगंज क्षेत्र के चिल्ड्रेन स्कूल ऑफ आर्ट दुगौली में नेता जी के चित्र पर माल्यार्पण करते विद्?

शिक्षक के खाते से उड़ाए 1.05 लाख

बरईपार। सुजानगंज थाना क्षेत्र के सराय भोगी गांव निवासी इंटर कॉलेज के शिक्षक आशुतोष कुमार सिंह के खाते से जालसाजों ने 1.05 लाख रुपये उड़ा दिए। पेटीएम अकाउंट बंद होने का झांसा देकर जालसाजों ने पूरी जानकारी ली और खाते से रुपये साफ कर दिया। जानकारी होने के बाद पीड़ित ने थाने में तहरीर दी है।
आशुतोष के मुताबिक 21 जनवरी को उनके मोबाइल पर एक शख्स ने फोन कर यह सूचना दी कि पेटीएम अकाउंट बंद हो गया है। इसे चालू कराएं। इसके लिए उन्हें एक नंबर से कॉल कर एक रुपये भेजने को कहा गया। रुपये ट्रांसफर करते ही एसबीआई बैंक खाते का डिटेल मांगा गया। कुछ देर बाद यूबीआई खाते के बारे में भी जानकारी ली गई। जब तक वह कुछ समझते, उनके खाते से क्रमश: साढ़े 45 हजार और कई बार में साढ़े 55 हजार रुपये कट गए। उन्होंने बैंक व थाने में सूचना दी है। यूबीआई बरईपार के शाखा प्रबंधक नारायण सिंह ने बताया कि कस्टमर को हमेशा बताया जाता रहता है कि वे अपनी जानकारी कभी किसी को ना दें। फिलहाल खाते पर रोक लगा दी गई है।
... और पढ़ें

थाने में खड़ी बाइक पर पुलिस का लोगो देख भड़के एडीजी

जलालपुर। अपर पुलिस महानिदेशक जोन वाराणसी ब्रजभूषण ने गुरुवार को जलालपुर थाने का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान मिली खामियों पर उन्होंने नाराजगी जताई।
एडीजी ने सबसे पहले थाने के शौचालय का निरीक्षण किया। वह जैसे ही शौचालय के करीब पहुंचे तभी वहां से उठ रही दुर्गंध के चलते उनके कदम रुक गए। उन्होंने नाराजगी जताते हुए थानाध्यक्ष पन्नेलाल से पूछा कि शौचालय की ऐसी दशा है क्या आप ने कभी इसे देखा है। एडीजी के इस सवाल पर थानेदार निरुत्तर रहे। वह शौचालय की तरफ से जैसे ही थाना कार्यालय की ओर रुख किए तभी परिसर में खड़ी एक सिपाही की निजी बाइक पर पुलिस के लोगों पर एडीजी की नजर पड़ गई। उन्होंने उन्होंने थानेदार से पूछा कि यह बाइक किसकी है। पता चला कि बाइक एक सिपाही की थी। एडीजी ने कहा कि निजी बाइक पर पुलिस का लोगो कैसे लगा लिया। उसे तत्काल मिटवाने का निर्दश देते हुए उन्होंने कहा कि निजी बाइक पर पुलिस का लोगो लगाना गैर कानूनी है। इसे थाने में चेक करा लें। कोई भी सिपाही या दरोगा अपने निजी वाहन पर पुलिस का लोगो नहीं लगा सकता। थाना परिसर में रखे ड्रम के बारे में उन्होंने पूछा तो थाने के मुंशी ने बताया कि इसमें कच्ची शराब रखी हुई है। इसपर एडीजी ने कहा कि परिसर में रखे शराब व लकडिय़ों का परमीशन लेकर इसकी नीलामी करयें। उन्हें ने थाना परिसर को साफ सुथरा बनाने का निर्देश दिया। उन्होंने थाने में तैनात महिला कांस्टेबल के बारे में जानकारी ली। थाने के सभी रजिस्टरो का अवलोकन किया। थानेदार के अलावा थाने में तैनात सभी उप निरीक्षकों से भी उन्होंने अपराध व अपराधियों के बारे में जानकारी ली। एडीजी के साथ एसपी अशोक कुमार, एससीपीटी डॉ. अनिल पांडेय मौजूद थे।
... और पढ़ें

4.75 लाख छात्र, शिक्षक और अफसरों ने एक साथ की पढ़ाई

जौनपुर। गुरुवार को सुबह घड़ी की सूइयां जैसे ही 11 बजने का संकेत दीं तो पहले से ही तैयार छात्रों के साथ शिक्षक, कर्मचारी और अधिकारी भी किताब खोलकर पढ़ने बैठ गए। अपने अपने मन पसंद के विषयों की पढ़ाई का सिलसिला लगातार 45 मिनट तक चलता रहा। पूविवि से लेकर जिले के तमाम डिग्री कॉलेज, इंटर कॉलेज और प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालयों में भी यही नजारा दिखा। लोगों में किताबें पढ़ने की रुचि विकसित करने के लिए राज्यपाल आनंदी बेन पटेल के निर्देश पर पढ़े जौनपुर कार्यक्रम के तहत इस अनूठी पहल का शुभारंभ सुभाष चंद्र बोस की जयंती के मौके पर किया गया। अब हर महीने किसी एक दिन ऐसा ही कार्यक्रम सभी सरकारी और गैर सरकारी शिक्षण संस्थानों में होना है।
स्मार्टफोन के इस जमाने में लोग किताबों से दूर होते जा रहे हैं। ऐसे में लोगों में किताबें पढ़ने की रुचि विकसित करने के लिए कुलाधिपति ने यह पहल शुरू की है। पूविवि के सभी विभागों में पढ़ें जौनपुर कार्यक्रम का आयोजन हुआ। विश्वविद्यालय प्रशासन ने दो दिन पहले ही इसके लिए तैयारियां पूरी कर ली थीं। सभी शिक्षकों, कर्मचारियों और विद्यार्थियों को इस बाबत निर्देश जारी कर दिए गए थे। जिलाधिकारी के निर्देश पर सभी इंटर कॉलेज, प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों में भी यह निर्देश जारी कर दिया गया था।
जनक कुमारी इंटर कॉलेज हुसैनाबाद में नोडल अधिकारी के रवींद्र नायक, डीएम दिनेश कुमार सिंह, सीडीओ अनुपम शुक्ला, बीएसए डॉ. राजेंद्र सिंह ने छात्रों के साथ बैठकर पढ़ाई की। इसके अलावा बीएसए, कार्यालय समेत अन्य कार्यालयों में भी अधिकारी कर्मचारी पढ़े जौनपुर का हिस्सा बने। नोडल अधिकारी प्रो. अविनाश पाथर्डीकर ने बताया कि विश्वविद्यालय से लेकर स्कूल और कालेजों में 4.75 लाख से अधिक छात्र और शिक्षक, अधिकारी, कर्मचारी इस कार्यक्रम का हिस्सा बने। पूविवि के संकाय भवन, रज्जू भैया संस्थान, फार्मेसी एवं अभियांत्रिकी संकाय के विभिन्न विभागों व विवेकानंद केंद्रीय पुस्तकालय में विद्यार्थियों ने अपने मन पसंद की किताबें पढ़ीं। कुलसचिव सुजीत कुमार जायसवाल ने परिसर के विभिन्न विभागों में दौरा कर किताबें पढ़ने का अवलोकन किया।
इन शिक्षण संस्थानों में भी हुआ आयोजन
जौनपुर। पढ़े जौनपुर कार्यक्रम के तहत ग्रामीण इलाकों के भी तमाम स्कूल और कॉलेजों में शिक्षक और छात्रों ने एक साथ पढ़ाई की। थानागद्दी क्षेत्र के जनता इंटर कॉलेज रतनूपुर के परिसर में शिक्षक और छात्रों ने एक साथ पढ़ाई की। मछलीशहर के फौजदार इंटर कॉलेज, गंगादीन रामकुमार इंटर कॉलेज रामगढ़, होरिल राव इंटर कॉलेज कुंवरपुर, राजकीय बॉलिका इंटर कॉलेज मछलीशहर समेत अन्य विद्यालयों में छात्र और शिक्षकों ने एक साथ पढ़ाई की। प्रधानाचार्य ने भी छात्रों के साथ बैठकर अपनी पसंद के विषय की किताब पढ़े। सुईथाकला क्षेत्र के श्री गांधी स्मारक इंटर कालेज समेत अन्य डिग्री कॉलेज और प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यायों में भी छात्र और शिक्षकों ने मौन वाचन किया। जलालपुर के बयालसी इंटर कालेज परिसर में प्रधानाचार्य डॉ. शैलेन्द्र कुमार सिंह के साथ अन्य शिक्षक और छात्रों ने लगातार 45 मिनट तक किताबें पढ़ीं। सुजानगंज क्षेत्र के रघुवीर महाविद्यालय थलोई भिखारीपुर कला में जेएनयू के प्रोफेसर शशिभूषण तिवारी की मौजूदगी में शिक्षक और छात्रों ने पुस्तकें पढ़ीं।
... और पढ़ें

सरकारी चश्मे से हुआ निरीक्षण, मिला सब ओके

पढ़े जौनपुर बढ़े जौनपुर कार्यक्रम के अर्न्तगत जनक कुमारी इंटर कालेज में किताबें पढ़ती छात्राएं?
जौनपुर। शासन की कल्याणकारी योजनाओं की हकीकत जानने आए जिले के नोडल अधिकारी के. रवींद्र नायक ने गुरुवार को जिला अस्पताल, पीडब्लूडी, एआरटीओ और सिकरारा ब्लाक कार्यालय का निरीक्षण किया। अधिकांश कार्यक्रम पूर्व निर्धारित होने के चलते मातहत भी पूरी तरह तैयार थे। साफ-सफाई से लगायत सब कुछ बेहतर कर लिया गया था। साहब को वही दिखाया गया, जिससे सब कुछ अच्छा मिले। सरकारी चश्मे से निरीक्षण में ज्यादातर जगहों पर व्यवस्थाएं बेहतर मिली तो नोडल अधिकारी भी अफसरों की पीठ थपथपाते हुए चलते बने। मगर उनके जाते ही व्यवस्थाएं फिर से पुराने ढर्रे पर आ गई। एआरटीओ कार्यालय में बिचौलिए हावी दिखे तो अस्पताल में दवाओं की पर्ची लेकर मरीज बाहर जाते रहे। दवा, जांच उपचार के लिए उन्हें कर्मचारियों के आगे मिन्नतें करनी पड़ रही थी।
---
निरीक्षण एक: जिला अस्पताल
डॉक्टर न लिखें बाहर की दवा, रखें साफ-सफाई
नोडल अधिकारी सबसे पहले जिला अस्पताल पहुंचे। दवा वितरण कक्ष, रजिस्ट्रेशन कक्ष, औषधि स्टाफ कक्ष के निरीक्षण के साथ वार्डों में भर्ती मरीजों से स्वास्थ्य संबंधी सुविधाओं की जानकारी ली। निर्देश दिए कि दवा सप्लाई करने वाली एजेंसी से मैन्युफैक्चरिंग तिथि से 06 महीने के बाद की दवाएं न लें। उपलब्ध दवा एक्सपायरी तिथि से 06 महीने पूर्व ही इस्तेमाल कर ली जाए। विशेष आवश्यकता वाली जो दवाएं अस्पताल में उपलब्ध नहीं हैं, उनका विवरण उपलब्ध कराएं और दवाओं के स्टाक को कंप्यूटराइज करें। अस्पताल में भर्ती सभी मरीजों को नाश्ता-खाना गुणवत्तापूर्ण उपलब्ध कराने को कहा। महिला वार्ड में भर्ती श्यामा देवी, बेइला देवी से बाहर की दवा लिखे जाने के बारे में पूछा। नोडल अधिकारी ने अस्पताल में साफ-सफाई रखने तथा शौचालय तथा वार्ड के प्रत्येक ब्लॉक में एक एग्जास्ट लगवाने के निर्देश दिए। पोषण पुनर्वास केंद्र के निरीक्षण के दौरान नोडल अधिकारी ने निर्देश दिया कि यहां भर्ती बच्चों की अच्छी तरह से देखभाल करें। उन्होंने आंगनबाड़ी, आशा, एएनएम 01 वर्ष के कार्यों का ऑडिट कराने का निर्देश दिया।
---
निरीक्षण दो: पीडब्लूडी ऑफिस
गंदगी और शौचालय देख भड़के, लगाई लताड़
पीडब्यूडी निर्माण खंड द्विवितीय के निरीक्षण के दौरान कार्यालय में व्याप्त गंदगी, टूटी आलमारी, कुर्सियां और खराब शौचालय देखकर कड़ी नाराजगी व्यक्त की। कहा कि स्वच्छ भारत अभियान के बावजूद कार्यालय की यह दशा कैसे है। इसे जल्द से जल्द ठीक कराने के निर्देश दिए। अधिशाषी अभियंता निर्माण खंड द्वितीय जैनुराम को निर्देश दिया कि 15 दिन के भीतर गार्ड फाइल, पत्रावली की पंजिका, स्टाफ रजिस्टर सहित अन्य अभिलेख ठीक करा लें, नहीं तो कार्रवाई की जाएगी।
---
निरीक्षण तीन: एआरटीओ कार्यालय
आने से पहले सन्नाटा, जाते ही पहुंच गए दलाल
नोडल अधिकारी करीब साढ़े 11 बजे एआरटीओ कार्यालय पहुंचे। उन्होंने लाइसेंस रिकार्ड रुम, परीक्षा कक्ष, लाइसेंस रूम आदि का निरीक्षण किया। लाइसेंस बनवाने आए लोगों से लिए जा रहे शुल्क के बारे में पूछा। ड्राइविंग ट्रैक न होने पर नाराजगी जताते इसके लिए तत्काल भूमि उपलब्ध कराने को कहा। यातायात नियमों का कड़ाई से पालन कराने का निर्देश दिया। नोडल अधिकारी के निरीक्षण से पहले तक कार्यालय में गिनती के लोग पहुंचे थे। कार्यालय के पास स्थित जिन दुकानों से दलालों का धंधा चलता है, उन पर भी ताला लगा रहा। दोपहर करीब 12 बजे नोडल अधिकारी के जाते ही सब कुछ सामान्य दिनों जैसा ही हो गया। लाइसेंस काउंटर से लेकर कार्यालय अंदर-बाहर तक बिचौलियों की भीड़ जुट गई।
---
जो सड़क खोदे, वह मरम्मत भी कराए
- देर रात तक चली समीक्षा बैठक में नोडल अधिकारी ने दिए निर्देश
अमर उजाला ब्यूरो
जौनपुर। नोडल अधिकारी के. रवींद्र नायक ने बुधवार की देर रात तक जिले में कानून व्यवस्था और शासन की योजनाओं के प्रगति की समीक्षा की। कानून-व्यवस्था में सुधार और दोहरा बनाने व बेचने वालों पर सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि धान खरीद का भुगतान किसानों को शीघ्र कराएं। सड़कों को गड्ढा मुक्त करने और शहर को जाम से निजात दिलाने के लिए रेलवे क्रॉसिंग पर ऊपरगामी सेतु बनाने का प्रस्ताव बनाने को कहा। डीएम ने बताया कि जिले की आठ रेलवे क्रॉसिंग पर ऊपरगामी सेतु बनाने के लिए प्रस्ताव शासन को भेजा जा चुका है। नोडल अधिकारी ने निर्देश दिया कि कोई विभाग अगर कार्य के दौरान सड़क खुदाई की जाती है तो उसकी मरम्मत भी कराएं, वरना मरम्मत में आने वाला खर्च सड़क बनाने वाली संस्था को दें। सीएमओ डॉ. रामजी पांडेय को निर्देश दिए कि जिले के अस्पतालों में कहीं भी डॉक्टर बाहर की दवाइयां न लिखें। आवास के लिए मुसहरों को जमीन का पट्टे कराने के निर्देश दिए। नोडल अधिकारी ने स्कूलों में बच्चों की उपस्थिति बढ़ाने के निर्देश बीएसए को दिए। बैठक में डीएम दिनेश कुमार सिंह, एसपी अशोक कुमार, सीडीओ अनुपम शुक्ला, एडीएम रामप्रकाश, डॉ. सुनील वर्मा, सीएमओ डॉ. रामजी पांडेय आदि मौजूद रहे।
... और पढ़ें

चार संदिग्धों को पकड़कर ले गई एसटीएफ टीम

चार संदिग्धों को पकड़कर ले गई एसटीएफ टीम
- एक को ग्रामीणों ने पकड़ कर किया पुलिस के हवाले
संवाद न्यूज एजेंसी
मीरगंज। एसटीएफ की टीम ने बुधवार की सुबह जंघई स्टेशन रोड पर स्कार्पियो सवार चार लोगों को हिरासत में ले लिया। भाग रहे एक व्यक्ति को ग्रामीणों ने पकड़कर जंघई पुलिस को सौंप दिया। उन्हें किस आरोप में पकड़ गया और कहां ले जाया गया, यह स्पष्ट नहीं हो सका है।
जंघई तिराहा के स्टेशन रोड पर बुधवार की सुबह इलाहाबाद की तरफ से हरियाणा नंबर की एक स्कार्पियो पहुंची। उसमें सवार चार लोग उतर कर इधर-उधर टहल रहे थे। इसी दौरान पीछे से पहुंची दो बोलेरो व इनोवा कार से उतरे सादी वर्दी में 8-9 की संख्या में लोगों ने उन्हें दबोच लिया। स्कार्पियो सवार एक व्यक्ति उनके चंगुल से छूटकर बस्ती की ओर भागकर पहुंच गया। वहां ग्रामीणों ने उसे पकड़ कर जंघई चौकी पुलिस को सौंप दिया। पकड़े गए व्यक्ति ने खुद को स्कार्पियो का चालक बताया है। उसका कहना था कि तीन हजार रुपया रोजाना पर वाहन बुक किया गया है। वह प्रयागराज के माघ मेले में आया था। वहां से उसे वाराणसी के लिए ले जा रहे थे। उसने बताया कि वह हरियाणा से 20 जनवरी को चला था। 21 को इलाहाबाद पहुंचने के बाद 22 जनवरी को वाराणसी के लिए निकला था। भूल से जंघई पहुंच गया था। इसी समय उसके साथ के लोगों को पकड़ लिया गया। चौकी इंचार्ज जंघई संतोष शुक्ला ने बताया कि चालक से पूछताछ कर जानकारी ली जा रही है। उसके साथियों को एसटीएफ द्वारा उठाए जाने की संभावना है। एसटीएफ टीम कहां की थी, यह स्पष्ट नहीं है।
... और पढ़ें

दौड़कर ट्रेन पकड़ ली, जिंदगी छूट गई

मीरगंज। प्लेटफार्म पर दौड़ लगाकर ट्रेन पकड़ना एक शख्स की जिंदगी पर भारी पड़ गया। उसे ट्रेन तो मिल गई, लेकिन जिंदगी ने साथ छोड़ दिया। मामला जिले के जंघई रेलवे स्टेशन का है।ट्रेन पर चढ़ते ही वृद्ध औंधे मुंह गिर पड़ा और फिर उठ न सका।
बरसठी थाना क्षेत्र के ग्राम बबुरी बेलौना खुर्द निवासी राजनारायण यादव(62) मंगलवार की देर शाम मुंबई जाने के लिए जंघई स्टेशन पहुंचे। उस समय ट्रेन प्लेटफार्म छोड़ रही थी। काफी दूर तक दौड़ कर उन्होंने ट्रेन तो पकड़ ली लेकिन ट्रेन मे चढ़ते ही गिर पड़े। परिजनों ने गिरता देख आवाज लगाकर सहयात्रियों से चेन पुलिंग करने का अनुरोध किया।चेन खींचकर ट्रेन रूकवाई गई। जीआरपी की मदद से परिजनों ने वृद्ध को मछलीशहर सीएचसी ले गए, जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया।
... और पढ़ें

खराब भोजन को लेकर हॉस्टल छात्रों ने किया हंगामा

करंजाकला। वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय के हॉस्टल में फिर से खराब भोजन परोसने का मामला सामने आया है। बुधवार की शाम ओल्ड बीटेक हॉस्टल के छात्रों ने भोजन की गुणवत्ता को खराब ठहराते हुए हंगामा किया। छात्रों का आरोप है कि मेस में सङे आलू और दूषित सब्जियां परोसी जा रही हैं। शिकायत के बाद भी कार्रवाई नहीं हो रही।
ओल्ड बीटेक हॉस्टल में ढाई सौ छात्र रहते हैं। बुधवार की शाम छात्रों ने खराब भोजन परोसे जाने को लेकर हंगामा किया। हंगामे की सूचना पर वार्डन बोर्ड पहुंच गए। छात्र उन्हें लेकर मेस के भीतर घुस गए। वहां पुराने आलू और सड़ी- गली सब्जियां और प्याज दिखाया। छात्रों ने मेंस संचालक पर मनमानी का आरोप लगाया। कहा कि इसके पहले भी कई बार लापरवाही की गई। इसकी शिकायत वार्डन बोर्ड से भी की गई, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। वार्डन बोर्ड ने हंगामा कर रहे छात्रों को आश्वस्त किया कि जांच कराकर कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

हत्या कर कुएं में फेंक दिया था युवक का शव

मीरगंज। स्थानीय थाना क्षेत्र के किशुनदासपुर गांव से लापता जिस युवक की पुलिस तलाश कर रही थी उसका शव बुधवार को घर से पांच सौ मीटर दूर नहर किनारे एक कुएं से बरामद हुआ। शव को मिट्टी से भरे बोरे से बांध दिया गया था। जिससे साफ है कि उसकी हत्या कर शव को कुएं में फेंक दिया गया था। सूचना पर पहुंची फोरेंसिक टीम और डाग स्क्वायड ने भी जांच पड़ताल की। हालांकि हत्यारों का कोई खास सुराग नहीं मिल सका। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।
किशुनपुर गांव निवासी देवराज पाल के पुत्र परमेंद्र पाल (24) 16 जनवरी को घर से लापता हुआ था। काफी खोजबीन के बाद भी उसका पता नहीं चला तो परिजनों ने पुलिस को सूचना दी। पुलिस गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कर छानबीन में जुटी थी। बुधवार को किशुनदासपुर गांव के किसी ने नहर के किनारे कुएं में शव देखा तो शोर मचाया। मौके पर लोगों की भीड़ जमा हो गई। सूचना पर एसओ अरविंद वर्मा मौके पर पहुंच गए। उन्होंने शव को बाहर निकलवाया तो शव के गले में मिट्टी से भरा बोरा बंधा था। शव की पहचान किशुनदासपुर गांव के परमेन्द्र कुमार पाल (24) पुत्र देवराज पाल के रूप में हुई। सूचना मिलते ही घर में कोहराम मच गया। परिजनो के अनुसार परमेंद्र 16 जनवरी से घर से लापता था। जिसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट थाने मे दर्ज कराई गयी थी । सूचना पर दोपहर बाद सीओ मछलीशहर विजय सिंह मौके पर पहुंच गए।7 चार बजे फोरेंसिक टीम मौके पर पहुच कर जांच पड़ताल की। डागस्क्वायड भी पहुंचा लेकिन हत्यारों का सुराग नहीं लग सका। मृतक दो भाईयो में छोटा था । उसका बड़ा भाई मुम्बई में रहता है । परमेंद्र से पहले भी उसके दो भाईयो की मौत हो चुकी है । एक भाई की दुर्घटना में तो दूसरे भाई की मौत बिमारी के चलते हुई थी। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे मे लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।सीओ मछलीशहर विजय सिंह का कहना है शव के मिट्टी भरे बोरे से बंधा था इससे साफ है कि उसकी हत्या की गई है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

पानी पिलाते ही मरीज की मौत, अस्पताल में हंगामा

पानी पिलाते ही मरीज की मौत, अस्पताल में हंगामा
पानी पिलाने वाली महिला को पुलिस ने हिरासत में लेकर छोड़ा
संवाद न्यूज एजेंसी
जौनपुर। जिला अस्पताल में भर्ती एक 78 वर्षीय मरीज को पानी पिलाते ही मौत को लेकर परिजनों ने हंगामा खड़ा कर दिया। परिजनों ने आरोप लगाया कि अस्पताल में एक दूसरे मरीज के साथ आई महिला ने दुआ किया हुआ पानी पिलाने पर मरीज को आराम होने की बात कहकर पानी पिला दिया दिया। पानी पिलाने के महज दस मिनट बाद ही वृद्ध की मौत हो गई। हंगामे की सूचना पर पहुंची पुलिस ने महिला को हिरासत में ले लिया। पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए शव को कब्जे में लेना चाहा तो परिजन तैया नहीं हुए। देर रात को परिवार के लोग शव लेकर घर चले गए तो पुलिस ने हिरासत में ली गई महिला को भी छोड़ दिया।
सिंगरामऊ थाना क्षेत्र के मल्लूपुर गांव निवासी शिवनाथ ( 78) को बीमार होने पर परिजन मंगलवार की शाम जिला अस्पताल लेकर आए थे। यहां डॉ स्वयंदास ने मरीज की हालत गंभीर देख वाराणसी रेफर कर दिया। बताया जा रहा कि रेफर किए जाने के बाद भी मरीज को लेकर परिजन अस्पताल में ही बैठे रहे। उसी दौरान बगल के वार्ड में भर्ती अपने मामा को देखने आई एक महिला ने पानी की बोतल निकाला और कहा कि यह प्रभू ईशू की दुआ किया हुआ पानी है। इसी पानी को हमने अपने मामा को पिलाया तो वह ठीक हो गए। इन्हें भी पानी पिलाएं आराम हो जाएगा। परिवार के लोग महिला की बात में आकर पानी तो पिला दिया लेकिन दस मिनट बाद ही शिवनाथ की मौत हो गई। परिवार के लोगों को शक हुआ कि महिला ने पानी में जहर मिलाकर पिला दिया। यह कहते हुए परिवार के लोग हल्ला मचाने लगे। सूचना पर सीओ सिटी सुशील सिंह, कोतवाल पवन कुमार उपाध्याय पुलिस बल के साथ पहुंच गए। पुलिस ने महिला को हिरासत में ले लिया। इस संबंध में नगर कोतवाल का कहना है कि मृतक के परिवार के लोग पहले आरोप लगा रहे थे। लेकिन शव का पोस्टमार्टम कराने को राजी हुए न ही वे केस दर्ज कराना चाहते थे। वे शव लोकर घर चले गए तो महिला को भी छोड़ दिया गया।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us