विज्ञापन

गढ़ की सड़कों में गड्ढों की भरमार

Ghaziabad Bureau Updated Wed, 12 Sep 2018 12:21 AM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विज्ञापन
सड़कों पर गड्ढों की भरमार, चलना दुश्वार
गढ़मुक्तेश्वर। गढ़ नगर की मुख्य सड़कों पर गड्ढों की भरमार है। इसकी तरफ पालिका-प्रशासन कोई ध्यान नहीं दे रहा है। गढ़ की मुख्य तीन सड़कों की मरम्मत न होने से हालात बदतर होते जा रहे हैं। बीते साल सड़कों को गड्ढा मुक्त करने के लिए लाखों खर्च किए गए, लेकिन बारिश होने के बाद गड्ढ़ा मुक्त अभियान की पोल खुल गई है।
बारिश के चलते गढ़ नगर की सभी मुख्य सड़कें क्षतिग्रस्त हो गई हैैं। इससे सड़कों पर हर समय धूल का गुबार लोगों के लिए परेशानी का सबब बन रहा है। सड़कों पर उड़ रही धूल से अस्थमा समेत विभिन्न बीमारियों से ग्रस्त लोगों को भारी परेशानी झेलनी पड़ रही है। शासन के निर्देश पर गत वर्ष सड़कों को गड्ढा मुक्त करने के लिए अभियान चलाया गया था, लेकिन बारिश ने सड़कों की मरम्मत की पोल खोलकर रख दी। पालिका-प्रशासन की अनदेखी के चलते अब तक इन सड़कों को ठीक नहीं किया गया है। इससे क्षेत्रीय लोगों में भी गुस्सा है। व्यापार मंडल अध्यक्ष मूलचंद सिंघल, समर्थ शिक्षा सेवा समिति सचिव उमेश लोधी, आलम आरा शिक्षा सेवा समिति के अध्यक्ष राजेश अधाना, भाकियू मंडल प्रवक्ता दिनेश खेड़ा, गढ़ व्यापार संघ अध्यक्ष कमल त्यागी समेत दर्जनों लोगों ने सड़कों की जल्द से जल्द मरम्मत कराने की मांग की है।

सीन-1
गढ़ नगर में सुभाष गेट से लेकर मीरा रेती तक की सड़क बदहाल है। इस सड़क पर कचहरी, सीएचसी समेत सरकारी पशु अस्पताल स्थित हैं, वहीं नेशनल हाइवे को जोड़ने के लिए संपर्क मार्ग भी है। इस पर अधिकारियों समेत हजारों लोगों का प्रतिदिन आवागमन होता है।

सीन-2
गढ़ चौपाला से नक्का कुआं मंदिर को जाने वाली सड़क में भी गड्ढों की भरमार है। इस सड़क पर कोतवाली समेत नगर का मुख्य नक्का कुआं मंदिर भी स्थित है। इसके अलावा गंगा खादर क्षेत्र के दर्जनों ग्रामीण और छात्र प्रतिदिन इस सड़क से गुजरते हैं। इस सड़क पर धूल का गुबार सबसे ज्यादा है, जो एलर्जी और अस्थमा के रोगियों के लिए सबसे बड़ी परेशानी है।

सीन-3
पुरानी दिल्ली रोड लखनऊ-दिल्ली हाइवे जोड़ने वाली सड़क पर चलना लोगों के लिए खतरों से भरा है। बारिश के चलते सड़क पर कई स्थानों पर गड्ढे हो गए। वहीं रेलवे फाटक पर बने ओवरब्रिज से नीचे उतरते ही सड़क बुरी तरह क्षतिग्रस्त है, जो ओवरब्रिज से होकर आने वाले वाहनों के लिए हर समय एक बड़ा खतरा बना हुआ है।

कोट
क्षतिग्रस्त सड़कों की विभागीय स्तर से जांच कराई जाएगी। संबंधित विभागों के अधिकारियों के साथ बैठक कर सभी सड़कों की मरम्मत का कार्य कराया जाएगा।
- ज्योति राय , एसडीएम

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Hapur

आज शाम आठ बजे से लागू हो जायेगा रूट डायवर्जन

आज शाम आठ बजे से लागू हो जायेगा रूट डायवर्जन

20 नवंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

यहां रेलवे अधिकारियों की लापरवाही ले सकती थी सैंकड़ों की जान!

हापुड़ के पिलखुआ रेलवे स्टेशन क्षेत्र के चंडी मंदिर के पास रेलवे ट्रैक चटकने से अधिकारियों में हड़कंप मच गया। जब तक रेलवे अधिकारियों को ट्रैक के टूटने की जानकारी हुई तब तक कई रेलगाड़ियां गुजर चुकी थीं।

11 नवंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree