विद्युत कर्मियों का सरकार के खिलाफ मोर्चा

Hamirpur Updated Wed, 27 Jun 2012 12:00 PM IST
हमीरपुर। बिजली बोर्ड बचाओ अभियान के तहत कर्मचारियों ने सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। राज्य विद्युत बोर्ड कर्मचारी संगठन ने अणु में मुख्य अभियंता कार्यालय के बाहर प्रदर्शन किया और सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। प्रदर्शन में बड़सर, नादौन, हमीरपुर के सैकड़ों विद्युत कर्मचारियों ने भाग लेकर हकों के लिए आवाज बुलंद की।
प्रदर्शन के दौरान संघ के प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप सिंह खरवाड़ा ने सीधे तौर पर सरकार पर आरोप लगाया कि सरकार बिजली बोर्ड को तहस नहस करने में लगी है। साजिश का कुप्रभाव बोर्ड कर्मचारियों, पेंशनर, विद्युत उपभोक्ताओं पर पड़ेगा। संघ ने 4 अप्रैल को पेंशनरों के मुद्दे पर शिमला में प्रदर्शन किया था, लेकिन समस्या का हल न होने पर ही कर्मचारी संघर्ष पर उतरने को मजबूर हैं। बोर्ड बचाओ अभियान के तहत 10 जुलाई को शिमला में हल्ला बोल रैली प्रस्तावित है। कर्मचारियों के संशोधित वेतनमान से जुड़े भत्ते, वेतन वृद्धियां तथा अन्य मांगें लंबित पड़ी हुई है। सरकार की गलत नीतियों के कारण बोर्ड की आर्थिक दशा खराब होती जा रही है। हालात इस कदर खराब हो गए हैं कि कर्मचारियों को आर्थिक लाभ देने के लिए बोर्ड को ऋण लेना पड़ रहा है। सरकार की नीतियों के कारण बोर्ड कर्मचारियों सहित उपभोक्ताओं को भी खामियाजा भुगतना पड़ सकता है।
उन्होंने कहा कि बोर्ड कर्मचारियों ने मेहनत करके बोर्ड का विस्तार किया है। बोर्ड में कर्मचारियों की संख्या भी दिन प्रतिदिन कम हो रही है। इस कारण बोर्ड को घाटा उठाना पड़ रहा है। बिजली बोर्ड में सैकड़ों तकनीकी कर्मचारियों की कमी है। यूनियन के महामंत्री हीरा लाल, जगमैल ठाकुर, कामेश्वर शर्मा, डीडी राणा, पवन मोहित, रोशन मिन्हास, दौलत राम, विजय ठाकुर, डीके राणा, सुदेश राणा, जेके धीमान, सुरेश, बृजलाल, रुप सिंह सहित अन्य कर्मचारियों ने भाग लिया।

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी दिवस: प्रदेश को 25 हजार करोड़ की योजनाओं की सौगात, योगी बोले- आज का दिन गौरवशाली

यूपी दिवस के मौके पर प्रदेश को सरकार ने 25 हजार करोड़ करोड़ की योजनाओं की सौगात दी। मुख्यमंत्री योगी ने आज के दिन को गौरवशाली बताया।

24 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: हमीरपुर में इस वजह से एक साथ 30 से ज्यादा बच्चे बीमार

हमीरपुर के थाना कुरारी में एक सरकारी स्कूल के तीस से ज्यादा बच्चों की हालत बिगड़ने के बाद उन्हें सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया।

18 जनवरी 2018