विज्ञापन

जर्जर पटरियों से हुआ हादसा

Hardoi Updated Thu, 21 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
हरदोई। बुधवार को मालगाड़ी के छह डिब्बों के पटरी से उतरने की घटना ने रेलवे सुरक्षा की पोल खोल दी। गनीमत यह रही कि मालगाड़ी के स्थान पर कोई सवारी गाड़ी नहीं थी। अगर मालगाड़ी के पहिए प्लेटफार्म की ओर ही उतरते तो बड़ा हादसा हो सकता था।
विज्ञापन

सवारी गाड़ी होने तथा मेन लाइन की ओर गाड़ी पलटने से हादसे की सूरत कुछ और ही होती है। कई डिब्बों के नीचे की पटरियां उखड़ कर पलट गई थीं। एडीआरएम ने अधिकारियों की तीन सदस्यीय टीम गठित कर जांच के निर्देश दिए हैं।
धनबाद से कोयला लेकर लालकुंआ जा रही मालगाड़ी तड़के स्थानीय स्टेशन पर पटरी से उतर गई। मालगाड़ी पटरी से नीचे उतरी तो वह प्लेटफार्म नंबर दो की ओर ही गिरी। ऐसे में मेन लाइन पूरी तरह से सुरक्षित रही और आवागमन तक प्रभावित नहीं हुआ जबकि यदि ट्रेन दूसरी ओर पटरी से उतरी तो ढलान पाकर डिब्बों के पलटने की आशंका थी जबकि लूप लाइन पर मालगाड़ी के स्थान पर सवारी गाड़ी होती तो भी घटना बड़ी हो सकती थी।
इस घटना ने रेलवे के जिम्मेदारों और पटरियों की बदहाली की पोल खोल दी। वैसे ‘अमर उजाला’ में कछौना से हरदोई स्टेशन के बीच जर्जर पटरियों पर दौड़ती ट्रेनों के संबंध में कई बार खबरें प्रकाशित की थीं। जबकि बुधवार की घटना इसी लापरवाही का उदाहरण है। मालगाड़ी के पहले डिब्बे को छोड़ कर दूसरे वैगन के नीचे की पटरियां उखड़ कर पलट गई और पहिए पलटी हुई पटरियाें पर चढ़ गए थे जिससे इस बात का अंदाजा लग रहा है कि पटरियों के क्लैंप या तो ढीले थे या फिर पटरियों को नीचे से मजबूती नहीं मिल रही थी जिसकी जांच कराई जाएगी। मुरादाबाद मंडल के एडीआरएम एके सिंघल ने घटना का जायजा लिया। उन्होंने घटना के संबंध में बताया कि ट्रेन चलना शुरू हुई थी और पटरी से उतर गई। इस वजह से ड्राइवर व गार्ड दोषी नहीं है। जबकि दुर्घटना की जांच के लिए अधिकारियों की तीन सदस्यीय टीम गठित की गई है। इसमें सहायक मंडल यांत्रिक अभियंत्रण अधिकारी, सहायक अभियंत्रण अधिकारी व सहायक मंडल परिचालक अधिकारी को नामित किया गया है। उन्होंने जांच जल्द से जल्द पूरी करने के निर्देश दिए हैं। रेलवे स्टेशन की अव्यवस्थाओं का ही नतीजा है कि बुधवार को मालगाड़ी को दोबारा पटरी पर चढ़ाने के लिए दुर्घटना सहायता ट्रेन के संग आए कर्मचारियों को पेयजल के लिए काफी परेशान होना पड़ा। बताते चलें कि प्लेटफार्म नंबर दो के वाटर बूथों पर की नल की टोटियां ही गायब थीं। ऐसे में पानी पीने के लिए कर्मचारियों को लंबा सफर करना पड़ा। कर्मचारी या तो प्लेटफार्म नंबर एक पर पानी पीने के लिए गए या फिर उनको प्लटेफार्म नंबर दो पर ही काफी पीछे जाना पड़ा जिससे राहत कार्य में ब्रेक लगते रहे।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us