मोबाइल टावर की किरणों से दिल, दिमाग हो रहे हैं बीमार

Hapur Updated Sat, 16 Jun 2012 12:00 PM IST
हापुड़। शहर में मोबाइल टावरों की भरमार है। इनसे निकलने वाली किरणें लोगों के दिल और दिमाग पर प्रभाव डाल रही हैं। चिकित्सकों का कहना है कि इनसे बचने
का आसान तरीका यह है कि मोबाइल फोन का प्रयोग कम कर दिया जाए।
शहर में करीब 117 मोबाइल टावर हैं। इनमें से कई घनी आबादी में लगे हुए हैं। लेकिन लोगों के इसके दुष्प्रभावों के बारे में जानकारी नहीं है। फिजिशियन एंड कार्डियोलाजिस्ट डा. गौरव मित्तल का कहना है कि मोबाइल टावर से निकलने वाली किरणें काफी खतरनाक होती हैं। इससे लोगों में अनिद्रा, चिड़चिड़ापन, सिरदर्द और हाईब्लड प्रेशर का खतरा बढ़ जाता है। इससे बहरेपन और कैंसर होने की संभावना भी बढ़ जाती है। इसलिए लोगों को इसके प्रभाव से बचना चाहिए।

जागो वरना हो जाएगा कैंसर
गढ़मुक्तेश्वर। मोबाइल टावरों से निकल रही मैगनेट किरणों से कारसीनोजेक इफैक्ट कैंसर का रोग फैला रहे हैं। बावजूद इसके सघन आबादी में मोबाइल टावर लगे हैं। गढ़ तहसील क्षेत्र में 9 मोबाइल कंपनियों के करीब 100 टावर लगे हुए हैं जबकि नगर सहित 117 गांव में है। सिंभावली प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र अधीक्षक डॉ. संजीव कुमार कहते हैं कि मोबाइल टावर से निकलने वाली मैगनेट किरणों से कैंसर हो सकता है। इससे बॉर्न तथा ब्लड कैंसर के चांस रहते है। उन्होंने बताया कि किरणें कारसीनोजेनिक इफैक्ट डालती हैं, जिससे कैंसर की सम्भावनाएं बढ़ जाती हैं। उन्होंने बताया कि पांच सौ मीटर के दायरे में ये किरणें ज्यादा नुकसान दायक हैं। उन्होंने बताया कि मोबाइल तथा टावर से निकलने वाली किरणें से हृदयघात की भी बीमारी होती है।

Spotlight

Most Read

Jharkhand

चारा घोटाला: चाईबासा कोषागार मामले में कोर्ट ने सुनाया फैसला, तीसरे केस में लालू दोषी करार

रांची स्थित विशेष सीबीआई अदालत ने चारा घोटाले के तीसरे मामले में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और आरजेडी के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव को दोषी करार दिया है। साथ ही पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्रा को भी दोषी ठहराया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: ‘पद्मावत’ पर बैन को लेकर सुप्रीम कोर्ट की सख्ती का असर दिख रहा है!

सुप्रीम कोर्ट की सख्ती के बावजूद ‘पद्मावत’ पर हो- हल्ला हो रहा है। ऐसे ही विरोध की तस्वीरें दिखाई दी हैं उत्तर प्रदेश के आगरा,सहारनपुर और हापुड़ में जहां पद्मावत का जबरदस्त विरोध हुआ।

23 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls