उत्पीड़न के विरोध में उतरे ग्राम प्रधान

Hapur Updated Fri, 28 Dec 2012 05:30 AM IST
गढ़मुक्तेश्वर। फर्जी शिकायतों द्वारा हो रहे उत्पीड़न पर अंकुश की मांग को लेकर ग्राम प्रधान संगठन ने बृहस्पतिवार को ब्लॉक कार्यालय पर विरोध प्रदर्शन कर एकजुटता का संकल्प लिया।
क्षेत्र के कई गांवों के ग्राम प्रधान बृहस्पतिवार को ब्लॉक कार्यालय पर जमा हुए और विरोध प्रदर्शन किया। प्रधानों ने कहा कि चुनावी रंजिश के चलते कई लोग फर्जी शिकायतें कर उनका उत्पीड़न कर रहे हैं। ब्लॉक अध्यक्ष गुड्डू भैया ने कहा कि विकास की पहली सीढ़ी गांवों से होकर निकलती है, जिसमें ग्राम प्रधान की भूमिका महत्वपूर्ण होती है, लेकिन चुनावी रंजिश के चलते लोग फर्जी शिकायतों के आधार पर मुकदमे दर्ज कराकर प्रधानों को मनोबल तोड़ रहे हैं। इससे विकास कार्य प्रभावित हो रहे हैं। डा. यूसुफ बहादुरगढ़, सतीश फौजी भद्स्याना, बबलू भाटी लडपुरा आदि ने कहा कि पुलिस-प्रशासन को गंभीरता दिखाकर प्रधानों का उत्पीड़न रोकना होगा अन्यथा सीएम से गुहार लगानी होगी। फारूख खां अल्लाबख्शपुर, शीशराम डहरा, शिक्षादेवी कनौर, रूबा देवी कटीरा, मुख्त्यार कुरैशी मुहम्मदपुर आदि ने कहा कि उत्पीड़न पर अंकुश के लिए प्रधानों को पूरी तरह एकजुट होना होगा। संजीव त्यागी बिहूनी, विष्णु ठेरा, सत्यप्रिया रहरवा, आसमीन डिबाई आदि ने प्रतिमाह 15 तारीख को बैठक बुलाकर ग्राम प्रधानों की समस्या सुनने का प्रस्ताव रखा, जिसे सर्वसम्मति से मंजूर कर लिया गया।

Spotlight

Most Read

Shimla

कांग्रेस के ये तीन नेता अब नहीं लड़ेंगे चुनाव, चुनावी राजनीति से लिया संन्यास

पूर्व मंत्री एवं सांसद चंद्र कुमार, पूर्व विधायक हरभजन सिंह भज्जी और धर्मवीर धामी ने चुनाव लड़ने की सियासत को बाय-बाय कर दिया है।

17 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: इस बंदर और कुत्ते की दोस्ती एक मिसाल है

अक्सर हम सब ने बंदर और कुत्ते की दुश्मनी देखी है लेकिन हापुड़ में बंदर और कुत्ते के बच्चे का प्यार इन दिनों चर्चा का विषय बना हुआ है।

15 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper