प्रतिमा चबूतरे को लेकर बवाल

Jaunpur Updated Sun, 30 Sep 2012 12:00 PM IST
जौनपुर। सिटी रेलवे स्टेशन के ठीक सामने पीपल के पेड़ के नीचे हनुमान प्रतिमा के चबूतरे को लेकर विवाद हो गया। चबूतरा निर्माण की कोशिश कर रहे हिंदूवादी संगठनों के तीन नेताओं को पुलिस ने घेरकर लात घूसों से पिटाई कर दी। बाद में तीनों का शांतिभंग की आशंका में ही चालान कर दिया गया। पुलिस ने एसडीएम कोर्ट भेजा तो यहां भी काफी भीड़ लग गई। यहां नारेबाजी के बीच जमानत प्रार्थनापत्र दाखिल किया गया। देर शाम निजी मुचलके पर तीनों को एसडीएम सदर ने मुक्त कर दिया।
बनारस-वाया सुल्तानपुर रेल प्रखंड पर सिटी स्टेशन के बाहर पीपल के पेड़ के नीचे लंबे समय से हनुमान प्रतिमा रखी हुई है। बड़ी मूर्ति के पास कई छोटी-छोटी मूर्ति रखी हुई है। पिछले वर्ष रेलवे ने स्टेशन सौंदर्यीकरण कराया तो पीपल के पेड़ के चारो ओर कच्चा चबूतरा बनवा कर मूर्तियां वहीं रखवा दी। हिंदूवादी संगठनों का आरोप है कि कुछ लोगों ने पीपल के पेड़ के नीचे से शुक्रवार की रात में मूर्ति हटाने का प्रयास किया। प्रतिमा इधर-उधर किए जाने की जानकारी होने पर शनिवार सुबह हिंदूवादी संगठनों के कई लोग सिटी स्टेशन पहुंच गए। यहां पहुंचे लोगों ने पीपल के पेड़ के नीचे अस्थायी चबूतरे का निर्माण शुरू करवा दिया। सूचना पर आरपीएफ इंस्पेक्टर नरेंद्र कुमार दुबे पहुंचे और निर्माण कार्य रोकवा दिया। यहां जुटे लोगों का कहना था कि चबूतरा निर्माण सार्वजनिक पूजन के लिए हो रहा है। यह किसी की निजी संपत्ति नहीं है। आरपीएफ इंस्पेक्टर ने उच्चाधिकारियों को सूचना दी। कुछ देर बाद सिटी मजिस्ट्रेट आलोक वर्मा मौके पर पहुंचे। सिटी मजिस्ट्रेट ने जांच के बाद आदेश दिया कि चबूतरा निर्माण किया जाए लेकिन डेढ़ फीट से अधिक नहीं होना चाहिए। सिटी मजिस्ट्रेट के जाने के बाद आरपीएफ ने फिर चबूतरा निर्माण रोकवा दिया। इससे माहौल गर्म हो गया। मौके पर मौजूद लाइन बाजार थाने के दारोगा त्रिभुवन यादव ने उच्चाधिकारियों को सूचना दी। कुछ देर बाद नगर मजिस्ट्रेट दोबारा लौटे। इस बार उनके साथ प्रशिक्षु आईपीएस प्रभाकर चौधरी, एएसपी ग्रामीण सुरेश्वर भी थे। करीब आधे घंटे बाद एसपी धर्मवीर मयफोर्स पहुंचे। इस बार जफराबाद, शहर कोतवाली, लाइन बाजार पुलिस के साथ वज्र वाहन और पीएसी के जवान भी पहुंचे। आरोप है कि गाड़ी से उतरते ही एसपी ने भाजपा नेता आलोक शुक्ला, विहिप के काशीप्रांत संयोजक तरुण शुक्ला तथा बजरंग दल के विभाग संयोजक अजय पांडेय की पिटाई शुरू कर दी। तीनों ने आरोप लगाया कि एसपी ने लात घूंसों से पीटा। तीनों भागे तो पुलिस ने घेर लिया और दूसरे दारोगा, सिपाही भी टूट पड़े। बाद में तीनों को वज्र वाहन से लाइन बाजार थाने ले जाया गया। यहां शांतिभंग की आशंका में मुकदमा दर्ज कर शाम सवा चार बजे तीनों को एसडीएम कोर्ट में पेश किया गया। जमानत पर भी लंबी किचकिच होती रही। भाजपा नेताओं ने आरोप लगाया कि एसडीएम जमानत नहीं देना चाहते हैं। चेतावनी भी दी कि यदि जमानत नहीं हुई तो रविवार को आंदोलन उग्र हो सकता है। कुछ लोगों ने कलेक्ट्रेट में धरने की भी तैयारी शुरू कर दी। दरी और लालटेन की भी व्यवस्था कर ली गई। भारी दबाव के बीच देर शाम एसडीएम सदर ज्ञानेंद्र सिंह ने तीनों को जमानत पर रिहा करने का आदेश दिया।

वर्जन :
अवैध कब्जा करने की इजाजत किसी को नहीं दी जाएगी। सिटी स्टेशन के सामने की जमीन रेलवे की है। रेलवे से अनुमति लेकर आएं तो उन्हें क्या आपत्ति हो सकती है। यह लोग दुर्व्यवहार पर उतारू हो गए थे। मजबूरन फोर्स का इस्तेमाल करना पड़ा। हाथ चला या पैर इसमें जाने की जरूरत नहीं है। यदि दुर्व्यवहार नहीं करते तो पुलिस कतई फोर्स का इस्तेमाल नहीं करती। - धर्मवीर, एसपी

Spotlight

Most Read

National

पाकिस्तान की तबाही के दो वीडियो जारी, तेल डिपो समेत हथियार भंडार नेस्तनाबूद

सीमा सुरक्षा बल के जवानों ने पाकिस्तानी गोलाबारी का मुंहतोड़ जवाब दिया है। भारत के जवाबी हमले में पाकिस्तान की कई फायरिंग पोजिशन, आयुध भंडार और फ्यूल डिपो को बीएसएफ ने उड़ा दिया है।

23 जनवरी 2018

Related Videos

कोहरे ने लगाया ऐसा ब्रेक, एक के बाद एक भिड़ीं कई गाड़ियां

वाराणसी-इलाहाबाद राजमार्ग पर गुरुवार को घने कोहरे के बीच दो एक सड़क हादसा हो गया। कोहरे की वजह से विजिबिलिटी कम होने पर एक के बाद एक चार गाड़ियां एक-दूसरे से टकरा गईं। इस हादसे में चार लोगों के घायल होने की भी खबर है।

21 दिसंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper