‘सोच होती संकीर्ण’

Hardoi Updated Fri, 22 Nov 2013 05:42 AM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
हरदोई। भाषा को मजहब से जोड़कर नहीं देखना चाहिए। भाषा के संदर्भ में हमें संकीर्णता में नहीं जाना चाहिए। कोई भी भाषा नहीं, बल्कि सोच खराब होती है। सीएसएन पीजी कालेज में कौमी एकता सप्ताह के तहत भाषीय सद्भावना दिवस पर हुई संगोष्ठी में स्नातकोत्तर महाविद्यालय के पूर्व प्राचार्य डा. एनए अंसारी ने यह बात कही।
विज्ञापन

उन्होंने कहा कि किसी भी भाषा का कोई इलाका नहीं होता। हमें हर भाषा की इज्जत करनी चाहिए। जीडीसी के बीएड विभागाध्यक्ष डा. नागेंद्र नाथ यादव ने कहा कि पूरा विश्व एक परिवार है। एक ही भाषा को लेकर चलने से देश का विकास संभव नहीं। अपनी भाषा से प्रेम अवश्य रखें, पर उन भाषाओं के संरक्षण की आवश्यकता है, जो लुप्तप्राय है। प्रोफेसर अखिलेश बाजपेई ने कहा कि कोई भी भाषा मापदंड नहीं हो सकती। चीन, रूस, जर्मनी, जापान ने अपनी अपनी भाषाओं का विकास कर लिया। गांधी, विवेकानंद ने भी अंग्रेजी के बिना राष्ट्र को एक बनाए रखा। भाषा अपनी सीमा का जब अतिक्रमण करती है तब समस्या उत्पन्न होती है।
चंद्रशेखर आजाद कृषि विवि कानपुर के प्रोफेसर एसके सिंह ने कहा कि दूसरी भाषाओं को भी सीखना चाहिए। उनके अनुसार विचार प्रमुख है, दूसरे स्थान पर भाषा को रखा जा सकता है। शिक्षा विभाग से सेवानिवृत्त डा. सावित्री शुक्ल ने संगोष्ठी के दौरान अपने उद्बोधन में कहा कि हमारा देश एक महकता हुआ गुलदस्ता है। कई भाषाओं का समागम है। वैश्वीकरण के युग में हमें अनेक भाषाओं से भी जुड़ना पड़ेगा। डीआईओएस राम शंकर ने कहा कि स्वतंत्रता के पूर्व हमने एकता दिखाई तब हम स्वतंत्र हुए। हमें अपनी भाषा में निपुण होना चाहिए। कालेज प्राचार्य नरेश चंद्र शुक्ल ने कहा कि भाषा तो अभिव्यक्ति का माध्यम है।
यह विचारों के द्वारा संपर्क का माध्यम है। हम सबको सभी की भावनाओं का आदर करते हुए राष्ट्रीय विकास से जुड़ना चाहिए। संचालन दयाशंकर यादव ने किया। इस मौके पर मिथलेश मिश्रा, अरविंद सिंह, सुभाषचंद्र पांडे, रागिनी सिंह, माया प्रकाश, रामलड़ैते वर्मा, हरि शंकर वर्मा, संतोष कुमार आदि मौजूद थे।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us