टीचरों की अस्मत पर शोहदों की कुदृष्टि!

Hardoi Updated Tue, 11 Sep 2012 12:00 PM IST
‘टीचरें ग्रामीण क्षेत्रों में अपनी जान और अस्मत खतरे में डालकर शिक्षण कार्य कर रही हैं। हालांकि कुछ की जुगाड़ से नौकरी चल रही, उन्हें तो किसी भी बात का खतरा नहीं, पर बहुत सी टीचरें ऐसी हैं जो रोजाना स्कूल जाकर शिक्षण कार्य करती हैं। कुछ तो सुबह पांच बजे घर से निकलीं और शाम पांच बजे तक घर पहुंचती। जो काम करना नहीं चाहतीं उन्हें तो कोई खतरा नहीं है, पर जो कार्य के प्रति समर्पित हैं, उनके सामने परेशानी आ रही हैं। सोमवार की सुबह हुई घटना पहली नहीं है, इससे पहले भी कई घटनाएं हो चुकीं। टीचरों में इनको लेकर आक्रोश बढ़ता जा रहा है। बहुत से ऐसे स्कूलों में टीचरें तैनात हैं, जिन्हें रोजाना तीन से चार किलोमीटर पैदल सुनसान रास्ते पर चलना पड़ता है। उनका कहना है कि उन्हें सुरक्षित स्थान पर तैनात किया जाए तो वह अपनी ड्यूटी करने में पीछे नहीं हैं। कछौना क्षेत्र में सोमवार की सुबह पैदल स्कूल जा रही टीचर को सुनसान स्थान पर बदमाश ने बुरी नियत से पकड़ लिया। टीचर के शोर मचाने पर लोग दौड़े तो बदमाश टीचर का मोबाइल और रुपए लेकर भाग गया। टीचर की तहरीर पर पुलिस ने छेड़छाड़ करने की रिपोर्ट दर्ज कर कार्रवाई तो शुरू कर दी है, पर महिलाओं की जिले में आबरू सुरक्षित नहीं है।’
हरदोई। कछौना विकास खंड के प्राथमिक विद्यालय कामीपुर में तैनात टीचर शकुंतला (काल्पनिक नाम) लखनऊ गोमतीनगर की रहने वाली हैं। वह रोजाना लखनऊ से स्कूल पढ़ाने आती हैं। सोमवार की सुबह वह गोहाटी एक्सप्रेस से बालामऊ जंक्शन पर उतरने के बाद रिक्शे से कछौना चौराहा आई। वहां पर उसे संडीला के एक स्कूल की बच्चों को लेने जा रही बस मिल गई। टीचर बस में सवार होकर पेट्रोल पंप के पास नाले तक पहुंची। जिसके बाद कोई साधन न होने से पैदल ही स्कूल की ओर जा रही थी, तभी घटना हो गई।
पूरे जिले में देखा जाए तो कहीं न कहीं पर महिलाएं शोहदों और बदमाशों का शिकार हो ही जाती हैं, कुछ ऐसी होती है कि जानकारी किसी को नहीं देती और कुछ ऐसी होती हैं, जो पुलिस तक पहुंच जाती हैं, पर शोहदों पर लगाने को पुलिस भी हाथ पर हाथ धरे बैठी है। कभी पुलिस के मुखिया ऐसी हरकतों पर लगाम लगाने के लिए शोहदों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की बात करते हैं, तो कभी कहते हैं शोहदों की अब खैर नहीं, पर शोहदे निरंकुश होकर अपनी हरकतों को पुलिस के नाक के नीचे कर खुली चुनौती दे देते हैं। ऐसा ही कुछ इस टीचर के साथ हुआ और शोहदे ने सुनसान स्थान देख पीछे से टीचर का मुंह दबाकर पकड़ लिया और खेतों की ओर घसीटकर ले जाने लगा।
घबराई टीचर ने शोहदे से अपने पास मौजूद नगदी, मोबाइल आदि लेकर छोड़ने की गुजारिश की। शोहदा अपने मंसूबे में सफल होता, उससे पहले टीचर ने शोर मचा दिया, जिससे खेतों में काम कर रहे लोग दौड़ पड़े और शोहदा टीचर की नगदी और मोबाइल लेकर फरार हो गया। ग्रामीणों ने टीचर को स्कूल तक पहुंचाया। इसके बाद टीचर ने प्रधान रामलखन व स्कूल स्टाफ को घटना की जानकारी दी। इसके बाद भारी संख्या में टीचर जमा हुए और एसओ अल्ताफ अंसारी मौके पर पहुंचे। सीओ संडीला सुखलाल भारती ने भी घटना स्थल का निरीक्षण किया और टीचर की तहरीर पर छेड़छाड़ की रिपोर्ट दर्ज की है, पर इसके बाद खौफ के साये में जी रहीं टीचरों की पीड़ा किसी न किसी को सुननी होगी, जिससे बेखौफ होकर बच्चों को वो पढ़ा सकें।
इंसेट---
केस 1-भरावन विकास खंड में तैनात दो टीचरें उन्नाव से रोजाना स्कूल पढ़ाने आतीं थीं। एक वर्ष पहले एक दिन स्कूल आते समय उन्हें कोई साधन नहीं मिला तो दोनों पिकप पर बैठकर स्कूल आ रहीं थीं। डाला चालक ने बुरी नीयत से तेजी से डाला लेकर भागा, पर दोनों टीचरों ने तेज गति से भाग रहे डाले से कूदकर खुद को बचाया, जिससे दोनों गंभीर रूप से घायल भी हो गईं थीं।
केस 2-हरपालपुर विकास खंड में तैनात टीचरें पलिया मार्ग पर स्कूटी से आती जाती थीं। जनवरी में रास्ते में शोहदों ने उन्हें घेर लिया। टीचरों ने स्कूटी भगाई, तो बाइक सवार शोहदों ने स्कूटी में टक्कर मार कर गिरा दिया। दोनों टीचरों ने सामना किया और शोर मचाया तो बाइक सवार भाग गए।
इंसेट---
अब इनकी सुनो---
‘शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष शिवशंकर पांडेय ने टीचर का सुरक्षित स्थान पर स्थानांतरण व दो दिन के अंदर आरोपी की गिरफ्तारी न होने पर स्कूल में तालाबंदी की चेतावनी दे दी। कहा, अगर आरोपी गिरफ्तार नहीं हुआ तो सभी टीचर कार्यबहिष्कार कर बीआरसी पर धरना देंगे, जो पूरे जिले होगा।’
इंसेट---
बोले, प्रभारी एसपी
‘प्रभारी एसपी राकेश शंकर का कहना है कि जिन सुनसान मार्गों पर टीचरों का ज्यादा आना जाना है, वहां पर सुबह स्कूलों में जाने और छुट्टी के बाद लौटने के समय पुलिस मौजूद रहेगी। कभी बाइक तो कभी जीप और कभी पैदल पुलिस कर्मी गश्त करेंगे। सादे कपड़ों में भी पुरुष-महिला पुलिस कर्मी लगाए जाएंगे, जो अभियान चलाकर मार्गों पर आवारागर्दी करने वालों को चिह्नित कर कार्रवाई करेंगे। इसमें पुलिस मुखबिरों की भी मदद ली जाएगी, जो ग्रामीण क्षेत्रों में आवारागर्दी करने वाले लोगों की जानकारी देंगे।’
इंसेट---
ऐसे लोगों का सामाजिक बहिष्कार होना चाहिए
गौसगंज। जो समाज बनाने का काम करती हैं, उनके साथ ऐसी घटनाओं की लोगों ने निंदा की है। छात्र प्रांजल का कहना है कि जो बच्चों को पढ़ाता है, उनके साथ ऐसा नहीं होना चाहिए। प्रधानाध्यापिका शशिकि रण का कहना है कि वह लोग तो घर और समाज की स्थापना करती हैं। नेत्र चिकित्सक डॉ. प्रदिता का कहना है कि जो महिला कर्मचारी या अधिकारी के साथ बुरा बर्ताव करे उस पर कार्रवाई की जाए। पप्पू सिंह टीचरों के साथ बुरा बर्ताव करने वालों का सामाजिक बहिष्कार की बात कह रहे हैं। आफाक का कहना है कि जो महिलाओं को कुदृष्टि से देखे, उसे पुलिस दंड दे ही, सामाजिक दंड भी दिया जाना चाहिए।

Spotlight

Most Read

Madhya Pradesh

MP निकाय चुनाव: कांग्रेस और भाजपा ने जीतीं 9-9 सीटें, एक पर निर्दलीय विजयी

मध्य प्रदेश में 19 नगर पालिका और नगर परिषद अध्यक्ष पद पर हुए चुनाव में कांग्रेस और भाजपा के बीच कड़ा मुकाबला देखने को मिला।

20 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी में कोहरे का कहर जारी, ट्रक और कार की टक्कर में तीन की मौत

कन्नौज के तालग्राम में आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे पर कोहरे के चलते एक भीषण सड़क हादसा हो गया। कोहरे की वजह से पीछे से आ रही कार के चालक को सड़क पर खड़ा ट्रक  नजर नहीं आया और उनमें कार जा टकराई। हादसे में तीन की मौत हो गई।

10 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper