विज्ञापन
विज्ञापन

दूसरा अशरा-ए-मगफिरत शुरू

Hardoi Updated Wed, 01 Aug 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
पिहानी (हरदोई)। इबादताें और दुआओं के बीच रमजान शरीफ के पहला अशरा मुकम्मल हो गया और दूसरे अशरे की शुरुआत हो गई। रमजान के इस दूसरे अशरे को मगफिरत का अशरा कहा जाता है। इस पूरे अशरे में अपनी मगफिरत (गुनाहों से माफी) की तमन्ना के साथ रोजेदार अल्लाह की इबादत में लगे हुए हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन
माहे मुबारक में अधिकांश मसजिदों में नमाजे तरावीह के दौरान कुरान शरीफ मुकम्मल हो जाएगा। यह सिलसिला तीसरे अशरे तक जारी रहेगा। रमजान शरीफ को 10-10 दिनों के अलग-अलग भागों में विभाजित किया जाता है। हर भाग को अशरा कहा जाता है। अशरा 10 दिन को कहते हैं। रमजान का पहला अशरा रहमत का कहा जाता है। सोमवार की शाम अशरा-ए- रहमत की तकमील हो गई। इसके साथ ही रमजान के दूसरे अशरे ‘अशरा-ए- मगफिरत’ का आगाज हो गया। इस पूरे अशरे में रोजेदार गुनाहों पर शर्मिंदा होकर अल्लाह से माफी मांग रहे हैं। मासूम बच्चे भी अल्लाह के हुजूर गिड़गिड़ा रहे हैं।
बुजुर्ग रोजेदार गुनाहों पर माफी को आंसुओं से तर कर खुदा के आगे माफी की भीख तलब कर रहे हैं। रहमत, बरकत, मगफिरत और जहन्नुम से आजादी का पैगाम लाने वाले माहे रमजान में मुसलमानों में रोजा नमाज के साथ ही जकात और सदके की अदायगी के साथ नेकियां कमाने की जद्दोजहद में लग गए हैं। चूंकि रमजान माह में अल्लाह ने हर एक नेकी का बदला सत्तर गुना बढ़ाकर देने का वादा किया है, इसलिए मुसलमानों के बीच इस ज्यादा से ज्यादा नेकियां कमाने की होड़ लगी रहती है। जकात भी इसलाम के पांच बुनियादी अकीदों में से एक है। यह अहम इबादत साल में एक बार हर साहिबे हैसियत मुसलमान पर फर्ज है।
एक निश्चित माल की हैसियत रखने वाले मुसलमान पर फर्ज है कि वह अपने माल का एक निर्धारित हिस्सा गरीब, यतीम, बेवा और बेसहारा लोगों पर खर्च करें। जकात उन्हीं को देने से अदा होती है, जो वास्तविक पात्र हैं। यह एक ऐसा इसलामी निजाम है, जिससे गरीब और बेसहारों की भी ईद का इंतजाम होता है और मूल रूप से रमजान का मकसद भी गरीबों से हमदर्दी का अहसास जगाना होता है। इबादत की अदायगी को मुसलमान गरीबों की खबरगीरी कर रहे हैं।

Recommended

देखिये लोकसभा चुनाव 2019 के LIVE परिणाम विस्तार से
Election 2019

देखिये लोकसभा चुनाव 2019 के LIVE परिणाम विस्तार से

जानिए अपने शहर के लाइव नतीजों की पल-पल की खबर
Election 2019

जानिए अपने शहर के लाइव नतीजों की पल-पल की खबर

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

लोकसभा चुनाव 2019 (lok sabha chunav 2019) के नतीजों में किसने मारी बाजी? फिर एक बार मोदी सरकार या कांग्रेस की चुनावी नैया हुई पार? सपा-बसपा ने किया यूपी में सूपड़ा साफ या भाजपा का दम रहा बरकरार? सिर्फ नतीजे नहीं, नतीजों के पीछे की पूरी तस्वीर, वजह और विश्लेषण। 23 मई को सबसे सटीक नतीजों  (lok sabha chunav result 2019) के लिए आपको आना है सिर्फ एक जगह- amarujala.com  Hindi news वेबसाइट पर.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Hardoi

संशोधित खबर : हरदोई से जयप्रकाश और मिश्रिख से अशोक कुमार चुने गए सांसद

संशोधित खबर : हरदोई से जयप्रकाश और मिश्रिख से अशोक कुमार चुने गए सांसद

24 मई 2019

विज्ञापन

जीत के बाद गरजे मोदी- 2 से अब दोबारा आ गए, लेकिन संस्कार नहीं छोड़ेंगे

लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के गठबंधन वाली एनडीए को प्रचंड बहुमत से जीत हासिल हुई है। इस जीत के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली स्थित पार्टी मुख्यालय में कहा कि हम दो से दोबारा आ गए, लेकिन संस्कार नहीं भूलेंगे।

24 मई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election