बुंदेली बुकनू ने मचाई अमेरिका में धूम

Jalaun Updated Mon, 04 Jun 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
उरई (जालौन)। पैसा नहीं नाम कमाने के लिए कृपाशंकर मिश्रा ने किया था बुकनू बनाने का धंधा शुरू करने का फैसला। खादी ग्रामोद्योग बोर्ड से दस हजार का कर्ज लेकर शुरू किया गया कारोबार वक्त के साथ ऐसा चमका कि कृपाशंकर मिश्रा की जिंदगी ही बदल गई। उनके स्वादिष्ट और पाचक बुंदेली बुकनू ने उन्हे पैसे के साथ शोहरत भी दिलाई। मिश्रा दंपति के हाथ का बना बुंदेल बुकनू जिले की सरहदों को पार कर अमेरिका में भी धूम मचा चुका है।
खादी ग्रामोद्योग बोर्ड से लिए गए दस हजार के ऋण ने कृपाशंकर मिश्रा और उनकी पत्नी श्रीमती कुसुम मिश्रा को जीवन की नई राह 38 वर्ष पहले ही दिखा दी थी। गरीबी की उबड़-खाबड़ राह पर जिंदगी के सफर की शुरूआत करने वालेकृपाशंकर मिश्रा के पास न तो खेती के लिए जमीन थी और न रोजगार का कोई और जरिया। लेकिन उनके पास पेट की तकलीफ दूर करने वाले खानदानी फार्मूलों की जानकारी जरूर थी। हिम्मत के बूते उन्होने वर्ष 72-73 में बुकनू बनाना शुरु किया तो लोगों को इससे फायदा हुआ। लेकिन उस वक्त उनके पास इतना पैसा नहीं था कि वह इसका बडे़ पैमाने पर कारोबार कर सकें। वर्ष 89 में उरई में तैनात खादी ग्रामोद्योग बोर्ड के तत्कालीन अधिकारी अरुण अवस्थी भी उनके बुंदेली बुकनू के मुरीद बन गए। एकदिन अरुण अवस्थी ने बुंदेली बुकनू की तारीफ करते कृपाशंकर मिश्रा ने कहा यदि वह चाहें तो इसका बड़े पैमाने पर कारोबार करने के लिए कम ब्याज पर कर्ज ले सकते हैं। इसके लिए उन्हे महज प्रोजेक्ट बना कर आवेदन करने की औपचारिकता पूरी करनी होगी। जल्द ही दस हजार रुपए का ऋण स्वीकृत हो गया। कृपाशंकर मिश्रा बुंदेली बुकनू के स्टाल कलेक्ट्रेट व जिला न्यायालय परिसर में लगाने लगे। धीरे-धीरे बुंदेली बुकनू की प्रसिद्धि इतनी बढ़ी कि जिले में जो भी अधिकारी आया इसका मुरीद हो गया। धीरे धीरे कृपाशंकर मिश्रा भी बुकनू वाले मिश्रा के नाम से प्रसिद्ध हो गए। उनके उत्पाद की मशहूरी सात समुंदर पार अमेरिका तक पहुंच गई। बुंदेली बुकनू के मुरीद अमेरिका में बसे अप्रवासी भारतीयों के उनके पास आर्डर आने लगे। करीब सौ अप्रवासी भारतीयों को कोरियर के जरिये बुकनू के पैकेट पहुुंचाने की व्यवस्था कृपाशंकर मिश्रा ने की।
जब उनका बडे़ पैमाने पर बुकनू का व्यापार चल निकला तो उन्होंने अपने और पत्नी श्रीमती कुसुम मिश्रा के नाम से खादी ग्रामोद्योग बोर्ड में फर्म दर्ज करवा कर आंवला जूस, मुरब्बा बनाना शुरु किया। उनका यह कारोबार भी चल निकला। अपने कारोबार के बूते दो बेटियों की शादी करने के साथ मकान बनवा चुके कृपाशंकर मिश्रा अब 86 वर्ष के हैं। सेहत के साथ न देने से एक वर्ष पहले उन्होंने अपना स्टॉल बंद कर दिया। अब वह अपने घर में जीवंतता कायम रखने के लिए कुटीर उद्योग चला रहे हैं। उनके दर्द यह है शासन ने इस व्यवसाय को वैसा प्रोत्साहन नहीं दिया जैसा उत्तराखंड में मिल रहा है। श्री मिश्र बताते हैं कुटीर उद्योग के सफल संचालन का राज्य स्तरीय पुरुस्कार उन्हें इसलिए नहीं मिल पाया क्योंकि वह वाणिज्य कर विभाग में पंजीकृत नहीं थे। उन्होंने जिद में अपनी फाइल शासन को नहीं भिजवाई कि जब प्रदेश सरकार व्यवसाय को प्रोत्साहित करने को तैयार नहीं है तो कागजी खानापूरी का क्या मतलब। उधर जिला खादी ग्रामोद्योग अधिकारी सुनील त्यागी कहते हैं सन इंडिया फार्मेसी का डकोर जैसे छोटे गांव में शैम्पू का उत्पाद व मिश्रा जी का बुकनू जिले में खादी ग्रामोद्योग बोर्ड की उपलब्धियों का प्रतीक है।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Agra

थ्रेसर में फंसकर किसान की दर्दनाक मौत, शव देखकर कांप गई लोगों की रूह

फिरोजाबाद जिले के गांव किशनपुर में मंगलवार सुबह को दर्दनाक हादसा हो गया। यहां एक किसान की थ्रेसर में फंसने से मौत हो गई।

19 जून 2018

Related Videos

एटा हाईवे पर भीषण सड़क दुर्घटना, दिल दहलाने वाला मंजर

एटा हाईवे पर एक भयंकर सड़क दुर्घटना हो गई। हाईवे पर पहले से खराब खड़े ट्रक में पीछे की ओर से आ रहे बेकाबू डीसीएम ने जोर की टक्कर मारी। दुर्घटना में डीसीएम चालक की मौके पर ही मौत हो गई।

6 जून 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen