बारह हजार के इनामी सचिन समेत 4 फंदे में

Jaunpur Updated Thu, 23 Aug 2012 12:00 PM IST
मल्हनीबाजार। बुधवार देर शाम सरायख्वाजा पुलिस और स्पेशल आपरेशन ग्रुप ने शाहगंज रोड पर मुठभेड़ के दौरान चार बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया। इनके पास से दो प्रतिबंधित पिस्टल समेत चार असलहे और गोलियां बरामद की गई। पूछताछ में पता चला कि चारो इलाके के किसी राजनैतिक व्यक्ति की हत्या की साजिश रच रहे थे। पुलिस ने यह नहीं खोला कि किसकी हत्या की साजिश रची जा रही है। गिरफ्तार बदमाशों में 12 हजार का इनामी ईश्वरी नेवादा निवासी सचिन सिंह भी शामिल है। सचिन पर अलग-अलग जिलों में 32 मुकदमे दर्ज हैं। पुलिस का दावा है कि सचिन ने ही बैजारामपुर बाजार के किराना व्यापारी अवधेश यादव की हत्या की थी।
पुलिस के मुताबिक मुखबिर से सूचना मिली की इनामी सचिन अपने चार साथियों के साथ किसी राजनैतिक व्यक्ति की हत्या की साजिश कर रहा है। वह इसी सिलसिले में शाहगंज की ओर बोलेरो से जा रहा है। इस सूचना पर लाइन बाजार थानेदार रमेश यादव, एसओजी के प्रशांत श्रीवास्तव ने अपनी टीम के साथ जौनपुर-शाहगंज रोड पर बड़उर मोड़ के पास नाकेबंदी कर दी। उधर, सरायख्वाजा थानेदार रवींद्र श्रीवास्तव हमराहियों के साथ तरसावां मोड़ पर खड़े हो गए। तरसावां मोड़ पर सामने से आ रही बोलेरो को एसओ प्रभारी रवींद्र श्रीवास्तव ने रोकने का प्रयास किया तो बदमाशों ने 9 एमएम पिस्टल से ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। बदमाशों ने पुलिस पार्टी पर पांच फायर किए। एक गोली सिपाही अवनीश यादव के कनपटी के बगल से होती गुजरी। जवाब में थानेदार रवींद्र श्रीवास्तव ने दो फायर किए तथा सिपाही इंद्रदेव ने एक फायर किए। उधर, कुछ ही दूरी पर खड़े लाइनबाजार एसओ रमेश यादव और एसओजी के प्रशांत श्रीवास्तव ने फायरिंग शुरू कर दी। पुलिस ने चारो ओर से बदमाशों को घेर लिया। कुछ देर तक तो बदमाश बोलेरो से नहीं निकले। पुलिस ने बोलेरो को घेरकर चारो को दबोच लिया। फायरिंग से तरसावां और बड़उर गांव के आसपास के लोग दहशत में आ गए। कई राउंड फायरिंग होने के बाद लोग घरों से भी निकले लेकिन पुलिस को देख सभी वापस चले गए। बाद में पता चला कि मुठभेड़ चल रही है।
पकड़े गए बदमाशों में सरायख्वाजा थाने के ईश्वरी नेवादा निवासी 12 हजार का इनामी सचिन सिंह, फरीदाबाद निवासी वीरेंद्र यादव उर्फ कल्लू, लाइन बाजार के चौकिया निवासी रवि मौर्या तथा प्रतापगढ़ जिले की सदर कोतवाली के गोड़ें गांव निवासी पूर्व प्रधान रवींद्र सिंह शामिल हैं। इनके पास से 9 एमएम की एक पिस्टल, 30 एमएम पिस्टल, दस जिंदा कारतूस, एक पंद्रह बोर का तमंचा, एक 12 बोर का तमंचा कारतूस बरामद हुआ। एसओ रवींद्र श्रीवास्तव के मुताबिक सचिन के खिलाफ आजमगढ़, अंबेडकर नगर, जौनपुर, मुंबई में हत्या और लूट के 32 मुकदमे दर्ज हैं। पुलिस पार्टी पर हमला करने के मामले में सचिन का भाई प्रिंस पहले से जेल में है। सचिन जपटापुर में दंपती को बंधक बनाकर लूटपाट करने तथा बैजारामपुर के किराना व्यापारी अवधेश यादव की हत्या में शामिल था।
एसओ ने यह भी बताया कि सहावें गांव निवासी मोनू सिंह के घर से एक बाइक और पिस्टल बरामद की गई है। बाइक सरतपहां थाना क्षेत्र से लूटी गई थी। गिरफ्तार प्रतापगढ़ के गोड़े गांव निवासी पूर्व प्रधान रवींद्र सिंह का कहना है कि बदमाशों ने उनकी गाड़ी प्रतापगढ़ से जौनपुर आने के लिए बुक कराई थी। जौनपुर पहुंचे तो कहा कि अखंडनगर चलना है। शाहगंज में जब जाने से मना किया तो सचिन ने तमंचा लगाकर अगवा कर लिया। बाद में सभी पकड़े गए। सचिन के खिलाफ हत्या, लूटपाट और बाकी तीनों के खिलाफ पुलिस पार्टी पर हमला करने का मुकदमा दर्ज किया गया है।

Spotlight

Most Read

Lucknow

ब्राइटलैंड स्कूल में छात्र को चाकू मारने वाली छात्रा को मिली जमानत

ब्राइटलैंड स्कूल में कक्षा एक के छात्र रितिक शर्मा को चाकू से गोदने की आरोपी छात्रा को जेजे बोर्ड ने 31 जनवरी तक के लिए शुक्रवार को अंतरिम जमानत दे दी।

19 जनवरी 2018

Related Videos

कोहरे ने लगाया ऐसा ब्रेक, एक के बाद एक भिड़ीं कई गाड़ियां

वाराणसी-इलाहाबाद राजमार्ग पर गुरुवार को घने कोहरे के बीच दो एक सड़क हादसा हो गया। कोहरे की वजह से विजिबिलिटी कम होने पर एक के बाद एक चार गाड़ियां एक-दूसरे से टकरा गईं। इस हादसे में चार लोगों के घायल होने की भी खबर है।

21 दिसंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper