फर्जीवाड़े में 20 के खिलाफ एफआईआर

Jaunpur Updated Tue, 29 Jan 2013 05:30 AM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
जौनपुर। काम के बदले अनाज योजना में हुई धांधली अब सामने आ रही है। लंबी जांच के बाद सीबीसीआईडी की ईओडब्ल्यू शाखा ने महराजगंज और बक्शा थाने में दस-दस लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। जालसाजी में डीआरडीए के तत्कालीन परियोजना निदेशक समेत कई बीडीओ, एमआई, कोटेदार और कर्मचारी शामिल हैं। जांच के दौरान साफ हुआ कि मास्टर रोल पर काल्पनिक नाम दर्ज किए गए। फर्जी नामों के आधार पर अनाज और पैसों का भुगतान हुआ।
विज्ञापन

गौरतलब है कि वित्तीय वर्ष 2004-05 में एसजीआरवाई योजना चल रही थी। इस योजना के तहत कुल मजदूरी की आधी रकम के बदले अनाज दिया जाता था और आधी मजदूरी नगद दी जाती थी। उस वक्त बैंक खातों में भुगतान की व्यवस्था नहीं थी। इसी का फायदा ग्राम पंचायतों ने उठाया। आर्थिक अपराध शाखा (ईओडब्ल्यू) वाराणसी के इंस्पेक्टर सत्यराम यादव ने बक्शा और महराजगंज थाने में 20 लोगों के खिलाफ दो एफआईआर दर्ज कराई।

बक्शा: एसजीआरवाई योजना में धांधली की शिकायतें हुई तो राज्य सरकार ने जांच ईओडब्ल्यू को सौंप दी। बक्शा ब्लाक की 122 कार्ययोजनाओं में से रैंडम देवरिया तथा सराय हरखू गांव की जांच हुई, देवरिया में संपर्क मार्ग और खडंजा लगाया गया तथा सराय हरखू गांव में लाला बस्ती से सई नदी तक नाला सफाई हुई थी। इन दोनों जांच में पता चला कि मस्टर रोल (दैनिक उपस्थिति पंजिका) में मजदूरों के नाम काल्पनिक भरे गए। मस्टर रोल में दर्ज कई नाम फर्जी पाए गए तो कई मजदूरों ने बताया कि उन्होंने कोई काम ही नहीं किया था। फिलहाल ईओडब्ल्यू इंस्पेक्टर सत्यराम यादव ने ग्राम्य विकास अभिकरण (डीआरडीए) के तत्कालीन परियोजना निदेशक जय प्रकाश पांडेय, तत्कालीन ब्लाक प्रमुख अमीचंद सिंह, बीडीओ राजेश यादव, मछलीशहर मार्केटिंग इंस्पेक्टर अरविंद कुमार दुबे, डीआरडीए कर्मचारी अनिल कुमार मिश्र, ब्लाक के सहायक लेखाकार शकील अहमद, किसान सहायक कार्य प्रभारी लोकनाथ सिंह, बरसाती यादव, देवरिया के कोटेदार अशोक कुमार सिंह, धनियामऊ के कोटेदार श्रीपाल यादव के खिलाफ जालसाजी समेत नौ धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया।
महराजगंज: इसी योजना के तहत केशवपुर में खडंजा निर्माण, अभईपुर में माइनर की पटरी पर खडंजा लगाया गया था। जांच में पता चला कि कई फर्जी नामों से मजदूरी भुगतान हुआ। ईओडब्ल्यू इंस्पेक्टर सत्यराम यादव की तहरीर पर तत्कालीन पीडी जय प्रकाश पांडेय, तत्कालीन बीडीओ शेषनाथ चौहान, सुरेश चंद्र मिश्र, जेई राम कुमार पांडेय, तत्कालीन मार्केटिंग इंस्पेक्टर राम दुलार, सहायक लेखाकार नानक चंद्र, सेक्रेट्री राम कृपाल यादव, किसान सहायक बृजमोहन यादव, केशवपुर के कोटेदार श्यामरथी, पूरा लाल के कोटेदार बनारसी निगम के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ। बसपा नेता श्यामरथी वर्तमान में वार्ड 27 से जिला पंचायत सदस्य हैं।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X