प्रशासन की सख्ती बेअसर

Hardoi Updated Sun, 06 May 2012 12:00 PM IST
हरपालपुर। तहसील और जिला प्रशासन के कड़े तेवरों के बावजूद केंद्र प्रभारियों की मनमानी के चलते सरकारी गेहूं क्रय केंद्रों पर किसानों का गेहूं नहीं बिक रहा है।
किसानों के गेहूं की तौल आसमान से तारे तोड़ने के समान हो रही है। यहीं कारण है कि एक ओर क्रय केंद्रों पर सन्नाटा छाया रहता है, वहीं आढ़तियों के यहां गेहूं के ढेर लगे हैं। शासन-प्रशासन के स्पष्ट निर्देश हैं कि किसानों का गेहूं सीधे तौर पर खरीदकर 1285 रुपए प्रति कुंटल का उन्हें चेक से भुगतान दिया जाए, लेकिन कटियारी क्षेत्र में स्थित चार क्रय केंद्रों पर कभी पैसा न होने तो कभी बोरों का अभाव बताकर किसानों को टरका दिया जाता है, जबकि केंद्रों पर अभिलेखों में हर रोज गेहूं की खरीद की जा रही है। क्रय केंद्रों पर बिचौलिए और दलाल हावी है। जो 100 से 150 रुपए कमीशन के लिए किसानों पर दबाव डालते हैं।
हालांकि, एसडीएम सवायजपुर रवींद्र पाल सिंह ने बताया कि उन्होंने सभी क्रय केंद्रों का निरीक्षण किया, जिसमें किसी भी केंद्र पर अनियमितता नहीं मिली। उन्होंने बताया कि सभी खरीद केंद्रों पर राजस्व कर्मियों की ड्यूटी लगा दी गई है, जो प्रतिदिन की खरीद की रिपोर्ट देने के साथ केंद्रों पर नजर रखेंगे। एसडीएम ने कहा कि किसानों का गेहूं न खरीदने की शिकायत मिली है, जिस पर केंद्र प्रभारी के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाले के तीसरे केस में लालू यादव दोषी करार, दोपहर 2 बजे बाद होगा सजा का ऐलान

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी में कोहरे का कहर जारी, ट्रक और कार की टक्कर में तीन की मौत

कन्नौज के तालग्राम में आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे पर कोहरे के चलते एक भीषण सड़क हादसा हो गया। कोहरे की वजह से पीछे से आ रही कार के चालक को सड़क पर खड़ा ट्रक  नजर नहीं आया और उनमें कार जा टकराई। हादसे में तीन की मौत हो गई।

10 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls