‘अभी सुभाष जी मरे नहीं हैं, जनता में ईमान चाहिए’

विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
हापुड़। गणतंत्र दिवस के पावन मौके पर शहीदों की स्मृति में अमर उजाला और जिला प्रशासन के संयुक्त तत्वावधान में बुलंदशहर रोड स्थित सेलिब्रेशन हॉल में अमर उजाला राष्ट्र कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया। इसमें देर रात तक श्रोताओं ने जमकर लुत्फ उठाया। अपर जिलाधिकारी (संभल) अखिलेश मिश्रा की कविताओं को लोगों ने खूब सराहा।
विज्ञापन

कार्यक्रम की शुरुआत मुख्य अतिथि अपर जिलाधिकारी (वित्त एवं राजस्व) सत्यप्रकाश पटेल, एसडीएम जयशंकर मिश्रा, सीओ पवन यादव ने संयुक्त रूप से मां सरस्वती के चित्र के समक्ष दीप प्रज्ज्वलित कर किया।

मेरठ से आए कवि सत्यपाल सत्यम ने अपनी रचना ‘धरती से पानी निकलेगा, अर्जुन जैसा बाण चाहिए, मरघट के मुरदे उठ जाऐं, ऐसा स्वर में प्राण चाहिए, आजादी को कायम रखने की खातिर बलिदान चाहिए, अभी सुभाष जी मरे नहीं हैं जनता में ईमान चाहिए...’ से देशभक्ति की अलख जगाई। अपर जिलाधिकारी (संभल) अखिलेश मिश्रा ने अपनी रचना ‘रोटी खरीद लाया हूं ईमान बेचकर, घर में बचा था बस यही सामान बेचकर...’ श्रोताओं को सोचने पर मजबूर कर दिया। नजीबाबाद से आए कवि प्रदीप डेजी ने अपनी रचना ‘अहसास बिकते हैं, यहां परिहास बिकते हैं, यहां पतझड़ के मौसम में फकत मधु मास बिकते हैं... से लोगों को झिंझोड़ा। कार्यक्रम संचालक और कवि अनिल वाजपेयी ने ‘सितारा एक टूटे तो गगन खाली नहीं होता, झरे अगर फूल कोई तो चमन खाली नहीं होता... से श्रोताओं की तालियां बटोरीं। दिल्ली से आए लख्मी चंद सुमन ने ‘जिस्म भारत है मेरा दिल मेरा कश्मीर समझ, मेरे हर अंग को हर प्रांत की तस्वीर समझ...’ कवि देवेंद्र दीक्षित शूल ने ‘मातृ भूमि की खातिर जिसने अपने प्राण गवांए, छोड़ा मोह बहन पत्नी का तब आजादी लाए...’ से देशभक्ति का जज्बा दिखाया। कवि पंकज दीक्षित ने ‘जिस दिन मेरी बेटी ने मुझको परेशान देखा, उस दिन मैने उसे हंसते नहीं देखा...’ मेरठ से आए चंद्रशेखर मयूर, कवियत्री आराधना वाजपेयी, पूजा महेश, कवि महावीर वर्मा और शायर फसीह चौधरी ने भी अपनी रचनाओं से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया।
कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे साहित्यकार व कवि अशोक मैत्रेय ने ‘रोशनी की आंधियों में हम सफर करते रहे, झोपड़ी में हो उजाले, ये सपन पलते रहे...’ रहे से उम्मीद की किरण दिखाई। मौके पर कवियों को शाल, स्मृति चिन्ह व प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया। जबकि अपर जिलाधिकारी सत्यप्रकाश पटेल, उपजिलाधिकारी जयशंकर मिश्रा, सीओ पवन यादव, तहसीलदार कुमार भूपेंद्र, जनता दल (एस) के प्रमुख राष्ट्रीय महासचिव कुंवर दानिश अली, विधायक गजराज सिंह को भी स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X