सबने मन में ठाना है, बेटी को बचाना है

Hathras Updated Sat, 25 Jan 2014 05:44 AM IST
हाथरस। ‘अमर उजाला’ की अनूठी पहल ‘बेटी ही बचाएगी’ महाअभियान के महत्वपूर्ण पड़ाव पर पहुंचने पर पूरा शहर ही नहीं, बल्कि आसपास के कस्बों में भी बेटी के हक में शपथ लेने के लिए लोगों में विशेष उत्साह और जोश देखा गया। हर तरफ ‘बेटी ही बचाएगी’ का नारा बुलंद होता रहा। शहर और कस्बों की शिक्षण संस्थानों में जहां शपथ ग्रहण समारोह हुआ, वहीं गोष्ठी आयोजित कर छात्राओं ने बेटी के हक में अपने विचार रखे और काव्य पाठ भी किया। हर जगह देश में तेजी से कन्याओं की संख्या घटने पर चिंता व्यक्त की गई। महिला, पुरुष और छात्र-छात्राओं ने बेटी ही बचाएगी के शपथ पत्र भरने के साथ यह भी संकल्प लिया कि बेटी के हक में वह अपने अलावा अन्य लोगों को भी जागरूक करेंगे। अमर उजाला की इस मुहिम की हर किसी ने मुक्त कंठ से सराहना की। सेकसरिया इंटर कॉलेज में प्रधानाचार्य रामप्रकाश शर्मा के नेतृत्व में शपथ ग्रहण समारोह हुआ। समारोह से पूर्व कॉलेज के पूरे स्टाफ ने ‘बेटी ही बचाएगी’ के शपथ पत्र भरे। प्रधानाचार्य आरपी शर्मा ने कहा कि बेटी परिवार के लिए बहुत महत्वपूर्ण होती है। बिना बेटी के परिवार अधूरा है। भ्रूण हत्या पर रोक लगाने के लिए शासन-प्रशासन और प्रधानमंत्री को सख्त कदम उठाने होंगे। भ्रूण हत्या की घटनाओं पर अंकुश लगेगा तो बेटियों की संख्या में इजाफा होगा। देश में कन्याओं की संख्या लगातार कम होना एक बहुत गंभीर बात है। शपथ ग्रहण समारोह में कॉलेज में पढ़ने वाले सभी छात्र-छात्राओं को बेटी के हक में शपथ दिलाई गई। इस अवसर पर राजीव गोस्वामी, सुरेंद्र पाल सिंह, चंद्रप्रकाश, रेनू कुमारी, तरुण गौतम, राजेंद्र शर्मा, राजन कुमार वर्मा, राकेश वर्मा, सत्यपाल सिंह, महेशचंद्र, बैनीराम, प्रेम सिंह, विपिन अग्निहोत्री, दीन दयाल शर्मा, उपदेश उपाध्याय, वीरेंद्र सिंह, अनुराग वार्ष्णेय सहित बड़ी संख्या में शिक्षक और छात्र-छात्रा मौजूद थे।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: बच्चों के झगड़े में बड़ों ने यहां निकाली लाठियां

हाथरस में दो पक्षों के बीच जमकर लाठियां चलीं। दोनों पक्षों ने एक दूसरे पर खूब लाठियां भांजी । जिसके हाथ में जो आया उससे एक दूसरे को खूब पीटा। बच्चों को लेकर ये झगड़ा हुआ।

19 जनवरी 2018