ठप रही निजी अस्पतालों की सेवाएं

Jaunpur Updated Tue, 26 Jun 2012 12:00 PM IST
जौनपुर। अपनी मांगों को लेकर निजी डाक्टरों ने सोमवार को अपने क्लीनिक बंद रखे। किसी भी नर्सिगिं होम तथा क्लीनिक में ओपीडी सेवाएं नहीं संचालित हुई। इमरजेंसी सेवाओं में मरीजों को देखा गया लेकिन सामान्य मरीजों के लिए सोमवार को डाक्टर उपलब्ध नही थे। डाक्टरों ने आईएमए भवन में प्रतीकात्मक धरना दिया और कलेक्ट्रेट पहुंचकर जिला प्रशासन को अपनी तीन प्रमुख मांगो से संवंधित ज्ञापन सौंपा। ओपीडी सेवा बंद रहने से अस्पतालों में इलाज कराने पहुंचे सैकड़ों लोग भटकते रहे।
इंडियन मेडिकल एसोसिएशन तथा इंडियन डेंटल एसोसिएशन ने सोमवार को एमसीआई, क्लीनिकल स्टैवलिसमेंट एक्ट, एनसीएचएच बिल के विरोध में हड़ताल का आह्वान किया था। सोमवार सुबह नर्सिगिं होम संचालकों तथा सामान्य अस्पताल चलाने वाले डाक्टर आईएमए भवन में एकत्रित हुए। इन मुद्दों पर चर्चा के बाद आईएमए भवन में प्रतीकात्मक धरना दिया। बाद में पत्रकारों से बातचीत में आईएमए के अध्यक्ष डा. राजेश श्रीवास्तव, नेत्र सर्जन डा. एनके सिंह, बाल रोग विशेषज्ञ डा. तेज सिंह, डा. क्षितिज शर्मा ने कहा कि तीनों एक्ट प्रभावी हुए तो स्वास्थ्य सेवाओं की जांच थानेदार तथा एसडीएम करेंगे। ये लोग चिकित्सीय सेवाओं के जानकार नहीं होते। रजिस्ट्रेशन तथा कानूनी दिक्कतों के साथ डाक्टरों के हाथ बंध जाएंगे। डाक्टर पुलिस और मुकदमे में जूझेंगे तो स्वास्थ्य सेवाएं आसानी से मुहैया नहीं हो पाएगी। डाक्टर किसी लफड़े से बचने के लिए गंभीर रोगियों को हाथ नहीं लगाएगा। अपनी योग्यता और क्षमता इस्तेमाल भी नहीं कर पाएगा। यह तीनों एक्ट यदि कानून बन गए तो डाक्टर मरीज से पहले खुद को सुरक्षित करने की कोशिश करेगा। उन्होंने कहा कि ऐसे कानून कतई ठीक नहीं है जो मरीज और डाक्टर के बीच दूरियां बढ़ाते हों। ऐसे कानून को कतई पारित नहीं होना चाहिए। डाक्टर्स एवं नर्सिगिं होम्स को भयमुक्त, भ्रष्टाचार मुक्त माहौल में काम करने देना चाहिए। हर डाक्टर कानूनी लफड़ों से बचने की कोशिश करेगा। जब डाक्टर मरीज से बचने की कोशिश करेगा तो अंदाजा लगाया जा सकता है कि मरीज का क्या होगा। आईएमए और आईडीए से जुड़े डाक्टरों ने तीनों कानून का सख्त विरोध किया। बाद में सभी कलेक्ट्रेट तक गए और जिला प्रशासन को ज्ञापन सौंपा। इस दौरान डा. एके सिंह, डा. एके मिश्रा, डा. अजीत कपूर, डा. एचडी सिंह, डा. वीके सिंह, डा. लालजी पटेल, डा. एचपी सिंह, डा. पीपी दुबे, डा. ए जाफरी, डा. आरपी रस्तोगी, डा. राजेश मौर्य, डा. एके सिंह, डा. आरए मौर्य, डा. आरपी यादव, डा. जीएस यादव, डा. एसएन वर्मा, डा. साबिर खान, डा. गुलाब बिंद, डा. अशोक पटेल, डा. राकेश सिंह, डा. विनय तिवारी, डा. रजनीश द्विवेदी, डा. सौरव उपाध्याय, डा. संजय वर्मा, डा. रिचर्ड ह्यूम, डा. संजीव पांडेय आदि मौजूद थे।

Spotlight

Most Read

Lucknow

राहुल गांधी के काफिले का विरोध करने पर बवाल, भाजपाइयों को कांग्रेसियों ने पीटा

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का विरोध जताने पहुंचे भाजपाइयों की कांग्रेसियों से भिड़ंत हो गई। जिसमें कांग्रेसियों ने भाजपाइयों की पिटाई कर दी।

15 जनवरी 2018

Related Videos

कोहरे ने लगाया ऐसा ब्रेक, एक के बाद एक भिड़ीं कई गाड़ियां

वाराणसी-इलाहाबाद राजमार्ग पर गुरुवार को घने कोहरे के बीच दो एक सड़क हादसा हो गया। कोहरे की वजह से विजिबिलिटी कम होने पर एक के बाद एक चार गाड़ियां एक-दूसरे से टकरा गईं। इस हादसे में चार लोगों के घायल होने की भी खबर है।

21 दिसंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper