विज्ञापन

महंगाई के हथौड़े से ‘आशियाना पर आफत’

Hardoi Updated Wed, 30 Jan 2013 05:30 AM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
हरदोई। महंगाई के हथौड़े ने अपना घर बनाने का लोगों का सपना चकनाचूर कर दिया है। दिन प्रतिदिन बढ़ रहे भवन निर्माण सामग्री के दामों से अब लोग तंग आ रहे है। आलम यह है कि खनन पर रोक लगने की आड़ में ईंट कारोबारियोें ने 40 फीसदी दाम बढ़ा दिए हैं। वहीं बालू भी ढाई गुनी कीमत पर मिल रही है। सरिया और मौरंग का तो हाल ही खराब है।
विज्ञापन

ऐसे में कमजोर तबके के लिए अपना घर बनाना अब एक सपना ही बनता जा रहा है। आवासीय स्थानों पर जमीन का भाव अब दो हजार स्क्वायर फिट तक पहुंच गया है। इसी तरह बालू एवं मौरंग के साथ ईंट के भाव लोगों के अपने घर के सपने को चकनाचूर कर रहे हैं। आलम यह है कि पिछले तीन माह में ईंट के दाम 40 फीसदी तक बढ़ गए हैं, जबकि बालू एवं मौरंग को लेकर कोई भाव ही नहीं रह गया है। जितने भाव जिससे मिल जाएं कम है। दरअसल खनन पर लगी रोक के चलते बालू, मौरंग एवं ईंट के दामों में बेतहाशा वृद्धि हो गई है। ज्ञात हो कि भवन निर्माण के लिए जमीन और ईंट ऐसी जरूरत है, जिस पर किसी भी भवन और घर की बुनियाद बनती है।
जब एक आम आदमी शहर में अपने घर का ख्वाब देखता है, तो जमीन से लेकर घर निर्माण पर आने वाला खर्च सोचकर कर ही उसका सपना टूटने लगा है। चालीस लाख आबादी एवं लगभग 12 लाख परिवार वाले इस जिले में अभी भी बीस से तीस फीसदी लोगों के पास अपना पक्का आशियाना नहीं है। हालांकि, पिछले 10 सालों में आवास योजनाओं के माध्यम से हजारों गरीबों को अपनी छत का आशियाना मिला है, मगर इसमें ग्रामीण क्षेत्रों को ज्यादा लाभ मिला है। शहरी क्षेत्रों में अभी भी बड़ी संख्या में लोग अपने आशियाना का सपना पूरा होने की राह देख रहे है।
ज्ञात हो कि शहर के आसपास लगे गांवों तक में जमीन के भाव काफी ऊंचे चल रहे हैं। मेन सिटी में तो घर बनाना सिर्फ कल्पना मात्र ही है। ऐसे में ईंटों आदि के बढ़े दामों ने लोगों को झकझोर दिया है। खास बात यह है कि महंगी होती भवन निर्माण सामग्री पर अंकुश लगाने के लिए प्रयास नहीं हो रहे हैं, जिसके कारण महंगाई बेलगाम होकर बढ़ रही है ।
इंसेट
लोन को भी बढ़ानी पड़ रही चुकौती अवधि
हरदोई। जमीन के रेट बढ़ने एवं निर्माण सामग्री की कीमतें बढ़ने से बढ़ रही भवनों की लागत के लिए बैंकों से होम लोन लेने वाले लोगों को अब किश्त कम करने को चुकौती अवधि बढ़ानी पड़ रही है। पहले सामान्य रूप से लोग 5 से 15 लाख रुपए का होम लोन 10 से 15 वर्षों की अवधि के हिसाब से किश्त बनवाते थे, पर महंगाई से बढ़ी लागत से अब लोगों को 8 से 20 लाख रुपए होम लोन कराने के साथ अवधि 25 वर्षों तक की रखनी पड़ रही है।
इंसेट
प्रमुख निर्माण सामग्री की कीमतें---
सामग्री कीमत पहले (रुपए में) अब
1000 ईंट 4000 6000
बालू फिट 12 32
मौरंग फिट 25 35
सीमेंट बोरी 235 275
इंसेट---
‘महंगाई से होम लोन के औसत अमाउंट में 30 से 40 फीसदी बढ़त हुई, जिससे बढ़ने वाली अदायगी किश्त को कम करने को लोगों द्वारा अदायगी की अवधि ज्यादा रखने की डिमांड बैंकों से की जा रही है। इसके लिए बैंकों ने होम लोन के लिए कई स्लैब बना रखे हैं। कम लोन लेने पर जहां ब्याज कम पड़ता है, वहीं ज्यादा लोन अमाउंट होने पर ज्यादा ब्याज पड़ता हैं। ऐसे में लोगों को ज्यादा लोन की जरूरत पड़ रही है, ऐसे में उन्हें ज्यादा ब्याज चुकाना पड़ता हैं।’ डॉ. अनिल लवानिया, एलडीएम
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us