विज्ञापन

सूखे की आशंका से अन्नदाता की धुकधुकी बढ़ी

Jalaun Updated Tue, 03 Jul 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
उरई (जालौन)। बुंदेलखंड के किसानों से शायद उनकी किस्मत रुठ गई है। वर्ष 2000 से 2005 तक सूखे का दंश झेल चुके किसानों के दिलों की धड़कनें जुलाई शुरू होेने के बाद बारिश न होने से तेज हो गई हैं। अन्नदाता आसमान की ओर निहार रहे हैं, लेकिन आसमान से एक बूंद भी नहीं बरस रही है।इससे जिले में करीब 75 हजार हेक्टेयर भूमि खाली पड़ी है। अगर जल्द बारिश नहीं हुई तो किसान के हाथ से खरीफ की फसल जाती रहेगी।
विज्ञापन
विज्ञापन
बुंदेलखंड की कृषि भूमि का लगभग 80 प्रतिशत भाग वर्षा पर आधरित है, लेकिन अब तक इंद्रदेव की कृपा
किसानों पर नहीं हुई है। आसमान से बरसती आग ने किसानों के मंसूबों पर पानी फेर दिया है। जिले के डकोर, माधौगढ़, रामपुरा, नदीगांव और कदौरा विकासखंड में किसान बस यही दुआ कर रहे हैं कि अब तो मेघ बरस जाएं। निकाय चुनाव के दौरान जब संवाददाता ने क्षेत्र का दौरा किया तो किसानों का दर्द उभर कर सामने आया। बोहदपुरा के किसान मुकेश चौहान ने बताया वह हर वर्ष खरीफ की फसल पैदा करता थे तथा सब्जी की फसल भी तैयार करते थे। इससे परिवार का भरण पोषण ठीक ढंग से हो जाता था, लेकिन इस वर्ष पूरी जमीन बंजर पड़ी है। अब कहां से गृहस्थी का खर्च चलेगा। यही चिंता उसे सता रही है। यही नहीं कोंच क्षेत्र के अंडा गांव के यशराम द्विवेदी, राजकुमार कौशिक और आनंद स्वरुप कौशिक आदि किसानों ने बताया उनकी मैंथा की फसल पानी के अभाव में सूख रही है। अगर पानी न बरसा तो अन्नदाता ही भुखमरी की कगार पर होगा। उधर रामपुरा एवं कुठौंद क्षेत्र के लहुसीमांत कृषक राजेंद्र कुमार आदि ने बताया अगर बारिश न हुई तो उन्हें रोजगार की तलाश में प्रदेश से बाहर पलायन करना पड़ेगा। सूखे की विभीषिका की आशंका से अन्नदाता परेशानी में है। उन्हें चिंता सता रही है अगर खरीफ की फसल की बुवाई न हो पाई तो वह रबी की फसल के लिए खाद -बीज कहां से जुटाएंगे। कर्ज में डूबे बोहदपुरा निवासी किसान लाखन सिंह ने दो दिन पूर्व सल्फास खाकर आत्महत्या कर ली थी।
इंद्रदेव को खुश करने के लिए परेशान किसान अब टोने- टोटे करने लगे है जिससे किसी तरह बारिश हो जाए। कुकरगांव के पूर्व प्रधान आनंद दुबे ने बाकायदा इंद्रदेव को मनाने के लिए साथियों के साथ हवन- पूजन किया। उधर कई अन्य गांवों में भी ग्रामीणों के पूजा- अर्चना और टोने टोटका किए जाने की खबर है।
कृषि वैज्ञानिक डा.राजीव सिंह ने बताया पांच से 20 जुलाई तक खरीफ की फसल की बुवाई होती है। अगर बारिश शुरु हो जाए तो अभी कुछ देर नहीं हुई है। किसान उन्नत किस्म की मूंग और कुम्हड़े की बुवाई का मुनाफा कमा सकते हैं।

Recommended

सवाल करियर का हो या फिर हो नौकरी से जुड़ा, पाएं पूरा समाधान जाने-माने ज्योतिषी से
ज्योतिष समाधान

सवाल करियर का हो या फिर हो नौकरी से जुड़ा, पाएं पूरा समाधान जाने-माने ज्योतिषी से

आप भी बन सकते हैं हिस्सा साहित्य के सबसे बड़े उत्सव "जश्न-ए-अदब" का-  यहाँ register करें-
Register Now

आप भी बन सकते हैं हिस्सा साहित्य के सबसे बड़े उत्सव "जश्न-ए-अदब" का- यहाँ register करें-

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Kanpur

यूपी: सपा 37 और बसपा 38 सीटों पर लड़ेगी चुनाव, कानपुर समेत आसपास के जिलों की देखिए लिस्ट

लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी ने सीटों की लिस्ट जारी कर दी है। इस लिस्ट के अनुसार, समाजवादी पार्टी 37 सीटों पर और बसपा 38 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ेगी।

21 फरवरी 2019

विज्ञापन

पुलवामा में हुए आतंकी हमले पर मुस्लिम समुदाय ने की ये मांग

जम्मू कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के जवानों पर हुए आतंकी हमले का जालौन में मुस्लिम समुदाय ने तीखा विरोध किया है।

16 फरवरी 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree