हर आठ घंटे में बिखर रहा एक परिवार

Hardoi Updated Mon, 10 Sep 2012 12:00 PM IST
‘आपसी तालमेल और विश्वास में कमी से परिवार बिखरते जा रहे हैं। सात जन्मों तक साथ निभाने का वचन देकर जीवन की राह पर चलने वाले हम सफर टूट रहे हैं। पति-पत्नी के बीच में ‘वो’ रिश्तों को दीमक की तरह चाट रहा है। कहीं परिवार से तो कहीं दहेज तो आपसी विश्वास में कमी परिवारों को तोड़ रही है। जिले में दिनों दिन बिखरने वाले परिवारों की संख्या बढ़ती जा रही है। औसतन रोजाना 3 परिवार टूट रहे हैं। जिला व परिवार परामर्श केंद्र पर रोजाना आने वाली शिकायतें गवाही दे रही हैं। परामर्श केंद्र टूट रहे परिवारों के बीच सेतु बनकर उन्हें जोड़ने का काम कर रहा है। जून, जुलाई और अगस्त में करीब 290 परिवार टूटने के मामले सामने आए। इस प्रकार एक दिन में तीन और आठ घंटे में एक परिवार टूट रहा है। परिवार परामर्श केंद्र ने 160 उजड़े घरों को फिर बसा भी दिया। बिखर रहे परिवारों के पीछे समाजशास्त्री प्रोफेसर नरेश चंद्र शुक्ला भौतिक संसाधनों और ईगो को कारण बता रहे हैं। कई मामलों में पत्नी की पति से अपेक्षा ज्यादा होती है, पर वह पूरी नहीं कर पाता। उससे विवाद उत्पन्न होता है। तो कभी कभी पति पत्नी दोनों काम करते हैं, कौन काम करेगा और कौन परिवार संभालेगा इसको लेकर भी विवाद होता है।’
हरदोई। गीता और रक्षपाल के बीच हुए विवाद में दोनों अलग-अलग रहने लगे और बच्चों का बंटवारा कर लिया। रक्षपाल ने पांच वर्षीय पुत्र विनय को अपने पास रख लिया, तो गीता ने तीन वर्षीय पुत्री मोहिनी को रख लिया। एक से मां का आंचल छिन गया तो दूसरे से पिता का साया। यही हाल हुसनबानो और मुन्ना के बीच है। यह दो मामले को महज उदाहरण मात्र है। पुलिस अभिलेखों के अनुसार हर माह आने वाली शिकायतों में करीब 60 फीसदी में यही होता है। कहीं एक बच्चा पिता के पास रहता है, तो कहीं एक बच्चा मां के पास। माता-पिता के विवाद और लड़ाई बच्चों को भी बांट रही है।
केस-1-शहर के छोटा चौराहा निवासी रेखा प्राथमिक स्कूल में टीचर हैं। करीब चार वर्ष पूर्व उनकी शादी शाहाबाद के चौक निवासी राधेश्याम बाजपेई के साथ हुई थी। राधेश्याम शैक्षिक बेरोजगार थे और बाद में राधेश्याम का आयोग से चयन हो गया और वह इंटर कालेज में टीचर बन गया। दोनों की नौकरी क्या लगी, परिवार बिखरना शुरू हो गया। दोनों न केवल अलग-अलग रहने लगे, बल्कि मुकदमा भी दर्ज करा रखा है।
केस-2-पिहानी क्षेत्र के महेता निवासी रक्षपाल की शादी आठ साल पहले हरनीकला निवासी भन्नूलाल की पुत्री गीता के साथ हुई थी। दोनों के दो बच्चे भी हैं, पर दो वर्ष से उनके बीच अनबन शुरू हो गई। गीता को सास की बात बुरी लगने लगी। अलग घर बसाने का दबाव बनाया, रक्षपाल ने मना किया तो विवाद शुरू हो गया और दोनों अलग रहने लगे। परिवार परामर्श केंद्र उनका विवाद सुलझाने का प्रयास कर रहा है।
केस-3-शाहाबाद के मौलागंज निवासी अतीक की पुत्री हुसनबानो की शादी चार वर्ष पहले महरेहता निवासी मुन्ना से हुई थी। हुसनबानो के दो बच्चे भी हैं। उसे बस अपने पति का भाभी से मजाक करना तक बुरा लगने लगा। उसका कहना है कि पति परिवार का ध्यान देते, उसका नहीं और वह मायके में रहने लगी। मामला पुलिस तक पहुंचा और पुलिस अब मामले को सुलझाने की कोशिश कर रही है।
इंसेट---
परिवार परामर्श केंद्र ने जोड़े 160 परिवार
हरदोई। पिछले दो वर्ष से अलग रह रहे भगौतापुर की रामा और रामपुर सराय के बृजेश साथ रहने को राजी हो गए। दोनों मिले तो गिले शिकवे दूर हुए और बृजेश ने फिर रामा को अपने हाथों से मंगलसूत्र पहनाया, तो मारे खुशी से उसके आंसू निकल आए।
रविवार को पुलिस लाइन में एएसपी राकेश शंकर, सीओ सिटी राजेश कुमार व समिति के सदस्य नरेश गोयल, वकील त्रिलोकी सिंह गौर, संजीव श्रीवास्तव, महिला सिपाही लखपत वर्मा की मौजूदगी में 15 मामले सुने गए, जिसमें पांच का सुलह समझौता करवा कर पुलिस लाइन से ही विदाई करवा दी गई। वहीं 10 मामलों में सुनवाई को अगले रविवार को बुलाया गया। महिला थाना व महिला सेेल के आंकड़ों के अनुसार तीन माह में आईं शिकायतों में अभी तक 160 जोड़ों को साथ रहने को राजी कर उनके बिखर रहे परिवार को जोड़ दिया गया। बिछुड़ने का दर्द क्या होता है, यह तीन वर्ष से अलग रह रहे और पिछले रविवार को साथ साथ रहने को राजी हुए सब्जी मंडी निवासी विमलेश और माला ने बताया। दोनों का कहना था कि आपसी गलतफहमी ने उन्हें तोड़ा था, पर वह दूर हो गईं तो अब वह जुड़ गए हैं और अब कोई उन्हें तोड़ नहीं पाएगा।
इंसेट
परिवार परामर्श केंद्र में करें शिकायत
हरदोई। परिवार परामर्श केंद्र पति-पत्नी की आपसी दूरी को मिटाकर उन्हें साथ रहने को राजी करने का काम कर रहा है। केंद्र में सुनवाई को कोई भी पीड़ित पति या पत्नी, एसएसपी, एएसपी, सीओ या महिला थाने पर शिकायत दर्ज करा सकता है। शिकायत पर संबंधित थाना पुलिस से उसे परामर्श केंद्र पर बुलाया जाएगा और उनकी बीच वार्ता, समझाकर उन्हें साथ रहने को राजी किया जाता है।
इंसेट---
बोले, प्रभारी एसपी
‘प्रभारी एसपी राकेश शंकर का कहना है कि पति-पत्नी के बीच अगर विश्वास की डोर मजबूत हो जाए तो कोई भी उनके प्यार को तोड़ नहीं सकता। पत्नी को विश्वास होना चाहिए कि उसके पति के और रिश्ते, मां, भाई, भाभी और बहन आदि भी हैं और उनका भी उसे धर्म निभाना है। वहीं पति को चाहिए कि पत्नी उसकी जिंदगी का अहम हिस्सा है और उनके बीच ऐसा गठबंधन है, जो अगर टूटा तो गांठ जरूर पड़ती है, इसलिए दोनों को चाहिए कि आपसी तालमेल और विश्वास में कमी न आने दें।’

Spotlight

Most Read

Varanasi

मतदाता पुनरीक्षण में लापरवाही, चार अफसरों को नोटिस

मतदाता पुनरीक्षण में लापरवाही, चार अफसरों को नोटिस

19 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी में कोहरे का कहर जारी, ट्रक और कार की टक्कर में तीन की मौत

कन्नौज के तालग्राम में आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे पर कोहरे के चलते एक भीषण सड़क हादसा हो गया। कोहरे की वजह से पीछे से आ रही कार के चालक को सड़क पर खड़ा ट्रक  नजर नहीं आया और उनमें कार जा टकराई। हादसे में तीन की मौत हो गई।

10 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper