आपका शहर Close

उपचार के इंतजार में है खस्ताहाल बसों का बेड़ा

Jalaun

Updated Mon, 27 Aug 2012 12:00 PM IST
उरई (जालौन)। उरई रोडवेज बस के बेड़े में शामिल कुल 53 बसों में से 40 प्रतिशत बसें खस्ताहाल हैं। इनमें यात्री अपनी जान जोखिम में डालकर यात्रा करते हैं। हालत यह है कि बरसात में इन बसों की छत टपकती हैं। खिड़कियों के कांच टूटे हुए हैं। इससे यात्रियों को बरसात, जाड़ा, गर्मी में दिक्कतें झेलनी पड़ती हैं। तमाम बसों की आगे व पीछे की लाइटें खराब हैं। इससे दुर्घटनाएं भी होती रहती हैं। बसों के इंजन लंबे समय से बोर नहीं हुए हैं। इससे वे ज्यादा डीजल खाते हैं। कम एवरेज के कारण चालक परिचालक को डांट खानी पड़ती है। टायर का पंचर ठीक कराने को 80 रुपए मिलते हैं। इससे ज्यादा खर्च होने पर चालक परिचालक को अपनी जेब से भरना पड़ता है।
उरई रोडवेज के बेड़े में कुल 53 बसें शामिल हैं। इनमें उरई-दिल्ली, उरई-झांसी, उरई-कानपुर, उरई-राठ सहित विभिन्न रूटों की कुल 53 बसें हैं। इनमें लगभग 40 प्रतिशत बसे ऐसी हैं जिनकी बरसात में छतें टपकती हैं, तमाम बसों की खिड़कियों में कांच नहीं है। यदि हैं भी तो प्रत्येक खिड़की में दो की जगह एक एक कांच लगे हुए हैं। इन खस्ताहाल बसों के ट्यूब अक्सर पंचर होते रहते हैं। इससे यात्रियों को तो परेशानी होती ही है, चालक परिचालक भी परेशान होते हैं।
चालक परिचालक अरविंद उल्ला, संजय कुमार सचान, रमाकांत सचान, महेश गुप्ता, अवधेश प्रताप, उदय गोपाल, धर्मेंद्र सिंह, आजाद अली, अलोक, रमेश चंद्र, आरिफ आदि ने बताया कि विभाग ने टायर का पंचर सुधरवाने के लिए 80 रुपए निर्धारित कर रखा है। अब एक सौ पच्चीस रुपए में पंचर जोड़े जाते हैं। 80 रुपए के बाद जितना भी ज्यादा लगता है वह चालक परिचालक को अपनी जेब से देना पड़ता है। उन्होंने कहा कि यात्रियों को अलग से परेशानी होती है।
उन्होंने बताया कि खस्ताहालत बसों की आगे और पीछे की लाइट भी खराब हैं जिससे कई बार वाहन दुर्घटनाएं भी रात में होती रहती हैं। उन्होंने कहा कि तमाम बसों के इंजन लंबी दूरी तय करने के लिए अभी तक बोर नहीं हुए। इससे बसें बीच रास्ते में खड़ी हो जाती है। पुराने इंजन की वजह से विभागीय मानक प्रतिलीटर साढ़े पांच किलोमीटर का ऐवरेज नहीं दे पाती हैं। इससे चालकों को उल्टी डांट खानी पड़ती है।
इस बाबत उरई डिपो कार्यशाला के फौरमैन एन के सुमन स्वीकार करते हैं कि तमाम बसे ऐसी हैं जो काफी खराब हैं। उनको सुधरवाने का प्रयास होता रहता है। टपकती छतों में एमसील आदि लगाया जाता है। चाहे रबरिंग टायर हो या अन्य समान जो स्टोर में उपलब्ध होता है दे दिया जाता है। बाकी जो अन्य सामान की जरूरत होती है उसके लिए आरएम झांसी को विभागीय पत्र लिखकर सूचित कर दिया जाता है।
Comments

Browse By Tags

buses fleet

स्पॉटलाइट

सर्दियों में ट्रेडिंग है ओवरकोट, हर ड्रेस के साथ इन सेलिब्रिटीज की तरह कर सकते हैं मैच

  • सोमवार, 11 दिसंबर 2017
  • +

ग्रेजुएट उम्मीदवारों के लिए सिस्टम ऑफिसर बनने का मौका, ऐसे करें अप्लाई

  • सोमवार, 11 दिसंबर 2017
  • +

रोज रात में लकड़बग्घे को दावत पर बुलाता है ये शख्स, फिर करता है ऐसा काम

  • सोमवार, 11 दिसंबर 2017
  • +

B'Day Spl: दिलीप कुमार की हरकत से परेशान होकर सेट से भागी थी ये हीरोइन, उम्र भर रहा पछतावा

  • सोमवार, 11 दिसंबर 2017
  • +

प्रोड्यूसर ने नहीं मानी बात तो आमिर खान ने छोड़ दी फिल्म, अब ये एक्टर करेगा 'सैल्यूट'

  • रविवार, 10 दिसंबर 2017
  • +

Most Read

जब 'गोलगप्पा बना काल', तड़प-तड़पकर टूट गईं नरेश की सांसें

Death by eating Panipuri
  • गुरुवार, 7 दिसंबर 2017
  • +

CM योगी की तस्वीर से सांकेतिक विवाह करने वाली महिला पर देशद्रोह का केस, 14 दिन जेल

woman who did marriage with yogi adityanath pic sent to jail.
  • रविवार, 10 दिसंबर 2017
  • +

स्कूल में चढ़ा भगवा रंग देख भड़कीं डीएम शीतल वर्मा, तुरंत पुतवाया सफेद

district magistrate scold principal on panting school with Saffron color
  • रविवार, 10 दिसंबर 2017
  • +

...और एक फरिश्ते ने उठा ली बच्चों की जिंदगी संवारने की जिम्मेदारी, दिलचस्प मामला

a man ready to bear responsibility of punjab village childrens
  • सोमवार, 11 दिसंबर 2017
  • +

मोदी के सवाल पूछने पर भड़के तेजस्वी, जमकर निकाली भड़ास

Tejashwi yadav attacked sushil modi on twitter
  • रविवार, 10 दिसंबर 2017
  • +

जम्मू-कश्मीर में फिर आया भूकंप, रिक्टर स्केल पर तीव्रता रही 4.5 

Earthquake of magnitude 4.5 occurred in Jammu & Kashmir at 04:28 am
  • सोमवार, 11 दिसंबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!